Feeds:
Posts
Comments

From: Saradindu Mukherji < >

Satya D wrote:

PRESS RELEASE FOR

NEW YORK CITY SABARIMALA RALLY

HELD ON NOV 10TH 2018

AT INDIAN CONSULATE & TIMES SQUARE

(HIGHLIGHTING THE NEXUS OF CORRUPT JUDICIARY, MISSIONARIES AND LEFTISTS GOVERNMENTS) admin | November 12,

Satya Dosapati < > New York, Nov 10, 2018:

New York and New Jersey Hindu Americans gathered near New York City Consulate on Nov 10th to express their solidarity to Sabarimala devotees, and call to respect age old traditions and beliefs.   They later assembled at the well-known Times Square to make a statement to ‘Save Sabarimala’.

Photos and videos of the event can be obtained from https://drive.google.com/drive/folders/1rdPngOW6IkFq9Bvt2uCdwE-FqNN9m2P0?

usp=sharing

To the singing of Ayyappa bhajans and dancing to the Lord, slogan shouting against Kerala communist Government atrocities on Sabarimala devotees and the need to free Hindu Temples from Government control, with messages on unfair judicial overreach of Supreme Court on the issue, the connection of the missionary and divisive forces in the country, the crowd has made a very effective statement on the Sabarimala issue.

Most of the participants in the rally are women who made statement that they join with millions of women who stand to respect the age-old traditions.  The participants drove home the Sabarimala issue from various aspects of the case in their interactions with the media as given below. Judicial aspects:  There are many issues of the Judiciary handling of this case.

Whose fundamental rights is Supreme Court protecting by their judgement?

Who are those initiating the request?

While they may have Hindu sounding names, does the 4 out of 5 justices who delivered majority judgment have any basic knowledge of Hindu customs and traditions, especially of the region?

Why is it only Hindu temples and Hindu festivals/activities subjected to state control of limiting time for burning Diwali firecrackers, or to Jallikatttu?

Why these are on the receiving end of the SC judgments?

What business SC has got in delivering judgments on age old traditions when there is no institutional discrimination?

India’s traditions and customs are based on 10,000-year-old ancient heritage/ tradition. So how can Supreme Court view this case based on foreign concept of ‘denomination’ instead of concept of ‘the muurti as living God’ in Hindu tradition?

Do these judges have any common sense? Why it does not look at the way these cases are being brought to court by shady anti-Hindu NGOs with missionary and leftist leanings who have little respect to India’s ancient heritage and are bent on destroying the ancient Indian traditions so as to convert and divide India?

Do they care to study all the history of missionary activities to destroy the Sabarimala temple precisely because it is the place where largest number of devotees visit in any worship place in the world (50 million compared to 3 million to Mecca per year for example)? Why destroying and exploiting it becomes the first priority?

When you read the judges arguments about the case, one wonders whether this case is being heard in Indian court or in the court during the era of colonialist judges.  These justices need to study Mahatma Gandhiji’s abhorrence to missionary ways and the threat it poses to nationhood!  Living in ivory towers, connected mostly only to rich and powerful, disconnected from the roots of their own country, the judiciary of India has become an increasingly corrupt institution that needs serious intervention.

A lot can be said about SC Judges’ behavior, their overreach in case of Hindus and cowardice in case of non-Hindus, particularly Muslims and Christians.   In the case of Triple Tallak the same Supreme Court insisted on the victims to file, but in case of Sabarimala they cared little on who is filing the case.  As it turned out, most of those who attempted entry to Sabarimala are Christians, and even a Muslim woman who is believed to have carried a soiled sanitary napkin as an offering to the Lord to insult and disgrace.    It is the women devotees who faced the brutal police beatings and arrests that resisted their entry and calling for respecting traditions.

Did these so-called learned judges consider the traditions of the region where there are festivals, only women are allowed; and the concept of muurti as ‘the living God’ that needs to respect celibacy status?

Are they living in another world, not to know that the Indian heritage and Hinduism is the only major religion in the world that grandly celebrates feminine in divinity as observed by worship of feminine during 9-day Navarathri, and many in the West who are struggling to bring feminine in divinity are awed by India’s traditions of respecting feminine in divinity?

The lawyers brought to the attention of the court the Hindu concept of ‘Ardha Nareeswara’ where man and woman are equal halves in Hindu religion, but they ignored and argued based on foreign concept of denominations.   They say they are protecting the fundamental rights, but in truth are cowards who dare not address the institutional discrimination in every single one of the millions of Mosques that do not permit Muslim women to worship.   Even the Mosque right close to Sabarimala temple made clear that they will not allow women to enter the Mosque!

