Feeds:
Posts
Comments

Archive for the ‘Articles’ Category

Muslim Hindrance?

From: Rajput < >

Subject line: “MUSLIM HINDRANCE….!”

Isn’t that normal? Muslims are always and everywhere an OBSTACLE, a HINDRANCE, a BRAKE, an OBSTRUCTION, a SPOKE in the wheel, and a ROCK in the middle of the road,

Sometimes a Muslim goes mad and drives his car or truck through the crowd- be it Berlin, London or the beach in Nice, France!

When did they make Hindus’ life easy? How many stood up for Akhand Bharat? How many embraced Hindu Dharma on marrying a Hindu maiden? How many will welcome the Hindus back in Srinagar?

SO WE ASK:

Why do Hindus in Partitioned India need the Muslims’ approval to construct Sri Ram Mandir in Ayodhya? (WE SHOULD BE ASKING THEM TO GO TO THEIR PAKISTAN, INSTEAD!)

Hindus are STUCK (SHAME!) at Ayodhya. What should they do now?

JUST PROCEED!

And if any mischief-monger creates trouble, then the jail is the place for him, or Pakistan.

Let us ASSERT ourselves on our own patch. Concede the Muslims as much attention as the HINDUS receive in Bangladesh!

Those who wish to avoid “provoking” the Muslims, or wish to avoid confrontation, should KNOW that one day, inevitably, the BATTLE for Delhi will begin. And there is a WARNING for the Hindus:

“Buckray ki maan kab tak Khair manayai-gee!”?

“बकरी कि मां कब तक खैर मनायेगी” ?

It means that the Hindus behaved like the lambs when we had to defend Lahore and Chittagong, Gilgit and Baltistan!

It means that we had to INSIST on “population exchange” simultaneously at the time of withdrawal of the Indian Army from Peshawar, Rawalpindi, Lahore, Multan, Quetta and Karachi!

To match the PROWESS of an alien and ever hostile minority, if the Hindus have to learn some MARTIAL arts, then so be it!   “Dump Gandhi. Go for Gobind!”

Sticking to “Gandhian” patriotic vacuum, & his “Ahimsa Parmo Dharma”, will mean the unconditional SURRENDER of Delhi eventually!

We let them stay. We did not throw them out. We appeased and pleased them all the time. We gave them one third of India without a single condition. We kept them home as “brothers”. So, by ISLAMIC logic, now the chickens have come home to roost!

By Law of Nature if one wishes to survive on one’s own territory, one will have to be STRONGER than all the enemies who wish to exterminate him (as in Lahore!) or force him out of his home (as in Srinagar!) put together.

So, the Hindus need to know “MARTIAL ART” (be strong or FIGHTING FIT) in the land where the Muslims are posturing in front of Sri Ram Mandir.

rajput

26 Mar 17

PS: PLEASE FLY “BHAGWA” ON TOP OF RASHTRAPATI BHAWAN and LOK SABHA and from every roof top in Ayodhya!

Go on. DO IT!

—————————–

Read Full Post »

“मुसलमानों का अनावश्यक विरोध”

महोदय/महोदया,

 

जब यह सर्वविदित ही है कि अनेक साक्ष्यों के आधार पर अयोध्या स्थित “श्री राम जन्मभूमि मंदिर” सिद्ध हो चूका है । फिर भी इस्लामिक कट्टरपंथियों की दूषित व घ्रणित प्रवृति के कारण यह विवाद अभी सर्वोच्च न्यायालय के विचाराधीन है । अतः अभी संभावित सकारात्मक निर्णय की प्रतीक्षा करनी होगी ।

ऐसे में सर्वोच्च न्यायालय के माननीय न्यायाधीश का सुझाव कि “अयोध्या मंदिर विवाद को आपस में सुलझा लिया जाय” क्या स्वीकार्य होगा ? समझदार व सभ्य समाज विवादों को हल करने के शान्तिपूर्ण विकल्प ढूंढते है, परंतु जिस समाज का दर्शन पृथक संस्कृति को ही नकारता हो और अपनी घृणित सोच से उनके मान बिंदुओं को खंडित करके उनकी भावनाओं को ठेस पहुंचाना ही हो तो कोई क्या करें ?

