Feeds:
Posts
Comments

From: Avnish Kashyap < >

MUKHERJEE – MODI

SERVANTS OF JAZZIA SULTANATE

DILIGENTLY ENFORCING THIS CRIMINAL LAW

why are the Hindus lying down and taking all these abuses and humiliations without striking back?

Please forward this to ALL Hindus all over the world”

It’s time we realize our culture is being wiped away!!!

If you care forward this….IF NOT Delete!!!!!

..

Why are we Hindus taking all this lying down. Why is there an IAS officer as head of very temple. Can they dare TO go to a MUSLIM Masjid or a CHRISTIAN church? OR A SIKH GURUDWAARAA Please see the article and decide for yourself.

Foreign writer opens our eyes.

The Hindu Religious and Charitable Endowment

Act of 1951 allows State Governments and politicians to take over thousands of Hindu Temples and maintain complete control over them and their properties. It is claimed that they can sell the temple assets and properties and use the money in any way they choose.

A charge has been made not by any Temple authority, but by a foreign writer, Stephen Knapp in a book (Crimes Against India and the Need to Protect Ancient Vedic Tradition) published in the United States that makes shocking reading.

Hundreds of temples in centuries past have been built in India by devout rulers and the donations given to them by devotees have been used for the benefit of the (other) people. If, presently, money collected has ever been misused (and that word needs to be defined),

It is for the devotees to protest and not for any government to interfere. This letter is what has been happening currently under an intrusive law.

It would seem, for instance, that under a Temple Empowerment Act, about 43,000 temples in Andhra Pradesh have come under government control and only 18 per cent of the revenue of these temples have been returned for temple purposes, the remaining 82 per cent being used for purposes unstated.

Apparently even the world-famous Tirumala Tirupati Temple has not been spared. According to Knapp, the temple collects over Rs 3,100 crores every year and the State Government has not denied the charge that as much as 85 per cent of this is transferred to the State Exchequer, much of which goes to causes that are not connected with the Hindu community. Was it for that reason that devotees make their offering to the temples? Another charge that has been made is that the Andhra Government has also allowed the demolition of at least ten temples for the construction of a golf course. Imagine the outcry.

Writes Knapp, if ten mosques had been demolished.

It would seem that in Karnataka, Rs. 79 crores were collected from about two lakh temples and from that, temples received Rs seven crores for their maintenance, Muslim madrassahs and Haj subsidy were given Rs. 59 crore and churches about Rs 13 crore. Very generous of the government.

Because of this, Knapp writes, 25 per cent of the two lakh temples or about 50,000 temples in Karnataka will be closed down for lack of resources, and he adds: The only way the government can continue to do this is because people have not stood up enough to stop it.

Knapp then refers to Kerala where, he says, funds from the Guruvayur Temple are diverted to other government projects denying improvement to 45 Hindu temples. Land belonging to the Ayyappa Temple, apparently has been grabbed and Church encroaches are occupying huge areas of forest land, running into thousands of acres, near Sabarimala.

A charge is made that the Communist state government of Kerala wants to pass an Ordinance to disband the Travancore & Cochin Autonomous Devaswom Boards (TCDBs) and take over their limited independent authority of 1,800 Hindu temples. If what the author says is true, even the Maharashtra Government wants to take over some 450,000 temples in the state which would supply a huge amount of revenue to correct the states bankrupt conditions.

And to top it all, Knapp says that in Orissa, the state government intends to sell over 70,000 acres of endowment lands from the Jagannath Temple, the proceeds of which would solve a huge financial crunch brought about by its own mismanagement of temple assets.

Says Knapp: Why such occurrences are so often not known is that the Indian media, especially the English television and press, are often anti-Hindu in their approach, and thus not inclined to give much coverage, and certainly no sympathy, for anything that may affect the Hindu community. Therefore, such government action that play against.

The Hindu community go on without much or any attention attracted to them.

Knapp obviously is on record. If the facts produced by him are incorrect, it is up to the government to say so. It is quite possible that some individuals might have set up temples to deal with lucrative earnings. But that, surely, is none of the governments business?

Instead of taking over all earnings, the government surely can appoint local committees to look into temple affairs so that the amount discovered is fairly used for the public good?

Says Knapp: Nowhere in the free, democratic world are the religious institutions managed, maligned and controlled by the government, thus denying the religious freedom of the people of the country. But it is happening in India. Government officials have taken control of Hindu temples because they smell money in them, they recognize the indifference of Hindus, they are aware of the unlimited patience and tolerance of Hindus, they also know that it is not in the blood of Hindus to go to the streets to demonstrate, destroy property, threaten, loot, harm and kill.

Many Hindus are sitting and watching the demise of their culture. They need to express their views loud and clear Knapp obviously does not know that should they do so, they would be damned as communalists. But it is time someone asked the Government to lay down all the facts on the table so that the public would know what is happening behind.

its back. Robbing Peter to pay Paul is not secularism. And temples are not for looting, under any name. One thought that Mohammad of Ghazni has long been dead.

HARD REALITIES………

Hinduism remains the most attacked and under siege of all the major world religions. This is in spite of the fact that Hinduism is the most tolerant, pluralistic and synthetic of the world’s major religions.

Money is diverted for Muslim causes and paid to the Muslims.

 

 

 

 

 

 

From: Pramod Agrawal < >

वीर शिवाजी जी मुस्लिम नीति एवं औरंगज़ेब की धर्मान्धता- एक तुलनात्मक अध्ययन 

महाराष्ट्र के पुणे से सोशल मीडिया में शिवाजी को अपमानित करने की मंशा से उनका चित्र डालना और उसकी प्रतिक्रिया में एक इंजीनियर की हत्या इस समय की सबसे प्रचलित खबर हैं। दोषी कौन हैं और उन्हें क्या दंड मिलना चाहिए यह तो न्यायालय तय करेगा जिसमें हमारी पूर्ण आस्था हैं। परन्तु सत्य यह हैं की जो लोग गलती कर रहे हैं वे शिवाजी की मुस्लिम नीति, उनकी न्यायप्रियता, उनकी निष्पक्षता, उनकी निरपराधी के प्रति संवेदना से परिचित नहीं हैं। सबसे अधिक विडंबना का कारण इतिहास ज्ञान से शुन्य होना हैं।  मुस्लिम समाज के कुछ सदस्य शिवाजी की इसलिए विरोध करते हैं क्यूंकि उन्हें यह बताया गया हैं की शिवाजी ने औरंगज़ेब जिसे आलमगीर अर्थात इस्लाम का रखवाला भी कहा जाता था का विरोध किया था। शिवाजी ने औरंगज़ेब की मध्य भारत से पकड़ ढीली कर दी जिसके कारण उनके कई किले और इलाकें उनके हाथ से निकल गए। यह सब घंटनाएँ ३०० वर्ष से भी पहले हुई और इनके कारण लोग अभी भी संघर्ष कर रहे हैं। यह संघर्ष इस्लामिक साम्राज्यवाद की उस मानसिकता का वह पहलु हैं जिसके कारण भारत देश में पैदा होने वाला मुसलमान जिसके पूर्वज हिन्दू थे जिन्हे कभी बलात इस्लाम में दीक्षित किया गया था, आज भारतीय होने से अधिक इस्लामिक सोच, इस्लामिक पहनावे, इस्लामिक खान-पान, अरब की भूमि से न केवल अधिक प्रभावित हैं अपितु उसे आदर्श भी मानता हैं। सत्य इतिहास के गर्भ में हैं की औरंगज़ेब कितना इस्लाम की शिक्षाओं के निकट था और शिवाजी का मुसलमानों के प्रति व्यवहार कैसा था। दोनों की तुलना करने से उत्तर स्पष्ट सिद्ध हो जायेगा।
औरंगजेब द्वारा हिन्दू मंदिरों को तोड़ने के लिए जारी किये गए फरमानों का कच्चाचिट्ठा