Don’t the Judges know that only Hindu temples are being looted to the hilt by State Governments; but they have scant respect to the concerns of Hindus and dismiss the cases that brought attention to them.  They care little; the same loot (from Hindu temples) is used for secular purposes and even to fund the trips to Hajj and Bethlehem while their worship places are never touched!

If Delhi is believed to have pollution due to Diwali crackers (which is not true because it is now understood due to Monsanto dictated schedule of burning the crops) why would they restrict Diwali fire crackers throughout the country?

Millions of animals are slaughtered in the worst possible display with enormous amount of water and pollution during Eid and other festivals; and is that not pollution?

Jallikattu is supposedly animal cruelty, but mass slaughtering of animals filling large parts of the country with blood and animal waste is not animal cruelty?

They are concerned about rights of Rohingyas, but the little concern for plight of half million Kashmiri Hindus who were thrown out of their own homes for last 30 years.

The Green Tribunal is even concerned about devotees chanting in Amarnath! Reasons are invented that even Ganesha worship is contributing to pollution.   There is an organized and coordinated attack of India’s ancient heritage/ traditional way of life, and the anti-Hindus are inventing all kinds of methods and excuses using Courts and Green Tribunals with its corrupt and pliable justices by the missionary, leftists and divisive forces and the country need to wake up to what is going on.

State Government aspects:   Even if Supreme Court passed judgement, what is the reason for State Government to hurry to implement using such large police forces, resorting to beatings and arrests of unarmed devotees begging to respect traditions?

There are many Supreme Court cases’ (judgements?) including the noise pollution of the Mosques 5-times a day, 365 days a year they have not implemented.

Why would they appoint non-Hindus to Devaswom (Devasthan) board?

The truth is the missionary/ leftist complex want to convert the Sabarimala temple into ‘Museum’ and exploit the surrounding rich area, and the money from devotees for corruption and other activities just as they did throughout the history to the native religions in the world (e. g, the pagan harvest festival is today Halloween with black Friday sales activity in US).   The same secular Government loots the devotee’s contributions with hefty charges, but provides land for a nearby church free.

Missionary and divisive forces:  The biggest factor in the coordinated attacks on India’s heritage, of which Sabarimala is only one of cases, is caused by the of missionary and divisive forces of India.   The history of missionary attacks on Sabarimala is well known, in 1950 they set fire and burnt the temple down.  They invented a bogus cross which they implanted to take over the area that was quickly exposed.   The history of missionary activity throughout the world, and how they treated so called, ‘pagan’ religions, is well known from Americas to Africa to Asia.

The fact that Sabarimala receives 50 million devotees per year, the highest in the world with largest contributions makes Sabarimala the prime target.   The article http://indiafacts.org/christian-conspiracy-sabarimala/  explains in detail the missionary agenda on Sabarimala.  Missionaries are actively engaging in anti-superstition bills across the country to categorize the Hindu ways of worship as demonic practices as they did throughout the world to pagan religions.

Before long, even Ganesha worship will be categorized as devil worship.  Using millions of dollars of foreign funds, they are working with corrupt leftists Governments, courts and dubious tribunals inventing all kinds of excuses to deal a final blow to Hindu way of life.

Social aspects:   There are many social aspects to Sabarimala tradition where devotees follow 41 days of austere practices of prayers, abstaining from meat, alcohol and treating every other person as ‘Swami’ equivalent to Ayyappa.   This has for many become a redirection of compass, their physical and mental health.   For many poor families where women and children suffer from drinking habits of male members, this practice has helped them to stop drinking and improve the conditions of the family.

It is the women and families who will be affected most by sacrilege of the faith they dearly hold. Hindus worldwide are waking up to the civilizational challenges especially in a corrupt system of missionaries, judiciary, media, politicians.    They (the Hindus) do not want to me mute observers to this assault.

As the rally dispersed, they mused that Mahatma Gandhi will be turning around in his grave to see what missionaries with local colluders are doing to Hindu way of life and assaulting India, with determination to fight back.

It is deja vu again.

===========================================

Quotes from Inglorious Empire

Below are some selected quotes, and some my notes, I hand-wrote when I was reading the book: Inglorious Empire by Shashi Tharoor.

Quotes & Notes from Inglorious Empire

The first chapter describes the loot for 200 years by the British without any mercy, and it was very disturbing to me to read/know it.

All the Bhaaratiyas, no, all educated humans should read the book.