इन जिहाद पिपासुओं की मानसिकता मंदिर जैसे धार्मिक विवादो पर कभी भी मध्यम मार्ग नहीं अपनायेगी ? हम कब तक मुस्लिम पोषित राजनीति से आत्मस्वाभिमान को ठेस पहुँचा कर जिहादियों के सपने पूरे करने के लिये अपने अस्तित्व को ही संकट में डालते रहेंगे ? कब तक बहुसंख्यकों की सरकार अल्पसंख्यको की अनुचित मांगों को मान कर बहुसंख्यकों का उत्पीड़न करती रहेंगी ?

याद करो जब 1985 में एक मुस्लिम तलाकशुदा बुजूर्ग महिला शाहबानो बेगम को जीवन निर्वाह के लिये धन देने को उसके पति को सर्वोच्च न्यायालय ने आदेश दिया था । तब मुस्लिम कट्टरपंथियों के दबाव में आकर कांग्रेस की पूर्ण बहुमत की सरकार के तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने1986 में संसद द्वारा विधेयक पास करके कानून बनाया और मुसलमानों को अपनी तलाक़ शुदा पत्नी को खर्चा देने की बाध्यता से मुक्त कर दिया था।

अतः इस प्रकरण को ध्यान में रखते हुए केंद्र की राष्ट्रवादी सरकार को अपनी प्रबल इच्छाशक्ति से करोड़ों हिन्दुओं की आस्थाओं के प्रतीक “भगवान श्री राम” का अयोध्या में भव्य मंदिर बनवाने के लिए आवश्यक विधेयक लाकर समस्त विवादों को पूर्ण विराम लगाना होगा।

भवदीय

विनोद कुमार सर्वोदय

ग़ाज़ियाबाद

(Much more important than building the Rama Temple is to make the constitution pro-Vedic, and make Hindustan a Vedic State, not secular (because the Vedic dharma and culture are inherently tolerant of all the tolerant religions and ideologies. – Skanda987)

 

 

 

Read Full Post »

From: Pramod Agrawal < >

 

आपने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का नाम तो सुना होगा,

 

ट्रिपल तलाक इत्यादि के मौके पार इसका नाम कई बार टीवी पर आया, मीडिया में आया असल में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड एक NGO है जिसका मुख्य दफ्तर दिल्लीमें है मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड आज हमारी संसद और यहाँ तक की सुप्रीम कोर्ट को भी कई मौकों पर धमकी देता है भारत के खिलाफ जंग की धमकी, जिहाद की धमकी, हिंसा की धमकी इत्यादिऔर अब जो हम आपको इस संस्था के बारे में बताने जा रहे है, कदाचित आपको ये जानकारियां कहीं मिले ही न, ये संगठन कब बना किसने बनायावैसे आपके मन में आता होगा की चूँकि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड है तो इसे मुसलमानो ने ही बनाया होगापर अब जानिए इसकी सच्चाई .

 

1971 आते आते इंदिरा गाँधी की लोकप्रियता बहुत घटने लगी थी, 1975 में इंदिरा गाँधी ने आपतकाल भी लगाया था, इंदिरा गाँधी को ये देश जैसे विरासत में जवाहर लाल नेहरू से मिला था, इंदिरा इसे अपनी जागीर समझती थी, घटती लोकप्रियता, और विपक्ष की बढ़ती लोकप्रियता से परेशान होकर इंदिरा गाँधी ने सेक्युलर भारत में मुसलमानो के तुष्टिकरण के लिए स्वयं मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की 1971 में स्थापना कीये भी.

 

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के लिए इंदिरा गाँधी के विशेष नियम भी बनाया, इस संस्था का आज तक कभी ऑडिट नहीं हुआ है, जबकि अन्य NGO का होता है पर इसे विशेष छूट मिली हुई हैये . अरब के देशों से कितना पैसा पाती है, उस पैसे का क्या करती है, किसीको कुछ नहीं पता .

 

91% मुस्लिम महिलाएं ट्रिपल तलाक के खिलाफ है, फिर भी मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड सुप्रीम कोर्ट को हिंसा तक की धमकी देता है, आपको जानकरआश्चर्य होगा की 95% मुसलमान महिलाओ को तो ये भी नहीं पता की मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड असल में है क्या.