 १. १३ अक्तूबर,१६६६- औरंगजेब ने मथुरा के केशव राय मंदिर से नक्काशीदार जालियों को जोकि उसके बड़े भाई दारा शिको द्वारा भेंट की गयी थी को तोड़ने का हुक्म यह कहते हुए दिया की किसी भी मुसलमान के लिए एक मंदिर की तरफ देखने तक की मनाही हैंऔर दारा शिको ने जो किया वह एक मुसलमान के लिए नाजायज हैं। 
 २. ३,१२ सितम्बर १६६७- औरंगजेब के आदेश पर दिल्ली के प्रसिद्द कालकाजी मंदिर को तोड़ दिया गया।  
३. ९ अप्रैल १६६९ को मिर्जा राजा जय सिंह अम्बेर की मौत के बाद औरंगजेब के हुक्म से उसके पूरे राज्य में जितने भी हिन्दू मंदिर थे उनको तोड़ने का हुक्म दे दिया गया और किसी भी प्रकार की हिन्दू पूजा पर पाबन्दी लगा दी गयी जिसके बाद केशव देव राय के मंदिर को तोड़ दिया गया और उसके स्थान पर मस्जिद बना दी गयी।  मंदिर की मूर्तियों को तोड़ कर आगरा लेकर जाया गया और उन्हें मस्जिद की सीढियों में दफ़न करदिया गया और मथुरा का नाम बदल कर इस्लामाबाद कर दिया गया।  इसके बाद औरंगजेब ने गुजरात में सोमनाथ मंदिर का भी विध्वंश कर दिया। 
 ४. ५ दिसम्बर १६७१ औरंगजेब के शरीया को लागु करने के फरमान से गोवर्धन स्थित श्री नाथ जी की मूर्ति को पंडित लोग मेवाड़ राजस्थान के सिहाद गाँव ले गए जहाँ के राणा जी ने उन्हें आश्वासन दिया की औरंगजेब की इस मूर्ति तक पहुँचने से पहले एक लाख वीर राजपूत योद्धाओं को मरना पड़ेगा। 
५. २५ मई १६७९ को जोधपुर से लूटकर लाई गयी मूर्तियों के बारे में औरंगजेब ने हुकुम दिया की सोने-चाँदी-हीरे से सज्जित मूर्तियों को जिलालखाना में सुसज्जित कर दिया जाये और बाकि मूर्तियों को जमा मस्जिद की सीढियों में गाड़ दिया जाये। 
 ६ . २३ दिसम्बर १६७९ औरंगजेब के हुक्म से उदयपुर के महाराणा झील के किनारे बनाये गए मंदिरों को तोड़ा गया।  महाराणा के महल के सामने बने जगन्नाथ के मंदिर को मुट्ठी भर वीर राजपूत सिपाहियों ने अपनी बहादुरी से बचा लिया। 
 ७ . २२ फरवरी १६८० को औरंगजेब ने चित्तोड़ पर आक्रमण कर महाराणा कुम्भा द्वाराबनाएँ गए ६३ मंदिरों को तोड़ डाला। 
८. १ जून १६८१ औरंगजेब ने प्रसिद्द पूरी का जगन्नाथ मंदिर को तोड़ने का हुकुम दिया। 
९. १३ अक्टूबर १६८१ को बुरहानपुर में स्थित मंदिर को मस्जिद बनाने का हुकुमऔरंगजेब द्वारा दिया गया। 
१०. १३ सितम्बर १६८२ को मथुरा के नन्द माधव मंदिर को तोड़ने का हुकुम औरंगजेब द्वारा दिया गया। इस प्रकार अनेक फरमान औरंगजेब द्वारा हिन्दू मंदिरों को तोड़ने के लिए जारी किये गए।


हिन्दुओं पर औरंगजेब द्वारा अत्याचार करना 


२ अप्रैल १६७९ को औरंगजेब द्वारा हिन्दुओं पर जजिया कर लगाया गया जिसका हिन्दुओं ने दिल्ली में बड़े पैमाने पर शांतिपूर्वक विरोध किया परन्तु उसे बेरहमी से कुचल दिया गया।  इसके साथ-साथ मुसलमानों को करों में छूट दे दी गयी जिससे हिन्दू अपनी निर्धनता और कर न चूका पाने की दशा में इस्लाम ग्रहण कर ले। १६ अप्रैल १६६७ को औरंगजेब ने दिवाली के अवसर पर आतिशबाजी चलाने से और त्यौहार बनाने से मना कर दिया गया। इसके बाद सभी सरकारी नौकरियों से हिन्दू क्रमचारियों को निकाल कर उनके स्थान पर मुस्लिम क्रमचारियों की भरती का फरमान भी जारी कर दिया गया।  हिन्दुओं को शीतला माता, पीर प्रभु आदि के मेलों में इकठ्ठा न होने का हुकुम दिया गया। हिन्दुओं को पालकी, हाथी, घोड़े की सवारी की मनाई कर दी गयी। कोई हिन्दू अगर इस्लाम ग्रहण करता तो उसे कानूनगो बनाया जाता और हिन्दू पुरुष को इस्लाम ग्रहण करनेपर ४ रुपये और हिन्दू स्त्री को २ रुपये मुसलमान बनने के लिए दिए जाते थे। ऐसे न जाने कितने अत्याचार औरंगजेब ने हिन्दू जनता पर किये और आज उसी द्वारा जबरन मुस्लिम बनाये गए लोगों के वंशज उसका गुण गान करते नहीं थकते हैं।