You may read about the book at:

jaya sri krishna!

-Suresh Vyas

 

From: Prabhulal H. Bharadia < >

Parsis of India, A pride of India
The Reaction Of PARSY Community for Rahul ‘S Allegations Against TATAS !!! Pl go through their Reactions !!!!
😠😡👊
*Open letter to RAGA by a Parsi Gentleman*.👇👇👇

*Dear Mr. Rahul Gandhi.*😢

I am forced to write this to you since you have crossed all limits for a person who is definition of the word gentleman. I do agree that you politicians drag each other in your dirty politics. But my question is why did u drag the gentleman who has done this nation proud. During your recent various visits to Gujarat, I have observed that in each of your rally you have mentioned this Parsi Gentleman’s name. Do you even know what sort of person he is ? Have you even thought of the loss which you will have to bear by dragging this Parsi Gentleman’s into your dirty politics. See the grace of this man that he has not even bothered to react to your constant pocking. That is the brand value he has. In each of the rally, You are actually putting fingers in his mouth waiting that he will react but plz try n understand that he is above all this. If we common people can understand this, how come you can’t. This assures me to believe our PM’s view regarding your IQ. Every morning you shouted in Gujarat that Modi gave 33,000 crores to that Gentleman at free of cost. Do you even think before you speak. Pl go through the Tata Motors statement regarding your rubbish mockery. I still feel that Tata Motors Ltd. should also have refrained from issuing statement with regards to your comment. As the world knows what is Tata legacy. For a change, even if I assume that Tata’s were given free land then there is nothing wrong after all, the good charity Tata Trust does for the society. It is better to give land to tata’s instead of Robert Vadra as at least the profits generated by Tata Companies will be used for charity whereas we know of your family.