 

इस NGO में केवल कट्टरपंथी मुस्लिम ही है, नरेंद्र मोदी के सर पर फतवा देने वाला इमाम बरकाती भी इस NGO का सदस्य है, जिहादी किस्म के ही लोग इस संस्था में हैं, इस संस्था में 1 भी महिला नहीं है मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड मुसलमानो का नहीं बल्कि इंदिरा गाँधी का बनाया हुआ है .

 

Read Full Post »

From: Pramod Agrawal < >

 

Castes in Muslims and Christians

 

Christianity ….One Christ, One Bible Religion…

 

But the Latin Catholic will not enter Syrian Catholic Church.

These two will not enter Marthoma Church .

These three will not enter Pentecost Church .

These four will not enter Salvation Army Church .

These five will no enter Seventh Day Adventist Church .

These six will not enter Orthodox Church.

These seven will not enter Jacobite church.

Like this there are 146 castes in Kerala alone for Christianity,

each will never share their churches for fellow Christians!

 

Now Muslims..! One Allah, One Quran, One Nebi….! Great unity?

 

Among Muslims, Shia and Sunni kill each other in all the Muslim countries.

The religious riot in most Muslim countries is always between these two sects.

The Shia will not go to Sunni Mosque.

These two will not go to Ahamadiya Mosque.

These three will not go to Sufi Mosque.

These four will not go to Mujahiddin mosque.

Like this it appears there are 13 castes in Muslims.

 

Killing / bombing/conquering/ massacring/. .. each other !

The American attack on Iraq was fully supported by all the Muslim countries surrounding Iraq !

One Allah, One Quran, One Nebi….????

 

Hindus –

 

They have 1,280 Religious Books, 10,000 Commentaries, more than one lakh sub-commentaries for these foundation books, innumerable presentations of one God, variety of Aacharyas, thousands of Rishies, hundreds of languages.

 

Still they all go to all other TEMPLES and they are peaceful and tolerant, and seek unity with others by inviting them to worship with them whatever God they wish to pray for!

 

Hindus never quarreled one another for the last ten thousand years in the name of religion.

BE VERY PROUD TO BE A HINDU

(but please do not tolerate intolerant religions or ideologies per the Vedic dharma. – skanda987)

 

::::: Name of the Sects in Islam and their Basic Beliefs :::::

 

  1. Jarudiah:

Followers of Abu’l-Jarud. They believe Holy Prophet (pbuh) designated Al-Isa as the Imam by his characteristics but not by name.

 

  1. Sulamania:

Followers of Sulaiman ibn-Jarir al-Zaidi. They believed Imamat was a matter of Jaririya conference and could be confirmed by two best Muslims.

 

  1. Butriyah:

They did not dispute the Khilafat of Uthman (ra), neither they attack him nor Hurariyah praise him.

 

  1. Yaqubiyya:

They accepted the Khilafat of Abu Bakr (ra) and Umar (ra), but did not reject those who rejected these Khulifaa. They also believed that Muslim commiters of Major sins will be in hell forever.

 

  1. Hanafiyah:

Followers of the Imammate of Muhammad ibn-al-Hanifah. They believe that Allah might have had a beginning.

 

  1. Karibiyah:

They believed that Imam Muhammad ibn-al-Hanifah is not dead and is the Imam Ghaib (in disappearance) and the expected Mahdi.

 

  1. Kamiliyah:

Followers of Abu-Kamil. They believed companions to be heretic because they forsook their allegiance to Ali (ra) and condemn Ali (ra) for ceasing to fight them. They believed in the returning of the dead before the Day of Resurrection and that Satan is right in preferring fire to clay.

 

  1. Muhammadiyyah:

Followers of Muhammad ibn-Abdullah ibn-al-Hassan. They do not believe/Mughairiyah that Imam Muhammad ibn-Abdullah died and that he is the Imam Ghaib and awaited Mahdi.

 

  1. Baqiriyah:

Followers of Muhammad ibn-Ali al-Baqir. They believe him to be the Imam Ghaib and expected Mahdi.

 

  1. Nadisiyah:

They believe that those who consider themselves better than anyone else are Kafirs (disbelievers).