वीर शिवाजी द्वारा औरंगज़ेब को पत्र लिखकर उसके अत्याचारों के प्रति आगाह करना


वीर शिवाजी ने हिन्दुओं की ऐसी दशा को देखकर व्यथित मन से औरंगजेब को उसके अत्याचारों से अवगत करने के लिए एक पत्र लिखा था। इस पत्र को सर जदुनाथ सरकार अपने शब्दों में तार्किक, शांत प्रबोधन एवं राजनितिक सूझ बुझ से बुना गया बताया हैं।
वीर शिवाजी लिखते हैं की सभी जगत के प्राणी ईश्वर की संतान  हैं। कोई भी राज्य तब उन्नति करता हैं जब उसके सभी सदस्य सुख शांति एवं सुरक्षा की भावना से वहाँ पर निवास करते हैं। इस्लाम अथवा हिन्दू एक ही सिक्के के दो पहलु हैं। कोई मस्जिद में पूजा करता हैं , कोई मंदिर में पूजा करता हैं पर सभी उस एक ईश्वर की पूजा करते हैं। यहाँ तक की कुरान में भी उसी एक खुदा या ईश्वर के विषय में कहा गया हैं जो केवल मुसलमानों का खुदा नहीं हैं बल्कि सभी का खुदा हैं। मुग़ल राज्य में जजिया एक नाजायज़, अविवेकपूर्ण, अनुपयुक्त अत्याचार हैं जो तभी उचित होता जब राज्य की प्रजा सुरक्षित एवं सुखी होती पर सत्य यह हैं की हिन्दुओं पर जबरदस्ती जजिया के नाम पर भारी कर लगाकर उन्हें गरीब से गरीब बनाया जा रहा हैं। धरती के सबसे अमीर सम्राट के लिए गरीब भिखारियों, साधुओं ,ब्राह्मणों, अकाल पीड़ितो पर कर लगाना अशोभनीय हैं।मच्छर और मक्खियों को मारना कोई बहादुरी का काम नहीं हैं।
अगर औरंगजेब में कोई वीरता हैं तो उदयपुर के राणा और इस पत्र के लेखक से जजिया वसूल कर दिखाए।  
अपने अहंकार और धर्मान्धता में चूर औरंगजेब ने शिवाजी के पत्र का कोई उत्तर न दिया पर शिवाजी ने एक ऐसी जन चेतना और अग्नि प्रजलवित कर दी थी जिसको बुझाना आसान नहीं था।
वीर शिवाजी हिन्दू धर्म के लिए उतने ही समर्पित थे जितना औरंगजेब इस्लाम के लिए समर्पित था परन्तु दोनों में एक भारी भेद था।
शिवाजी अपने राज्य में किसी भी धर्म अथवा मत को मानने वालों पर किसी भी का अत्याचार करते थे एवं उन्हें अपने धर्म को मानने में किसी भी प्रकार की कोई मनाही नहीं थी।

इस्लाम के विषय में शिवाजी की निति


१. अफजल खान को मरने के बाद उसके पूना, इन्दापुर, सुपा, बारामती आदि इलाकों पर शिवाजी का राज स्थापित हो गया। एक ओर तो अफजल खान ने धर्मान्धता में तुलजापुर और पंडरपुर के मंदिरों का संहार किया था दूसरी और शिवाजी ने अपने अधिकारीयों को सभी मंदिर के साथ साथ मस्जिदों को भी पहले की ही तरह दान देने की आज्ञा जारी की थी।

२. बहुत कम लोगों को यह ज्ञात हैं की औरंगजेब ने स्वयं शिवाजी को चार बार अपने पत्रों में इस्लाम का संरक्षक बताया था। ये पत्र १४ जुलाई १६५९, २६ अगस्त एवं २८ अगस्त १६६६ एवं ५ मार्च १६६८ को लिखे गए थे। (सन्दर्भ Raj Vlll, 14,15,16 Documents )

३. डॉ फ्रायर ने कल्याण जाकर शिवाजी की धर्म निरपेक्ष नीति की अपने लेखों में प्रशंसा की हैं। Fryer, Vol I, p. 41n

४. ग्रांट डफ़ लिखते हैं की शिवाजी ने अपने जीवन में कभी भी मुस्लिम सुल्तान द्वारा दरगाहों ,मस्जिदों , पीर मज़ारों आदि को दिए जाने वाले दान को नहीं लूटा। सन्दर्भ History of the Mahrattas, p 104

५. डॉ दिल्लों लिखते हैं की वीर शिवाजी को उस काल के सभी राज नीतिज्ञों में सबसे उदार समझा जाता था।सन्दर्भ Eng.Records II,348

६. शिवाजी के सबसे बड़े आलोचकों में से एक खाफी खाँ जिसने शिवाजी की मृत्यु पर यह लिखा था की अच्छा हुआ एक काफ़िर का भार धरती से कम हुआ भी शिवाजी की तारीफ़ करते हुए अपनी पुस्तक के दुसरे भाग के पृष्ठ 110 पर लिखता हैं की शिवाजी का आम नियम था की कोई मनुष्य मस्जिद को हानि न पहुँचायेगा , लड़की को न छेड़े , मुसलमानों के धर्म की हँसी न करे तथा उसको जब कभी कही कुरान हाथ आता तो वह उसको किसी न किसी मुस्लमान को दे देता था। औरतों का अत्यंत आदर करता था और उनको उनके रिश्तेदारों के पास पहुँचा देता था। अगर कोई लड़की हाथ आती तो उसके बाप के पास पहुँचा देता। लूट खसोट में गरीबों और काश्तकारों की रक्षा करता था। ब्राह्मणों और गौ के लिए तो वह एक देवता था। यद्यपि बहुत से मनुष्य उसको लालची बताते हैं परन्तु उसके जीवन के कामों को देखने से विदित हो जाता हैं की वह जुल्म और अन्याय से धन इकठ्ठा करना अत्यंत नीच समझता था।
सन्दर्भ लाला लाजपत राय कृत छत्रपती शिवाजी पृष्ठ 132 ,संस्करण चतुर्थ, संवत 1983

७. शिवाजी जंजिरा पर विजय प्राप्त करने के लिए केलशी के मुस्लिम बाबा याकूत से आशीर्वाद तक मांगने गए थे।
सन्दर्भ – Vakaskar,91 Q , bakshi p.130
८. शिवाजी ने अपनी सेना में अनेक मुस्लिमों को रोजगार दिया था।

१६५० के पश्चात बीजापुर, गोलकोंडा, मुग़लों की रियासत से भागे अनेक मुस्लिम , पठान व फारसी सैनिकों को विभिन्न ओहदों पर शिवाजी द्वारा रखा गया था जिनकी धर्म सम्बन्धी आस्थायों में किसी भी प्रकार का हस्तक्षेप नहीं किया जाता था और कई तो अपनी मृत्यु तक शिवाजी की सेना में ही कार्यरत रहे। कभी शिवाजी के विरोधी रहे सिद्दी संबल ने शिवाजी की अधीनता स्वीकार कर की थी और उसके पुत्र सिद्दी मिसरी ने शिवाजी के पुत्र शम्भा जी की सेना में काम किया था। शिवाजी की दो टुकड़ियों के सरदारों का नाम इब्राहीम खान और दौलत खान था जो मुग़लों के साथ शिवाजी के युद्ध में भाग लेते थे। क़ाज़ी हैदर के नाम से शिवाजी के पास एक मुस्लिम था जो की ऊँचे ओहदे पर था। फोंडा के किले पर अधिकार करने के बाद शिवाजी ने उसकी रक्षा की जिम्मेदारी एक मुस्लिम फौजदार को दी थी। बखर्स के अनुसार जब आगरा में शिवाजी को कैद कर लिया गया था तब उनकी सेवा में एक मुस्लिम लड़का भी था जिसे शिवाजी के बच निकलने का पूरा वृतांत मालूम था। शिवाजी के बच निकलने के पश्चात उसे अत्यंत मार मारने के बाद भी स्वामी भक्ति का परिचय देते हुए अपना मुँह कभी नहीं खोला था। शिवाजी के सेना में कार्यरत हर मुस्लिम सिपाही चाहे किसी भी पद पर हो , शिवाजी की न्याय प्रिय एवं सेक्युलर नीति के कारण उनके जीवन भर सहयोगी बने रहे।
सन्दर्भ Shivaji the great -Dr Bal Kishan vol 1 page 177