Today, as we go for the first round of polls, my only request is pl remorse your statement. We Parsis may be very less in numbers to affect your vote bank but there are many sympathy bearers in other community for us who will surely react n affect your results. I know that this will not make a big impact on results as you have people like Mani Shankar Iyer who are sufficient to ensure that you loose. But by taking back this statement, you will atleast get some bonus points. We Parsis consider India as our motherland so how can we think of selling the same. It’s a pitty that you think so low (plz contact Mani Iyer for meaning of low) for a person (Tata’s) who celebrated this Diwali by donating 1000 crores for Cancer Hospitals while you were celebrating Diwali out of India. Hope you will apologize after reading this & prove that you are not a Pappu.
Regards,
~~~~~~~~~~*Tribute to Parsis*

Parsis are just 0.1% of total population, or maybe even less……….YET………

They never asked for minority status…

They never asked for reservations…

They never f​ight​ with Indian Government…

They never felt threatened by Hindus…

They never throw bombs or stones or damage public property…

They never indulge in crimes or run the underworld…

All they do is to contribute mightily to the progress of India…

They gave us the best…..
👍
Mr. Dadabhoy Naoroji

​Mr. J R D Tata​

Mr. Firozshah Mehta..

Mr. Bhikaji Cama…

Mr. Ratan Tata… 

Mr. Adi Godrej…

Mr. Cyrus Mistry…

Mr. Homi Bhabha…

Mr. Zubin Mehta… 

Mr. Nari Contractor…

Mr. Nani Palkhiwala

Mr. Farokh Engineer…

Mr.Soli Sorabjee…

Ms. Persis Khambata…

Ms. Daizy Irani…

Mr. Homi Wadia…

Mr. Rustom Karanjia…

Mr. Dinshaw Petit…

Mr. Shapurji Pallonji…

Mr. Rusy Mody…

Mr. Boman Irani…

Ms.Perizad Zorabian..

Mr. Cyrus Poonawala…

Mr. Shyamak Dawar…

Mr. Cyrus Bharucha…

Ms. Bachi Karkaria…

Mr. Busybee… 

Mr. Keki Mistry…

Mr. Bejan Daruwala…

Mr. Mehraboon Irani…
the list is endless….

and above all, 

the one and only 

FIELD MARSHAL SAM MANEKSHAW !!

Each one of us Indians love & respect

Parsis…They are best gift by Almighty to India…

They are a beautiful People…A beautiful and dignified Race….

I wish we had more of the Parsis who could teach our other greedy minorities as to what minority really means……It means NOT to be parasite or a leech on the host country…It means to give, & NOT to take…

All those who are asking for minority status, then and today, ought to be ashamed of themselves.

You owe a lot to this nation. Pay back, rather than asking from nation.

_Kindly circulate. Let it reach to all those who are already minority and to all those who are still asking for ​special status._

Hindus need to see this very short video.

Please share with Hindus you know.

Thanks.

Suresh Vyas.

From: Kumar Arun < >

Number One Problem For Largest Democracy-India

Almost every intellectuals and corrupt politicians in India, have been lecturing the entire world about their favorite party’s pseudo-development but how much are they right? No political party, including four plus years of Modi government ever talked about explosion in population. If this is the way Indians keep producing, by 2050, the land of Hindus will turn into land of Muhammad for ever, no if & but (read UNO report).