 

  1. Sha’iyah:

They believe that the one who has recited La Ilaha Il-Allah (there is none worthy of worship except Allah), whatever she or he does, will never be punished.

 

  1. Ammaliyah:

They believe that faith for one is what he/she sincerely practices.

 

  1. Ismailiyah:

They believe in the continuity of Imammate among the descendants of Ismail ibn-Ja’far.

 

  1. Musawiyah:

They believe Musa ibn-Ja’far to be the Imam Ghaib and expected Mahdi / Mamturah.

 

  1. Mubarakiyah:

They believe in the continuity of Imammate among the descendants of Muhammad ibn-Ismail ibn-Ja’far.

 

  1. Kathiyah:

They believe that expected Mehdi will be twelveth Imam among the /Ithn Áshariya descendants of the Áli ibn-abi-Talib. (The Twelvers).

 

  1. Hashamiya:

They Predicate a body to Allah and also allege Prophet (pbuh) of disobedience/ Taraqibiyah to Allah

 

  1. Zarariyah:

They believe that Allah did not live nor had any attributes till He created for Himself life and His attributes.

 

  1. Younasiyah:

Followers of Younas ibn-Ábd-al-Rahman al-Kummi. They believe that Allah is borne by the bearers of His Throne, though He is stronger than they are.

 

  1. Shaitaniyah/Shireekiyah:

They believed in the view that deeds of servants of Allah are substances; and a servant of Allah can really produce a substance.

 

  1. Azraqaih:

Followers of Nafi ibn-al-Azraq. They do not believe in the good dreams and visions and claim that all forms of revelations have ended.

 

  1. Najadat:

Followers of Najdah ibn-Ámir al-Hanafi. They abolished the punishment of drinking wine also they believed that sinners of this sect would not be treated in hellfire but some other place before allowed in Paradise.

 

  1. Sufriyah:

Followers of Ziyad ibn-al-Asfar. They believed that sinners are in fact polytheists.

 

  1. Ajaridah:

Followers of Abd-al-Karim ibn-Ajrad. They believed that a child should be called to Islam after it has attained maturity. Also they believed booty of war to be unlawful till the owner is killed.

 

  1. Khazimiyah:

They believe Allah loves men of all faiths even if one has been a disbeliever most of his life.

 

  1. Shuaibiyah/Hujjatiyah:

They believed that what Allah desires does happen no matter what and what does not happen it means Allah desires it not.

 

  1. Khalafiyah:

Followers of Khalaf. They do not believe in fighting except under the leadership of an Imam.

 

  1. Ma’lumiyah/Majhuliah:

They believed that whoever did not recognise Allah by His names was ignorant of Him and anyone ignorant of Him was a disbeliever.

 

  1. Saltiyah:

Followers of Salt ibn-Usman. They believed in the conversion of adults only and if father has converted to Islam children were considered disbelievers till they reach maturity.

 

  1. Hamziyah:

Followers of Hamza ibn-Akrak. They believe that children of polytheists are condemned to hell.

 

  1. Tha’libiyah:

Followers of Tha’labah ibn-Mashkan. They believe that parents remain guardians over their children of any age until children make it clear to parents that they are turning away from truth.

 

  1. Ma’badiyah:

They did not believe in taking or giving alms from or to slaves.

 

  1. Akhnasiyah:

They do not believe in waging a war except in defence or when the opponent is known personally.

 

  1. Shaibaniyah/Mashbiyah:

Followers of Shaiban ibn-Salamah al-Khariji. They believe that Allah resembles His creatures.

 

  1. Rashidiyah:

They believe that land watered by springs, canals or flowing rivers should pay half the Zakat (tithe), while land watered by rain only should pay he full Zakat.

 

  1. Mukarramiyah/tehmiyah:

Followers of abu-Mukarram. They believe that ignorance constitutes as disbelief. Also that Allah enmity or friendship depends upon the state of a persons’ belief at his death.

 

  1. Abadiyah/Afáliyah:

They consider Abdullah ibn-Ibad as their Imam. They believe in doing good deeds without the intention of pleasing Allah.

 

  1. Hafsiyah:

Consider Hafs ibn-abi-l-mikdam as their Imam. They believe that only knowing Allah frees one from polytheism.