शिवाजी सर्वदा इस्लामिक विद्वानों और पीरों की इज्ज़त करते थे। उन्हें धन,उपहार आदि देकर सम्मानित करते थे। उनके राज्य में हिन्दू-मुस्लिम के मध्य किसी भी प्रकार का कोई भेद नहीं था। जहाँ हिन्दुओं को मंदिरों में पूजा करने में कोई रोक टोक नहीं थी वहीँ मुसलमानों को मस्जिद में नमाज़ अदा करने से कोई भी नहीं रोकता था। किसी दरगाह, मस्जिद आदि को अगर मरम्मत की आवश्यकता होती तो उसके लिए राज कोष से धन आदि का सहयोग भी शिवाजी द्वारा दिया जाता था। इसीलिए शिवाजी के काल में न केवल हिन्दू अपितु अनेक मुस्लिम राज्यों से मुस्लिम भी शिवाजी के राज्य में आकर बसे थे।

शिवाजी की मुस्लिम नीति और न्याप्रियता  की जीती जागती मिसाल हैं। पाठक मुस्लिम परस्त औरंगज़ेब की धर्मांध नीति एवं न्यायप्रिय शिवाजी की धर्म नीति में भेद को भली प्रकार से समझ सकते हैं। फिर भी मुस्लिम समाज के कुछ सदस्य औरंगज़ेब के पैरोकार बने  फिरते हैं और शिवाजी की आलोचना करते घूमते हैं। सत्य के दर्शन होने पर सत्य को स्वीकार करने वाला जीवन में प्रगति करता हैं।

डॉ विवेक आर्य

Dear Vedics:

 

Namaste _/\_.

 

Because the world currently does not know that Vedic is universal dharma, it makes us Vedics difficult to create Hindustan a Vedic State.

 

Some Hindus (incorrectly) argue that Hinduism is not a religion, but it is just a philosophy.  Let me share some thought for your consideration:

 

  1. Every religion influences behavior of the followers of that religion. The Vedic dharma is not an exception.

 

  1. Every religion has a philosophy.  The Vedic dharma is not an exception.  Actually, the Vedic dharma has six well developed philosophies.

 

  1. The Abrahamic religions (Judaism, Xianity, and Islam) are exclusive, dogmatic, and history centric. The Vedic dharma is an exception, and that is why it is universal.

 

  1. What makes the Vedic dharma universal, and so very powerful to cause peace from personal to global levels, are these facts:

 

  1. ॥ असतो मा सत् गमय॥Vedic dharma give maximum emphasis on knowing the truth, and finally knowing the absolute truth (which is an aspect of the Supreme god.)

 

  1. Vedic dharma is pro-life, and anti-demoniacs.  अहिंसा परमो धर्मः। धर्म हिंसा तथैव च॥ To not injure or kill is dharma, but to kill (or keep them out of country) the demoniacs or asuras is also dharma.  This is the reason why Krishna recommended Arjun to fight against Duryodhan and his army and kill them all including Bhishma and Drona whom Arjun loved very much. Why, because they took the side of adharma.

 

  1. A Vedic dharmi (i. e. a Hindu) can consider the supreme god as a male or female.  Actually, as Brahma, god is neither male or female, and still is capable to create (and destroy) innumerable universes.

 

  1. Unlike other religions that prescribe just one way to worship god or go to haven, the Vedic dharma provides a number of ways that are different yoga processes. Ultimate destination of all these processes is the same just like you can travel from one city to another in many ways.

 

  1. Vedic dharma tells followers to not force dharma on others, nor to entice non-Hindus into accepting Vedic dharma.  Why, because dharma gives maximum freedom of thought, speech, and action (karma); and depending upon one’s karma, and by the perfect justice system of God, one advances spiritually towards God, or stays where one is, or falls spiritually.

 

  1. Vedic dharma provides complete spiritual science, which is beyond material science.  Knowing this spiritual science, e.g. from Bhagavad Gita, one can make a choice how to act or react in any situation.  One’s karma is what one acts or reacts or even thinks or desires; and karma determines what one will get in future in current or next life.

 

  1. Unlike other religions, the Vedic dharma informs us that we are not the body, but the jiva within the body.  A jiva is an aatmaa with a bundle of desires, and each aatmaa is qualitatively same as the param-aatmaa (the supreme god).  Aatmaa is eternal, and that is why a jiva takes another body after death when one body is not habitable for the jiva.  But a jiva’s next body is determined by God based on the jiva’s karma.  On YouTube, will find many videos describing the experiences of those who somehow remember their past life(s).

 

  1. Any practice of the Vedic dharma is eco-friendly. This cannot be said of other religions.

 

  1. Vedic scriptures inform us that Arya or Aryan is not a race at all. Anyone who strives to live per the Vedic dharma is an Aryan.

 

  1. Per the Vedic dharma God does not favor one race, or one skin color against another, and God love all living beings equally. Because God is Supreme, God is not jealous of anyone.

 

  1. A few short articles at below link provide other characteristics of the Vedic dharma that make it universal.

 

https://skanda987.wordpress.com/?s=universal

 

Now let me explain why it will help Vedic causes when the world knows that it is universal.

 

“Democracy” is a Western construct, not svadeshi, and it says nationalism is bad and must be resisted and not allowed in a country. It promotes pluralism or multi-culturalism.

 

It certainly is true for the nationalisms that are based on exclusive and intolerant religions.

It is not true for Vedic Nationalism because Vedic is universal dharma for mankind.

 

When adharma advances (e. g. terrorism advances), all suffer.

When Vedic dharma advances, then all feel peace.

 

Therefore, there is need for an active program educating the world that no one should fear (except the asuras and demoniacs) from the Vedic dharma or Vedic nationalism.

 

The correct understanding of the Vedic dharma—that it is universal– will make it easy to create Hindustan a Vedic State, without which Hindus and Hinduism will vanish forever due to the aggressive spread of Islam and enticed spread of Xianity.

 

I will be glad to answer any questions on the subject.

 

jai sri Krishna!

Suresh Vyas

 

From: Pramod Agraval < >

*।।वन्दे मातरम्।।* 🙏🏼 🚩
*स्वदेशी के प्रखर प्रवक्ता, भारत रत्न श्री राजीव दीक्षित जी के 330 घण्टे के व्याख्यानों के नाम व links*

*श्री राजीव दीक्षित जी ने अपने पूरे जीवन मे देश भर मे घूम- घूम कर 5000 से ज्यादा व्याख्यान दिये! सन् 2005 तक वह भारत के पूर्व से पश्चिम, उत्तर से दक्षिण चार बार भ्रमण कर चुके थे !! उन्होने विदेशी कंपनियो की नाक मे दम कर रखा था ! भारत के किसी भी मीडिया चैनल ने उनको दिखाने का साहस नहीं किया !! क्योकि वह देश से जुडे ऐसे मुद्दो पर बात करते थे कि एक बार लोग सुन ले तो देश मे 1857 से बडी क्रांति हो जाती ! वह ऐसे ओजस्वी वक्ता थे जिनकी वाणी पर माँ सरस्वती साक्षात निवास करती थी। जब वे बोलते थे तो स्रोता घण्टों मन्त्र-मुग्ध होकर उनको सुना करते थे ! 30 नवम्बर 1967 को जन्मे और 30 नवंबर 2010 को ही संसार छोडने वाले ज्ञान के महासागर श्री राजीव दीक्षित जी आज केवल आवाज के रूप मे हम सबके बीच जिंदा है उनके जाने के बाद भी उनकी आवाज आज देश के लाखो करोडो लोगो का मार्गदर्शन कर रही है और भारत को भारत की मान्यताओं के आधार पर खडा करने आखिरी उम्मीद बनी हुई है!*
************************************