If Modi government fails to establish following revolutionary change within his next term, goodbye to Hindutwa:
  1. Replace current constitution with a new one based upon Vedic Philosophies and Traditions
  2. Total elimination of Sharia laws from the land of Ram & Krish’n
  3. One marriage at a time and not more than 2 children in one family regardless of multiple marriages. 
  4. Eliminate reservation of any kind and replace with government subsidized free education to poor only
  5. Term Limit for any and all politicians, NO pension or any kind f perks for their services. 

Respectfully,

 
Dr. Kumar Arun
f: India Heritage Foundation
November 5, 2018

From: Vivek Arya < >

(यह लेख उन मतांधों के लिए है जो आज के दिन औरंगज़ेब की 400वीं जयंती गर्व से बनाने की मूर्खता कर रहे है)

मुगल खानदान में सबसे लम्बे समय तक राज औरंगज़ेब का रहा था। जितना लम्बा औरंगज़ेब का राज था उतनी ही लम्बी उसके अत्याचारों की सूची थी। भारत के 1947 में स्वतंत्रता प्राप्त करने के पश्चात पाठ्यकर्म में इतिहास के उन रक्तरंजित पृष्ठों को जिनमें मुसलमानों ने हिन्दुओं पर अथाह अत्याचार किये थे स्थान नहीं दिया गया। देश के नीतिकारों का मानना था कि इससे हिन्दू -मुस्लिम वैमनस्य फैलेगा। मेरे विचार से यह सोच अपरिपक्वता की बोधक है। देशवासियों को सत्य के दिग्दर्शन करवाने से देश के नागरिकों विशेष रूप से मुसलमानों को जितना सत्य का बोध होगा, उतने वे अपने आपको भारतीयता के निकट समझेगे। जब समस्त देशवासियों को चाहे हिन्दू हो या मुसलमान यह बोध होगा कि सभी के पूर्वज श्री राम और श्री कृष्ण जी को अराध्य रूप में मानते थें। इससे धर्म के नाम पर होने वाले विवाद अपने आप रुक जाते। सत्य की आवाज़ का गला दबाने के कारण रह रहकर यह उठती रही और इस समस्या का हल निकालने के स्थान पर उसे और अधिक विकट बनता रहा। कुछ अवसरवादी लोग अपने क्षणिक लाभों की पूर्ति के लिए उनका गलत फायदा उठाते रहते हैं। ऐसा ही अन्याय औरंगज़ेब को आलमगीर, जिन्दा पीर और महान शासक बताने वाले लोगों ने देशवासियों के साथ किया हैं।

औरंगजेब को न्यायप्रिय एवं शांतिदूत सिद्ध करने के लिए एक छोटी सी पुस्तक “इतिहास के साथ यह अन्याय: प्रो बी एन पाण्डेय” हाल ही में प्रकाशित हुई है । पुस्तक के लेखक दुनिया के सबसे अनभिज्ञ प्राणी के समान व्यवहार करते हुए लिखता है कि औरंगजेब ने अपने आदेशो में किसी भी हिन्दू मंदिर को कभी तोड़ने का हुकुम नहीं दिया। अपितु औरंगज़ेब द्वारा अनेक हिन्दू मंदिरों को दान देने का उल्लेख मिलता हैं। लेखक ने बनारस के विश्वनाथ मंदिर को दहाने के पीछे यह कारण बताया है कि औरंगजेब बंगाल जाते समय बनारस से गुजर रहा था। उसके काफिले के हिन्दू राजाओं ने उससे विनती की कि अगर बनारस में एक दिन का पड़ाव कर लिया जाये तो उनकी रानियाँ बनारस में गंगा स्नान और विश्वनाथ मंदिर में पूजा अर्चना करना चाहती हैं। औरंगजेब ने यह प्रस्ताव तुरंत स्वीकार कर लिया। सैनिकों की सुरक्षा में रानियां गंगा स्नान करने गई। उनकी रानियों ने गंगा स्नान भी किया और मंदिर में पूजा करने भी गई। लेकिन एक रानी मंदिर से वापिस नहीं लौटी। औरंगजेब ने अपने बड़े अधिकारियों को मंदिर की खोज में लगाया। उन्होंने देखा की दिवार में लगी हुई मूर्ति के पीछे एक खुफियाँ रास्ता है और मूर्ति हटाने पर यह रास्ता एक तहखाने में जाता है। उन्होंने तहखाने में जाकर देखा की यहाँ रानी मौजूद है। जिसकी इज्जत लूटी गई और वह चिल्ला रही थी। यह तहखाना मूर्ति के ठीक नीचे बना हुआ था। राजाओं ने सख्त कार्यवाही की मांग की। औरंगजेब ने हुक्म दिया की चूँकि इस पावन स्थल की अवमानना की गयी है। इसलिए विश्वनाथ की मूर्ति यहाँ से हटाकर कही और रख दी जाये और मंदिर को तोड़कर दोषी महंत को सख्त से सख्त सजा दी जाये। यह थी विश्वनाथ मंदिर तोड़ने की पृष्ठभूमि जिसे डॉक्टर पट्टाभि सीतारमैया ने अपनी पुस्तक “Feather and the stones” में भी लिखा हैं। आइये लेखक के इस प्रमाण की परीक्षा करे –