 

  1. Harithiya:

Followers of Harith ibn-Mazid al-Ibadi. They believe that the ability precedes the deeds.

 

  1. Ashab Ta’áh:

They believe that Allah can send a prophet without giving him any sign to prove his prophecy.

 

  1. Shabibiyah/Salihiyah:

Followers of Shabib ibn-Yazid al-Shaibani. They believe in the Imamate of a woman named Ghazalah.

 

  1. Wasiliyah:

Followers of Wasil ibn-‘Ata al-Ghazza. They believe that does who commit major sins will be punished in hell but still remain believers.

 

  1. Ámriyah:

Followers of Amir ibn-Ubaid ibn-Bab. They reject the legal testimony of people from supporters of either side of the battle of Camel.

 

  1. Hudhailiyah/Faniya:

Followers of abu-al-Hudhail Muhammad ibn-al-Hudhail. They believe that both Hell and Paradise will perish and that preordination of Allah can cease, at which time Allah will no longer be omnipotent.

 

  1. Nazzamiyah:

Followers of abu-Ishaq Ibrahim ibn-Saiyar. They do not believe in the miraculous nature of the Holy Quran nor do they believe in the miracles of the Holy Prophet (pbuh) like splitting the moon.

 

  1. Mu’ammariyah:

They believe that Allah neither creates life nor death but it is an act of the nature of living body.

 

  1. Bashriyah:

Followers of Bashr ibn-al-Mu’tamir. They believe that Allah may forgive a man his sins and may change His mind about this forgiveness and punish him if he is disobedient again.

 

  1. Hishamiyah:

Followers of Hisham ibn-ämr al-Futi. They believe that if a Muslim community come to consensus it needs an Imam and if it rebels and kills its Imam, no one should be chosen an Imam during a rebellion.

 

  1. Murdariyah:

Followers of Isa ibn-Sabih. They believe that staying in close communication with the Sultan (ruler) makes one unbeliever.

 

  1. Ja’friyah:

Followers of Ja’far ibn-Harb and Ja’far ibn-Mubashshir. They believe that drinking raw wine is not punishable and that punishment of hell could be inferred by a mental process.

 

  1. Iskafiyah:

Followers of Muhammad ibn-Abdallah al-Iskafi. They believe that Allah has power to oppress children and madman but not those who have their full senses.

 

  1. Thamamiyah:

Followers of Thamamah ibn-Ashras al-Numairi. They believe that he whom Allah does not compel to know Him, is not compelled to know and is classed with animals who are not responsible.

 

  1. Jahiziayh:

Followers of ‘Ámr ibn-Bahr al-Jahiz. They believe that Allah is able to create a thing but unable to annihilate it.

 

  1. Shahhamiyah/Sifatiyah:

Followers of abu-Yaqub al-Shahham. They believe that everything determined is determined by two determiners, one the creator and the other acquirer.

 

  1. Khaiyatiyah/Makhluqiyah:

Followers of abu-al-Husain al-Khaiyat. They believe that everything non-existent is a body before it appears, like man before it is born is a body in non-existence. Also that every attribute becomes existent when it makes its appearance.

 

  1. Ka’biyah:

Followers of abu-qasim Abdullah ibn-Ahmed ibn-Mahmud al-Banahi known as al-Ka’bi. They believe that Allah does not see Himself nor anyone else except in the sense that He knows himself and others.

 

  1. Jubbaiyah:

Followers of abu-‘Ali al-Jubbai. They believe that Allah obeys His servants when he fulfils their wish.

 

  1. Bahshamiyah:

Followers of abu-Hashim. They believe that one, who desires to do a bad deed, though may not do it, commit infidelity and deserve punishment.

 

  1. Ibriyah:

They believe that Holy Prophet (pbuh) was a wise man but not a prophet.

 

  1. Zanadiqiyah:

They believe that the incident Miraj was a vision of the Holy prophet (pbuh) and that we can see Allah in this world.

 

  1. Qabariyya:

They do not believe in the punishment of grave.

 

  1. Hujjatiya:

They do not believe in the punishment for deeds on the grounds.