1: आज़ादी का असली इतिहास
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=5

2: आज़ादी के बाद भी चल रही मैकाले की शिक्षण प्रणाली
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=6

3: आज़ादी के बाद भी गुलामी की निशानियां
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=7

4: आज़ादी के बाद भी गुलामी की निशानियां (भाग २)
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=8

5: आज़ादी के बाद स्वदेशी अपनाने की जरुरत क्यों?
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=9

6: आज़ादी नहीं ये धोखा है
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=10

7: आज़ादी से पहले सदेशी आन्दोलन की लड़ाई
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=11

8: आपका मांसाहार करना वैश्विक गर्मी का सबसे बड़ा कारण
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=12

9: आर्थिक गुलामी में धंसता हुआ भारत
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=13

10: अर्थव्यवस्था के बर्बाद होने का कारण और निवारण
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=14

11: अभी भी भारत वैसा ही गुलाम है
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=15

12: अगर आप कार्य करते है तो आपको किन नियमो का पालन करना चाहिए
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=16

13: Coke-Pepsi की असलियत
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=17

14: अमेरिका का भारत पर आर्थिक प्रतिबन्ध
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=18

15: आन्दोलन का मीडिया कैसा होगा?
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=19

16: अंग्रेज तो चले गए पर अंग्रेजियत नहीं गयी
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=20

17: अंग्रेजी भाषा की गुलामी
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=21

18: अंग्रेजी कानून व्यवस्था
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=22

19: अंतर्राष्ट्रीय संधियों में फंसा भारत
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=23

20: हिन्दू विरोधी NGO अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति की असलियत
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=24

21: अर्थव्यवस्था में मंदी के कारण और निवारण
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=25

22: आयुर्वेद जैविक कृषि, काला धन
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=26

23: आयुर्वेद और राष्ट्रीय समस्याएं
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=27

24: आयुर्वेद बनाम एलोपैथी
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=28

25: आयुर्वेदिक चिकित्सा
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=29

26: आयुर्वेदिक चिकित्सा (भाग २)
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=30

27: श्री राम कथा में भारत की समस्याओं का समाधान
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=31

28: श्री राम कथा में भारत की समस्याओं का समाधान (भाग २)
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=32

29: भारत आज़ाद या गुलाम
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=33

30: भारत और यूरोप की सभ्यता और संस्कृति
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=34

31: भारत और यूरोप विज्ञान और तकनीक
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=35

32: भारत और यूरोप की संस्कृति
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=36

33: भारत देश की व्यथा (हिसार)
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=37

34: भारत है कैसा और बनाना कैसा है?
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=38

35: भारत का स्वर्णिम अतीत
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=39

36: भारत का सांस्कृतिक पतन कैसे हुआ?
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=40

37: भारत के किसानो के लिए जैविक खेती का सूत्र (नुस्खा)।
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=41

38: भारत के किसानो की गुलामी और खेती
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=42

39: भारत के परमाणु बम से दूसरे देशो को तकलीफ
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=43

40: भारत की एतिहासिक भूले जो हमें दुबारा नहीं करनी चाहिए
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=44

41: भारत की दुनिया को देन
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=45

42: भारत कानून और शिक्षा व्यवस्था
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=46

43: भारत देश की कथा
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=47

44: भारत की कृषि
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=48

45: भारत की लूट और अंग्रेजी कानून
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=49

46: भारत की मान्यताये और उनके खिलाफ अंग्रेजी कानून
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=50

47: भारत की संस्कृति और सभ्यता कैसे ख़त्म हो रही है?
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=51

48: भारत को आजादी मिली है लेकिन स्वतंत्रता नहीं
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=52

49: भारत में आतंकवाद और उसका निवारण
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=53

50: भारत में हुई पहली क्रांति की कहानी
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=54

51: भारत में मौत का व्यापार
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=55

52: भारत में नयी व्यवस्था के लिए हमारी लड़ाई
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=56

53: भारत में स्वराज्य कैसे आएगा?
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=57

54: भारत में स्वाइन फ्लू के पीछे का सच
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=58

55: भारत में विदेशी कम्पनियों की लूट
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=59

56: भारत पाकिस्तान कारगिल युद्ध और अमेरिका
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=60

57: भारत स्वदेशी के रास्ते से ही स्वावलंबी बनेगा
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=61

58: भारत तब और अब
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=62

59: भारतियों की मानसिक गुलामी
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=63

60: काला धन स्विस बैंको में और गरीबी
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=64

61: भारत से प्रतिभा पलायन
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=65

62: चार्टड अकाउंटेंट, स्वदेशी भारत
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=66

63: सभी शीतल पेयो की असलियत
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=67

64: CTBT और भारतीय अस्मिता
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=68

65: दातुन बनाम दंतमंजन
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=69

66: दुनिया के दुसरे देशो में क्रांति
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=70

67: भारत स्वाभिमान आन्दोलन
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=71

68: इंग्लैंड की महारानी की भारत यात्रा
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=72

69: एक सच जो आपकी आँखे खोल देगा
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=73

70: परिवार नियोजन कैसे करे
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=74

71: भाजपा सरकार के समय insurance में FDI
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=75

72: गर्भपात एक पाप
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=76

73: GATT समझौते का भारत की अर्थव्यवस्था पर असर
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=77

74: GATT समझौता
http:/
www.rajivdixitmp3.com/?p=78

75: गौ आधारित कृषि और धर्म
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=79

76: गौ हत्या और उसको रोकने के उपाय
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=80

77: गौ हत्या की राजनीती और प्रधान न्यायालय में लड़ाई
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=81

78: गौ हत्या का इतिहास
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=82

79: Globalization Banking Gulbarga Jan-2005 by Rajiv Dixit
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=83

80: कीमती आभूषणों पर हालमार्क : एक साजिश
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=84

81: भूमंडलीकरण और उदारीकरण द्वारा भारत की अर्थव्यवस्था का विनाश
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=85

82: गौरक्षा और उसका महत्त्व
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=86

83: स्वास्थ्य: आयुर्वेद और होम्योपैथी ६ घंटे
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=87

84: स्वास्थ्य: १ घंटा
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=88

85: स्वास्थ्य: भारत बनाम यूरोप २ घंटे
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=89

86: Health lecture 7 Hour At Pune (स्वास्थ्य: ७ घंटे)
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=90

87: Health Lecture 10 hour At चैन्नई (स्वास्थ्य: १० घंटे)
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=91

88: Health Lecture 11 hour At chennai (११ घंटे)
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=92

89: स्वास्थ्य
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=93

90: स्वास्थ्य: शराब, गुटका, धुम्रपान कैसे छोड़े?
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=94

91: स्वास्थ्य: नाडी परिक्षण महत्वपूर्ण
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=95

92: बहुत सारे रोगों के लिए स्वास्थ्य युक्तियाँ
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=96

93: हिंदी भाषा का महत्त्व
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=97

94: आदोलन काम कैसे करे?
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=98

95: कैसे TV और विज्ञापन आपका दिमाग कुंद कर रहे है?
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=99

96: कैसे बहुदेशीय कंपनियों से लड़े
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=100

97: अवैध खनन और उपाय
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=101

98: भारत का अज्ञात इतिहास और वर्तमान समस्याएं
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=102

99: भारत और यूरोप की सभ्यता
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=103

100: आयोडीन युक्त नमक कभी न खाए
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=104