1. सर्वप्रथम तो औरंगजेब के किसी भी जीवन चरित में ऐसा नहीं लिखा है कि वह अपने जीवन काल में युद्ध के लिए कभी बंगाल गया था।

2. औरंगजेब के व्यक्तित्व से स्पष्ट था कि वह हिन्दू राजाओं को अपने साथ रखना नापसंद करता था क्यूंकि वह उन्हें “काफ़िर” समझता था।

3. युद्ध में लाव लश्कर को ले जाया जाता हैं ना कि सोने से लदी हुई रानियों की डोलियाँ लेकर जाई जाती हैं।

4. जब रानी गंगा स्नान और मंदिर में पूजा करने गयी तो उनके साथ सुरक्षा की दृष्टी से कोई सैनिक थे तो फिर एक रानी का अपहरण बिना कोलाहल के कैसे हो गया?

5. दोष विश्वनाथ की मूर्ति का था अथवा पाखंडी महंत का तो सजा केवल महंत को मिलनी चाहिए थी। हिन्दुओं के मंदिर को तोड़कर औरंगजेब क्या हिन्दुओं की आस्था से खिलवाड़ नहीं कर रहा था?

6. पट्टाभि जी की जिस पुस्तक का प्रमाण लेखक दे रहे है सर्वप्रथम तो वह पुस्तक अब अप्राप्य है। दूसरे उस पुस्तक में इस घटना के सन्दर्भ में लिखा है कि इस तथ्य का कोई लिखित प्रमाण आज तक नहीं मिला है। केवल लखनऊ में रहना वाले किसी मुस्लिम व्यक्ति को किसी दूसरे व्यक्ति ने इसका मौखिक वर्णन देने के बाद। इस का प्रमाण देने का वचन दिया था। परन्तु उसकी असमय मृत्यु से उसका प्रमाण प्राप्त न हो सका। इस व्यक्ति के मौखिक वर्णन को प्रमाण बताना इतिहास का मजाक बनाने के समान ही है। कूल मिला कर यह औरंगजेब को निष्पक्ष घोषित करने का एक असफल प्रयास के अतिरिक्त ओर कुछ नहीं है।

सत्य तो इतिहास है और इतिहास का आंकलन अगर औरंगजेब के फरमानों से ही किया जाये तो निष्पकता उसे ही कहेंगे। फ्रेंच इतिहासकार फ्रैंकोइस गौटियर (Francois Gautier) ने औरंगजेब द्वारा फारसी भाषा में जारी किये गए फरमानों को पूरे विश्व के समक्ष प्रस्तुत कर सभी छदम इतिहासकारों के मुहँ पर ताला लगा दिया। जिसमे हिन्दुओं को इस्लाम में दीक्षित करने और हिन्दू मंदिरों को तोड़ने की स्पष्ट आज्ञा थी। ध्यान दीजिये औरंगजेब ने “आलमगीर” बनने की चाहत में अपनी सगे भाइयों की गर्दन पर छुरा चलाने से लेकर अपने बूढ़े बाप को जेल में डालकर प्यासा मारा था। तो उससे हिन्दू प्रजा की सलामती की इच्छा रखना बेईमानी होगी।

औरंगजेब द्वारा हिन्दू मंदिरों को तोड़ने के लिए जारी किये गए फरमानों का कच्चा चिट्ठा

1. 13 अक्तूबर,1666- औरंगजेब ने मथुरा के केशव राय मंदिर से नक्काशीदार जालियों को जोकि उसके बड़े भाई दारा शिकोह द्वारा भेंट की गयी थी को तोड़ने का हुक्म यह कहते हुए दिया कि किसी भी मुसलमान के लिए एक मंदिर की तरफ देखने तक की मनाही है। और दारा शिको ने जो किया वह एक मुसलमान के लिए नाजायज है।

2. 12 सितम्बर 1667- औरंगजेब के आदेश पर दिल्ली के प्रसिद्द कालकाजी मंदिर को तोड़ दिया गया।

3. 9 अप्रैल 1669 को मिर्जा राजा जय सिंह अम्बेर की मौत के बाद औरंगजेब के हुक्म से उसके पूरे राज्य में जितने भी हिन्दू मंदिर थे, उनको तोड़ने का हुक्म दे दिया गया और किसी भी प्रकार की हिन्दू पूजा पर पाबन्दी लगा दी गयी। जिसके बाद केशव देव राय के मंदिर को तोड़ दिया गया और उसके स्थान पर मस्जिद बना दी गयी। मंदिर की मूर्तियों को तोड़ कर आगरा लेकर जाया गया और उन्हें मस्जिद की सीढियों में गाड़ दिया गया और मथुरा का नाम बदल कर इस्लामाबाद कर दिया गया। इसके बाद औरंगजेब ने गुजरात में सोमनाथ मंदिर का भी विध्वंश कर दिया।

4. 5 दिसम्बर 1671 औरंगजेब के शरीया को लागु करने के फरमान से गोवर्धन स्थित श्री नाथ जी की मूर्ति को पंडित लोग मेवाड़ राजस्थान के सिहाद गाँव ले गए। जहाँ के राणा जी ने उन्हें आश्वासन दिया की औरंगजेब की इस मूर्ति तक पहुँचने से पहले एक लाख वीर राजपूत योद्धाओं को मरना पड़ेगा।

5. 25 मई 1679 को जोधपुर से लूटकर लाई गयी मूर्तियों के बारे में औरंगजेब ने हुकुम दिया कि सोने-चाँदी-हीरे से सज्जित मूर्तियों को जिलालखाना में सुसज्जित कर दिया जाये और बाकि मूर्तियों को जामा मस्जिद की सीढियों में गाड़ दिया जाये।

6. 23 दिसम्बर 1679 औरंगजेब के हुक्म से उदयपुर के महाराणा झील के किनारे बनाये गए मंदिरों को तोड़ा गया। महाराणा के महल के सामने बने जगन्नाथ के मंदिर को मुट्ठी भर वीर राजपूत सिपाहियों ने अपनी बहादुरी से बचा लिया।

7. 22 फरवरी 1980 को औरंगजेब ने चित्तोड़ पर आक्रमण कर महाराणा कुम्भा द्वाराबनाएँ गए 63 मंदिरों को तोड़ डाला।

8. 1 जून 1681 औरंगजेब ने प्रसिद्द पूरी का जगन्नाथ मंदिर को तोड़ने का हुकुम दिया।

9. 13 अक्टूबर 1681 को बुरहानपुर में स्थित मंदिर को मस्जिद बनाने का हुकुम औरंगजेब द्वारा दिया गया।

10. 13 सितम्बर 1682 को मथुरा के नन्द माधव मंदिर को तोड़ने का हुकुम औरंगजेब द्वारा दिया गया। इस प्रकार अनेक फरमान औरंगजेब द्वारा हिन्दू मंदिरों को तोड़ने के लिए जारी किये गए।

हिन्दुओं पर औरंगजेब द्वारा अत्याचार करना

2 अप्रैल 1679 को औरंगजेब द्वारा हिन्दुओं पर जजिया कर लगाया गया जिसका हिन्दुओं ने दिल्ली में बड़े पैमाने पर शांतिपूर्वक विरोध किया परन्तु उसे बेरहमी से कुचल दिया गया। इसके साथ-साथ मुसलमानों को करों में छूट दे दी गयी जिससे हिन्दू अपनी निर्धनता और कर न चूका पाने की दशा में इस्लाम ग्रहण कर ले। 16 अप्रैल 1667 को औरंगजेब ने दिवाली के अवसर पर आतिशबाजी चलाने से और त्यौहार बनाने से मना कर दिया गया। इसके बाद सभी सरकारी नौकरियों से हिन्दू कर्मचारियों को निकाल कर उनके स्थान पर मुस्लिम कर्मचारियों की भरती का फरमान भी जारी कर दिया गया। हिन्दुओं को शीतला माता, पीर प्रभु आदि के मेलों में इकठ्ठा न होने का हुकुम दिया गया। हिन्दुओं को पालकी, हाथी, घोड़े की सवारी की मनाई कर दी गयी। कोई हिन्दू अगर इस्लाम ग्रहण करता तो उसे कानूनगो बनाया जाता और हिन्दू पुरुष को इस्लाम ग्रहण करनेपर 4 रुपये और हिन्दू स्त्री को 2 रुपये मुसलमान बनने के लिए दिए जाते थे। ऐसे न जाने कितने अत्याचार औरंगजेब ने हिन्दू जनता पर किये और आज उसी द्वारा जबरन मुस्लिम बनाये गए लोगों के वंशज उसका गुण गान करते नहीं थकते हैं।

एक मुहावरा है कि एक जूठ को छुपाने के लिए हज़ार जूठ बोलने पड़ते हैं। औरंगज़ेब को न्यायप्रिय घोषित करने वालों ने तो उसके अत्याचार और मतान्धता को छुपाने के लिए इतने कमजोर साक्ष्य प्रस्तुत किये जो एक ही परीक्षा में ताश के पत्तों के समान उड़ गए। यह भारत के मुसलमानों के समक्ष यक्ष प्रश्न है कि उनके लिए आदर्श कौन है?

औरंगज़ेब जैसा अत्याचारी अथवा उसके अत्याचार का प्रतिकार करने वाले वीर शिवाजी महाराज।

डॉ विवेक आर्य

सन्दर्भ लेख

1. फ्रैंकोइस गौटियर (Francois Gautier) द्वारा प्रकाशित औरंगज़ेब के फारसी भाषा के फरमानों की सूची

2. कोनरेड एल्स्ट (Koenraad Elst) द्वारा प्रकाशित लेख Why did Aurangzeb Demolish the Kashi Vishvanath?

3. इतिहास के साथ यह अन्याय: प्रो बी एन पाण्डेय

 

From: Pramod Agrawal < >

आजाद हिन्द फ़ौज की एक अल्पज्ञात सैनानी नीरा

 

आर्य – जिसने काला पानी में झेले अंग्रेजों के

 

अत्याचार ! 0  शुक्रवार, 26 अक्तूबर 2018

आजाद हिन्द फ़ौज की एक अल्पज्ञात सैनानी नीरा आर्य - जिसने काला पानी में झेले अंग्रेजों के अत्याचार !