101: जन-मन-गन बनाम वन्दे मातरम
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=105

102: जैविक खेती कैसे करे?
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=106

103: जीवन जीने की कला
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=107

104: बच्चों को कैसी शिक्षा दी जाये?
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=108

105: कार्यकर्ताओं को क्या करना होगा?
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=109

106: कश्मीर समस्या और समाधान
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=110

107: क्रांति होने के कुछ उदाहरण
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=111

108: Lecture At Andhrapardesh
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=112

109: Lecture At Bathinda Punjab
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=113

110: Lecture At Bemetara Chhattisgarh
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=114

111: Lecture At Bhopal
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=115

112: Lecture At Biaora Rajgarh
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=116

113: Lecture At Bicholim Goa
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=117

114: Lecture At Bilaspur CG(Low Quality)
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=118

115: Lecture At Budge Budge kolkata
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=119

116: Lecture At Delhi
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=120

117: Lecture At Dewas 6-April-2010
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=121

118: Lecture At Janjgir Champa CG
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=122

119: Lecture At Madurai
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=123

120: Lecture At Mungeli CG
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=124

121: Lecture At Pipariya
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=125

122: Lecture At Ponda Goa(Low Quality)
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=126

123: Lecture At Raigarh(Low Quality).
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=127

124: Lecture At Sakti CG
http://www.rajivdixitmp3.com/?p=128

125: 