5 मार्च 1902 को तत्कालीन संयुक्त प्रांत के खेकड़ा नगर में एक प्रतिष्ठित व्यापारी सेठ छज्जूमल के घर जन्मी नीरा आर्य आजाद हिन्द फौज में रानी झांसी रेजिमेंट की सिपाही थीं, जिन पर अंग्रेजी सरकार ने गुप्तचर होने का आरोप भी लगाया था। इन्हें नीरा ​नागिनी के नाम से भी जाना जाता है। इनके भाई बसंत कुमार भी आजाद हिन्द फौज में थे। इनके पिता सेठ छज्जूमल अपने समय के एक प्रतिष्ठित व्यापारी थे, जिनका व्यापार देशभर में फैला हुआ था। खासकर कलकत्ता में इनके पिताजी के व्यापार का मुख्य केंद्र था, इसलिए इनकी शिक्षा-दीक्षा कलकत्ता में ही हुई। नीरा नागिन और इनके भाई बसंत कुमार के जीवन पर कई लोक गायकों ने काव्य संग्रह एवं भजन भी लिखे | 1998 में इनका निधन हैदराबाद में हुआ।

नीरा आर्य का विवाह ब्रिटिश भारत में सीआईडी इंस्पेक्टर श्रीकांत जयरंजन दास के साथ हुआ था | नीरा ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जान बचाने के लिए अंग्रेजी सेना में अपने अफसर पति श्रीकांत जयरंजन दास की हत्या कर दी थी | आजाद हिन्द फौज के समर्पण के बाद जब लाल किले में मुकदमा चला तो सभी बंदी सैनिकों को छोड़ दिया गया, लेकिन इन्हें पति की हत्या के आरोप में काले पानी की सजा हुई थी, जहां इन्हें घोर यातनाएं दी गई। आजादी के बाद इन्होंने फूल बेचकर जीवन यापन किया, लेकिन कोई भी सरकारी सहायता या पेंशन स्वीकार नहीं की।

नीरा ने अपनी एक आत्मकथा भी लिखी है | इस आत्म कथा का एक ह्रदयद्रावक अंश प्रस्तुत है – 

‘‘मैं जब कोलकाता जेल से अंडमान पहुंची, तो हमारे रहने का स्थान वे ही कोठरियाँ थीं, जिनमें अन्य महिला राजनैतिक अपराधी रही थी अथवा रहती थी। हमें रात के 10 बजे कोठरियों में बंद कर दिया गया और चटाई, कंबल आदि का नाम भी नहीं सुनाई पड़ा। मन में चिंता होती थी कि इस गहरे समुद्र में अज्ञात द्वीप में रहते स्वतंत्रता कैसे मिलेगी, जहाँ अभी तो ओढ़ने बिछाने का ध्यान छोड़ने की आवश्यकता आ पड़ी है? जैसे-तैसे जमीन पर ही लोट लगाई और नींद भी आ गई। लगभग 12 बजे एक पहरेदार दो कम्बल लेकर आया और बिना बोले-चाले ही ऊपर फेंककर चला गया। कंबलों का गिरना और नींद का टूटना भी एक साथ ही हुआ। बुरा तो लगा, परंतु कंबलों को पाकर संतोष भी आ ही गया। अब केवल वही एक लोहे के बंधन का कष्ट और रह-रहकर भारत माता से जुदा होने का ध्यान साथ में था।

‘‘सूर्य निकलते ही मुझको खिचड़ी मिली और लुहार भी आ गया। हाथ की सांकल काटते समय थोड़ा-सा चमड़ा भी काटा, परंतु पैरों में से आड़ी बेड़ी काटते समय, केवल दो-तीन बार हथौड़ी से पैरों की हड्डी को जाँचा कि कितनी पुष्ट है। मैंने एक बार दुःखी होकर कहा, ‘‘क्याअंधा है, जो पैर में मारता है?’’

‘‘पैर क्या हम तो दिल में भी मार देंगे, क्या कर लोगी?’’ उसने मुझे कहा था।

‘‘बंधन में हूँ तुम्हारे कर भी क्या सकती हूँ…’’ फिर मैंने उनके ऊपर थूक दिया था, ‘‘औरतों की इज्जत करना सीखो?’’

जेलर भी साथ थे, तो उसने कड़क आवाज में कहा, ‘‘तुम्हें छोड़ दिया जाएगा,यदि तुम बता दोगी कि तुम्हारे नेताजी सुभाष कहाँ हैं?’’

‘‘वे तो हवाई दुर्घटना में चल बसे,’’ मैंने जवाब दिया, ‘‘सारी दुनिया जानती है।’’

‘‘नेताजी जिंदा हैं….झूठ बोलती हो तुम कि वे हवाई दुर्घटना में मर गए?’’ जेलर ने कहा। 

‘‘हाँ नेताजी जिंदा हैं।’’

‘‘तो कहाँ हैं…।’’

‘‘मेरे दिल में जिंदा हैं वे।’’ जैसे ही मैंने कहा तो जेलर को गुस्सा आ गया था और बोले, ‘‘तो तुम्हारे दिल से हम नेताजी को निकाल देंगे।’’

और फिर उन्होंने मेरे आँचल पर ही हाथ डाल दिया और मेरी आँगी को फाड़ते हुए फिर लुहार की ओर संकेत किया…लुहार ने एक बड़ा सा जंबूड़ औजार जैसा फुलवारी में इधर-उधर बढ़ी हुई पत्तियाँ काटने के काम आता है, उस ब्रेस्ट रिपर को उठा लिया और मेरे दाएँ उरोज को उसमें दबाकर काटने चला था…लेकिन उसमें धार नहीं थी, ठूँठा था और उरोजों (स्तनों) को दबाकर असहनीय पीड़ा देते हुए दूसरी तरफ से जेलर ने मेरी गर्दन पकड़ते हुए कहा, ‘‘अगर फिर जबान लड़ाई तो तुम्हारे ये दोनों गुब्बारे छाती से अलग कर दिए जाएँगे…’’ 

उसने फिर चिमटानुमा हथियार मेरी नाक पर मारते हुए कहा, ‘‘शुक्र मानो महारानी विक्टोरिया का कि इसे आग से नहीं तपाया, आग से तपाया होता तो तुम्हारे दोनों उभार पूरी तरह उखड़ जाते।’’