From: Deepak Das < >

Dear All,
प्रत्येक हिंदू को पढावें।
                        (हाफिज        सईद)               का फतवा..
 अगर आपके पास थोडा भी समय हो तो पाकिस्तान से आये हुये इस पत्र जो की भारत की 3.5 लाख वहाबी मस्जिदों मे हर जुम्मे को पढ़ा जाता है …अवश्य पढ़ें …और आप ना भी पढ़े तो कम से कम अपने मासूम बच्चों को अवश्य पढ़ायें … ताकि वो अपनी जिंदगी..एक मासूम बनकर ना जियें !
 ” उर्दू फारसी पत्र की सत्यप्रति
 786
 पैगाम इस्लाम
 आप सबको गुजारिश है कि हमने हिन्दुस्तान पर 800 साल हुकूमत की है। अब भी हमारी हुकूमत चलती है पर सीधी तरह से नहीं। सब पार्टियां और इनके काफिर नेता हमारे इशारे पर नाचते हैं।
 हमको आज मदरसों, मस्जिदों और हज के लिये पैसा मिलता है।
 2004 और 2009 के चुनाव में हिन्दुओं की पार्टी भाजपा को मुंह की खानी पड़ी मगर हमारी पूरी हुकूमत तो तब मानी जायेगी जब पूरा हिन्दुस्तान इस्लाम के झण्डे के नीचे होगा। जल्दी ही हमारे मुजाहिद्दीन लड़ाके सफ़ेद दाड़ी वाले गुजराती को मार देंगे फिर हिन्दुओं का अंतिम रहनुमा भी हमारे रास्ते से हट जायेगा !
 इसलिये हर मुसलमान का फर्ज है कि खाना जंगी के लिये तैयार रहें। इसके लिये हथियारों के अलावा बम्ब बनाना सीखें और कुरान की 24 आयातें रोज पढ़ें और उसी के मुताबिक काफिरों के मारने, जलाने और धोखे से पकड़ने का काम सरंजाम दें और उनको लूट और उनकी औरतों को भगा कर शादी करें। वैसे तो ये सिलसिला 70 साल से चल रहा है। पर अब पूरा जोर तब लगायें जब खाना जंगी के लिये आईएसआई और इंडियन मुजाहिद्दीन के लिये हुकुम देंगे।
 हर मुसलमान को दूसरा कलमा रोज पढ़ना चाहिये। वो यह है- हंस के लिये लिया है पाकिस्तान और लड़के लेंगे हिन्दुस्तान।
 अगरचे मदरसा जैल बातों पर आप लोग चल रहे हो फिर भी तबज्जो दें।
 1-बिजनौर यू0पी0 फार्मूलाः- यहां पर मुसलमान जवान लड़के हिन्दुओं से दोस्ती करके अपने घर बुलाकर मछली, मुर्गा खिलाते हैं और फिर काफिरों के घर उनकी औरतों से यारी करके फंसाते हैं। ये औरतें मुसलमानों को माल भी खिलाती हैं और पैसा भी देती हैं। बहुत सी काफिर लड़कियों ने मुसलमानों से शादी कर ली है। वाह अल्ला तेरा शुक्र है।
 2-बोतल फार्मूला- गरीब बस्तियों में काफिरों को ज्यादा शराब पिला कर नामर्द बनाओ और उनकी औरतों से ऐश करो। 9 करोड़ हिंदु तो मुसलमानों से मिल चुके हैं और उनकी औरतें तो आराम से मुसलमानों के बगल में आ जाती हैं।
 3-चोरी डकैती- काफिरों के घरों में धोखा देकर चोरियां करो उनके खेतों की फसल काटो और उनके जानवरों की भी चोरी करो।
 4-शहरी फार्मूला-(1) मुसलमान अकल से काम लें, अपने छोटे लड़कों को काफिरों के घर नौकर रखो और 25/25 बच्चे कैसे पालोगे, 8/10 साल के बाद आपके बच्चे जवान होकर घर की हिन्दू औरतों से दोस्ती करेंगे और ऐश के साथ-साथ पैसा भी खूब मारेंगे।
 शहरी फार्मूला-(2) मुसलमान जवान नौकर, ड्राइवर, खानसामा, रोटी पकाने वाला, माली, चैकीदार बन हिन्दू नामों से रहो और मौका मिलते ही उपर वाली बातों पर अमल करें। इसके अलावा उनकी गाड़ियों, स्कूटरों वगैरा भी चोरी कर सकते हैं। ये शहर के इमाम से हर तरह के उस्तादों का पता लग जायेगा। काफिरों को जब पता लगा अपनी औरतों के बारे में पता लगा तो उन्होंने नौकरी से निकालने की कोशिश की तो औरतें ही कहने लगी-अच्छा भला ईमानदारी से काम करता है इसे नौकरी से क्यों निकालते हो। कई बार औरतें मुसलमानों के साथ भाग गईं। कई मुसलमान निकाले जाने के बाद दिन में जब काफिर घर पर नहीं होते आकर ऐश, ईशरत करते हैं। माल खाते हैं और पैसे भी ले जाते हैं। या अल्ला तेरा शुकर है तूने किसलिये हिन्दू को अंधा बनाकर रखा है, जिसको पैसा कमाने के अलावा कुछ भी नजर नहीं आता। ये इस्लाम की जीत है।
 जेहाद- खाना जंगी के जेहाद में यदि मुसलमान शहीद होगा तो उसे जन्नत मिलेगी, अगर जिन्दा बचता है तो हिन्दुस्तान के काफिरों की सारी जायदादें मुसलमानों को मिलेंगी और सारी हिन्दू औरतें भी मिलेंगी तो यह भी जन्नत होगी। जैसे पाकिस्तान, कश्मीर और बांग्लादेश की सब कोठियां बंगले मुसलमानों को मिले थे। जेहाद के लिये 2 लाख सीमी के जवान 1 लाख अलकायदा के लिये मुसलमान तैयार हैं। अब हम 20 करोड़ हो गये हैं इसके अलावा 5 करोड़ बंग्लादेशी जिसमें 1 लाख मुजाहिद्दीन लड़ाके हैं। इसलिये घबराने की जरूरत नही है। हिन्दुस्तान की मिलिट्री में भी काफी मुसलमान हैं और बहुत से तो हिन्दू नामों से भर्ती हैं। पुलिस में भी काफी मुसलमान हैं और वक्त आने पर काफिरों को दोजख पहुचायेंगे।
 आम हिन्दू लोगों में मुसलमानों के लिय नरम रूख है जिसकी वजह ऊपर बतायी वजह हिन्दू औरतों से दोस्ती है। केरल, मद्रास और हैदराबाद में काफी असलाह पाकिस्तान और अरब मुल्कों से आ चुका है। बिहार में चीन और बांग्लादेश से 60 हजार एके-47 आ चुकी हैं। इसलिये लाल किला पर झण्डा जल्दी झूलेगा।
 अरब मुल्कों में हिन्दू औरतों को नर्स, आया, खाना बनाने वाली बनाकर ज्यादा से ज्यादा भेजें। अच्छी तनख्वाह के लालच में गरीब व दरम्यान घर की लड़कियां खुशी से जाती हैं और वहां जाकर रात को सारी की सारी अरबों के पास सो जाती हैं और मुसलमानों की आबादी बढ़ाने में काफी मददगार हैं।
 हिन्दू लड़की से शादी, ::-+-
 हिन्दू लड़की जो भगाकर लायी जाये उसे 2 दिन भूखा रखें फिर अच्छा-अच्छा खाना दें। उनकी सतत या खतना जरूर करायें। अगर उसके रिश्तेदार कोर्ट केस करें तो कोर्ट में ले जाने से पहले 50/60 बंदूकों के हथियार दिखायें और खबरदार करें। अगर हमारे खिलाफ बयान दिये तो तेरे भाई और खानदान को भून देंगे। ऐसी लड़की को वश में करने वाले ताबीज पहनाना न भूलें। ये भी कमाल का काम करता है।
 हरियाणा के मुसलमानों का कमाल- ::–
 गांधी की मेहरबानी से मेवात के मुसलमान पाकिस्तान नही गये थे।
 पिछले 15 सालों से40 लाख मुसलमान बिहार, यूपी, राजस्थान में आकर बस गये हैं। 70 फीसदी तो हिन्दू नामों से रह रहे हैं और ऊपर लिखी बाते अच्छी तरह सरंजाम दे रहे हैं।
 पंजाब में भी लाखों मुसलमान पहुंच चुका है। वक्त आने पर ये सब जेहाद के लिये कुरान के मुताबिक काफिरों को दोजख पहुचाने के लिये तैयार हैं। अल्ला हमारे साथ है।
 काफिरों का बंटवारा::+–
 – वैसे तो हिन्दू जांत-पांत में बंटा है आप लोग इनके SC/ST के दिमाग में हिन्दुओं के लिये खूब नफरत भरें  कि हिन्दुओं ने इनके ऊपर सैकड़ों साल जुल्म ढाये।
 मुसलमानों शाबास।
 आसाम और कश्मीर- ::
 आसाम और कश्मीर पर तो मुसलमानों का कब्जा हो चुका है। सारे बुतखाने तोड़ दिये गये हैं। महलों व सड़कों का नाम बदलकर जिन्हा रोड व अली रोड कर दिये हैं। आसाम पर भी काफी हद तक मुसलमानों का कब्जा है। काफिरों का कत्ल करके दहशत फैला कर भगाया जा रहा है। इस तरह कश्मीर की तरह हिन्दुओं की जायदाद व औरतें अल्ला की फजल से हम मुसलमानों को मिल रही हैं। इन्शाह अल्लाह जल्दी ही सारे हिन्दुस्तान को इस्लाम के झंडे के नीचे आयेगा।
 सन् 1947 में हमारे जवानों ने काफिरों के छोटे-छोटे बच्चे आसमान में उछालकर नैजे व भाले पर लिये थे। इनकी औरतों के साथ 10/10 मुसलमानों ने जिन्हा किया था और अल्हादानी लोहे की नोहर गर्म करके लाल-लाल उनके थनों पर चिपकाई गई थी। कई औरतों के थन काट दिये थे। उनके बच्चों को मारकर पकाकर खिलाया भी था।
 राजीव गांधी के राज में फार्मूला काश्मीर में आजमाया गया।
 नतीजा यह निकला कि साढ़े तीन लाख पण्डितों से कश्मीर 3 दिन में खाली हो गया और करोड़ों बल्कि अरबों रूपये की काफिरों की जायदाद पर मुसलमानों का कब्जा हो गया।
 जेहाद में औरतों के लिये खास दस्ता::++
 मुसलमान जवान का यह दस्ता स्कूटर कार छोटे ट्रक वगैरा पर हिन्दू देवताओं की फोटों चिपकाकर रखें।
 ड्राइवर व कंडक्टर हिन्दू वेश में हो।
 जब अफरा-तफरी फैले तो काफिरों को जिनमें औरतें ज्यादा हों मुसलमान मोहल्लों में भगाकर ले जायें। औरतें को वहां पहुंचा दी जायें। काफिर मर्द और बच्चे मारकर दोजख भेज दें।
 ये नुस्खा 40 साल pahle आजमाया गया था, उस समय वाई वी चैहान होम मिनिस्टर थे। इसी दस्ते के लिये जयपुर फार्मूला कई साल पहले हमारे मुसलमाना जवानों ने जयपुर में फसाद शुरू किये थे और हिन्दू घरों से व लड़कियों के स्कूलों से उठा ली थी। 6 माह बाद जब 2/3 लड़कियों ने अपने घर खबर भेजी तो खानदान के उन लोगों ने उन लड़कियों को वापस लेने से इन्कार कर दिया। 1948 में जब हिन्दू मिलिट्री, हिन्दू औरतों को निकालकर हिन्दुस्तान लाई तो उनके खानदान वालों ने लेने से इंकार कर दिया। इस वास्ते कुछ ने तो खुदकुशी कर ली।
 ये सब मुसलमानों के लिये अच्छा हुआ। इसके लिये हिन्दुओं की दाद देनी चाहिये।
 मुसलमानों और हिन्दुओं के मरने की निस्बतः-
 जब पाकिस्तान बना तो एक मुसलमान शहीद हुआ था और 100 काफिर मारे गये थे अब तो बम्बों और एके 47 का जमाना है,  अल्ला ने चाहा तो एक मुसलमान के मारे जाने पर 1000 हिन्दू मरेंगे अल्ला हमारे साथ है।
 मुसलमानों को अल्ला का शुक्रगुजार होना चाहिये कि वो सब भूल गयें अल्ला ने उसका दिमाग बड़ा कमजोर दिया है। इसलिये हमने 800 साल हुकूमत की और इन्शाह अल्ला फिर करेंगे। इस बात से साबित होता है कि अल्ला भी चाहता है कि मुसलमानों को हिन्दुस्तान की हुकूमत मिले और हिन्दुओं की औरतों के साथ मौज मस्ती मिले ।
 चीन, पाकिस्तान और बंग्लादेश से हथियार व नकली नोट हम मुसलमानों की मदद के लिये अल्ला भिजवा रहा है।   हिन्दू अफसर और पुलिस वाले इसी पैसे से अंधे बना दिये जाते हैं।
 यह खत मस्जिदों में जुमे के रोज सब मुसलमानों को सुनाया जाये। खाना जंगी के वक्त पाकिस्तान, चीन और बांग्लादेश भी हमारी मदद के लिये हिन्दुस्तान पर हमला बोल देंगे।
 नेपाल में काफी मंदिर तोड़ दिये गये हैं और आईएसआई की मदद से काफी लोग मुसलमान हो गये हैं।
 कलावा :–मोटर साईकिल-मुसलमान जवानों को चाहिये अपने हाथ में कलावा बांध कर अपना नाम बदलकर हिन्दू नाम अपना लें। मोटर साईकिल पर सवार होकर हिन्दू मोहल्ले में कालेजों और स्कूलों के पास खड़े होकर हिन्दू लड़कियों से इश्क लड़ायें। होटलों में भी खुद भी ऐश करें और उनसे काल गर्ल्स का काम लें।
 इस कमाई से कुछ हिस्सा हथियारों पर खर्च करें। कारों वाले भाई जान भी करें। अरब मुल्कों में इसके लिये काफी पैसा हम तक पहुंच रहा ै ! जिसे हमने तुम्हारे मौलानाओं से तुम्हे काफिरों की लौडियों को फंसाने के बाद तुम्हे देने को कह दिया है !
 भूल कर भी सिखों को न छेड़ें।
 ये जालिम होते हैं बल्कि चक्कर चलाकर उनको हिन्दुओं से दूर रखें।
 हिन्दुओं के बाद इनसे भी निबट लेंगे !
 ये खत किसी हिन्दू को ना दिखायें।
 आपका खादिम
 (हाफिज सईद)
 नारे तदबीर अल्लाह हो अकबर ”
 Jago Hindu jago…
 Kasam khawo sab Hindu
 Ki kam se kam ek ek Hindu
 iss msg ko kam se kam 101 se bhi jyada Hinduon tak pahuchaane ki koshish karegaa….
 Jaago Hinduo! Jaago!
 –
 मै यै मैसैज २००० लौगौ तक पहुचाने का प्रण लिया है
 अगर मे नही भेज पाया
 तौ कभी बी वाटसअप नही चलाउंगा
 जय जय सिया राम जय जय jago bhaiyon jago

From: Pramod Agraval < >

 

कुतुबुद्दीन की मौत ..और सत्य ..!!!


इतिहास की किताबो में लिखा है कि उसकी मौत पोलो खेलते समय घोड़े से गिरने पर से हुई ..!!!
ये अफगान / तुर्क लोग “पोलो” नहीं खेलते थे, पोलो खेल अंग्रेजों ने शुरू किया ..!!!
अफगान / तुर्क लोग बुजकशी खेलते हैं जिसमे एक बकरे को मारकर उसे लेकर घोड़े पर भागते है, जो उसे लेकर मंजिल तक पहुंचता है, वो जीतता है।


कुतबुद्दीन ने अजमेर के विद्रोह को कुचलने के बाद राजस्थान के अनेकों इलाकों में कहर बरपाया था। उसका सबसे कडा विरोध उदयपुर के राजा ने किया, परन्तु कुतुबद्दीन उसको हराने में कामयाब रहा।
उसने धोखे से राजकुंवर कर्णसिंह को बंदी बनाकर और उनको जान से मारने की धमकी देकर, राजकुंवर और उनके घोड़े शुभ्रक को पकड कर लाहौर ले आया।


एक दिन राजकुंवर ने कैद से भागने की कोशिश की, लेकिन पकड़ा गया। इस पर क्रोधित होकर कुतुबुद्दीन ने उसका सर काटने का हुकुम दिया ..!!


दरिंदगी दिखाने के लिए उसने कहा कि, –
बुजकशी खेला जाएगा लेकिन, इसमें बकरे की जगह राजकुंवर का कटा हुआ सर इस्तेमाल होगा।
कुतुबुद्दीन ने इस काम के लिए, अपने लिए घोड़ा भी राजकुंवर का “शुभ्रक” को चुना ..!!!
कुतुबुद्दीन “शुभ्रक” पर सवार होकर अपनी टोली के साथ जन्नत बाग में पहुंचा।
राजकुंवर को भी जंजीरों में बांधकर वहां लाया गया। जब राजकुंवर का सर काटने के लिए जैसे ही उनकी जंजीरों को खोला गया, शुभ्रक ने उछलकर कुतुबुद्दीन को अपनी पीठ से नीचे गिरा दिया और अपने पैरों से उसकी छाती पर पैरो से कई वार कर कूचला, जिससे कुतुबुद्दीन बही पर मर गया ..!!!!!


इससे पहले कि, सिपाही कुछ समझ पाते राजकुवर शुभ्रक पर सवार होकर वहां से निकल गए।
कुतुबुदीन के सैनिको ने उनका पीछा किया मगर वो उनको पकड न सके ..!!! शुभ्रक कई दिन और कई रात दौड़ता रहा और अपने स्वामी को लेकर उदयपुर के महल के सामने आ कर रुका ..!!
वहां पहुंचकर जब राजकुंवर ने उतर कर पुचकारा तो वो मूर्ति की तरह शांत खडा रहा ..!!!!!
वो मर चुका था, सर पर हाथ फेरते ही उसका निष्प्राण शरीर लुढ़क गया ..!!! कु

तुबुद्दीन की मौत और शुभ्रक की स्वामिभक्ति की इस घटना के बारे में हमारे स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता है लेकिन, इस घटना के बारे में फारसी के प्राचीन लेखकों ने काफी लिखा है।


धन्य है भारत की भूमि जहाँ इंसान तो क्या जानवर भी अपनी स्वामी भक्ति के लिए प्राण दांव पर लगा देते हैं।

From: Pramod Agrawal < >

 

RUSSIA’S VLADIMIR PUTIN ON MUSLIMS

 

No wonder he was selected by Forbes as the most powerful person in the world. This is one time our elected leaders should pay attention to the advice of Vladimir Putin.

I would suggest that not only our leaders but every citizen of USA should pay attention to this advice. How scary is that?

It is a sad day when a Communist Leader makes more sense than our LEADERS here in the U.S.A. but here it is!

 

Vladimir Putin’s speech – SHORTEST SPEECH EVER.

 

On August 04, 2013, Vladimir Putin, the Russian president, addressed the Duma, (Russian Parliament), and gave a speech about the tensions with minorities in Russia:

 

“In Russia, live like Russians. Any minority, from anywhere, if it wants to live in Russia, to work and eat in Russia, it should speak Russian, and should respect the Russian laws. If they prefer Sharia Law, and live the life of Muslim’s then we advise them to go to those places where that’s the state law.

 

“Russia does not need Muslim minorities. Minorities need Russia, and we will not grant them special privileges, or try to change our laws to fit their desires, no matter how loud they yell ‘discrimination’. We will not tolerate disrespect of our Russian culture. We better learn from the suicides of America, England, Holland and France, if we are to survive as a nation. The Muslims are taking over those countries and they will not take over Russia. The Russian customs and traditions are not compatible with the lack of culture or the primitive ways of Sharia Law and Muslims.

 

“When this honorable legislative body thinks of creating new laws, it should have in mind the Russian national interest first, observing that the Muslims Minorities Are Not Russians.”

The politicians in the Duma gave Putin a five-minute standing ovation.

 

If you keep this to yourself, you are part of the problem!