 

  1. Fikriyya:

They believe that doing Dhikr and Fikr (Remembering and thinking about Allah) is better than worship.

 

  1. ‘Aliviyah/Ajariyah:

They believe that Hazrat Ali shared Prophethood with Mohammad (pbuh)

 

  1. Tanasikhiya:

They believe in the re-incarnation of soul.

 

  1. Rajiýah:

They believe that Hazrat Ali ibn-abi-Talib will return to this world.

 

  1. Ahadiyah:

They believe in the Fardh (obligations) in faith but deny the Sunnah.

 

  1. Radeediyah:

They believe that this world will live forever.

 

  1. Satbiriyah:

They do not believe in the acceptance of repentance.

 

  1. Lafziyah:

They believe that Quran is not the word of God but only its meaning and essence is the word of God. Words of Quran are just the words of the narrator.

 

  1. Ashariyah:

They believe that Qiyas (taking a guess) is wrong and amounts to disbelief.

 

  1. Bada’iyah:

They believe that obedience to Ameer is obligatory no matter what he commands.

 

*Islamic Encyclopaedia published by Munshi Mehboob ‘Alim’ (editor Newspaper Paisa, Lahore, Pakistan). Page 570-572.

 

*Al-Farq Bain Al Firaq, by Abu Mansur ‘abd-al-Kahir ibn-Tahir al-Baghdadi, Translated into English by Kate Chambers Seelye, (AMS Press, NewYork 1996)

 

*Kitab Lajawaab Masmay ba-Mazhab al-Islam by Hakeem Maulvi Muhammad Najam al-Ghani Rampuri, 1st edition, (Munshi Nau Lakshoor Lakhnau 1924).

 

Read Full Post »

From Pramod Agrawal < >

 

Scottish Diplomacy  (Slightly re-worded, and last item added by skanda987)
Jeff Foxworthy on Muslims:  1. If one refines heroin for a living,

but one has a moral objection to liquor.  One may be a Muslim  2. If one owns a £3,000 machine gun and £5,000 rocket launcher,

but one can’t afford shoes, One may be a Muslim  3. If one has more wives than teeth,  One may be a Muslim  4. If one wipes one’s butt with one’s bare hand,

but considers bacon unclean, One may be a Muslim  5. If one thinks vests come in two styles:

Bullet-proof and suicide,  One may be a Muslim  6. If one can’t think of anyone against whom

one hasn’t declared Jihad,  One may be a Muslim  7. If one considers television dangerous,

but routinely carries explosives in one’s clothing,  One may be a Muslim  8. If one was amazed to discover that cell phones

have uses other than setting off roadside bombs, One may be a Muslim 9. If one treats women not as human but a private property

and think every man should own at least four,  One may be a Muslim  10. If one find this offensive or racist

and doesn’t forward it,  One may be a Muslim

 

  1. If one joins a gang to rape non-Muslim females of any age in public and in daylight,

and kills one’s daughter, sister, or mother because she was found to have an affair with another man,

One may be a Muslim
 

 

Read Full Post »

From: Pramod Agrawal < >

 

ध्वनि तथा वाणी विज्ञान : सात सुरों का भारतीय संसार

लेखक – सुरेश सोनी

 

सृष्टि की उत्पत्ति की प्रक्रिया नाद के साथ हुई। जब प्रथम महास्फोट (बिग बैंग) हुआ, तब आदि नाद उत्पन्न हुआ। उस मूल ध्वनि को जिसका प्रतीक ‘ॐ‘ है, नादव्रह्म कहा जाता है। पांतजलि योगसूत्र में पातंजलि मुनि ने इसका वर्णन ‘तस्य वाचक प्रणव:‘ की अभिव्यक्ति ॐ के रूप में है, ऐसा कहा है। माण्डूक्योपनिषद्‌ में कहा है-

 

ओमित्येतदक्षरमिदम्‌ सर्वं तस्योपव्याख्यानं

भूतं भवद्भविष्यदिपि सर्वमोड्‌◌ंकार एवं

यच्यान्यत्‌ त्रिकालातीतं तदप्योङ्कार एव॥ – माण्डूक्योपनिषद्‌-१॥

 

अर्थात्‌ ॐ अक्षर अविनाशी स्वरूप है। यह संम्पूर्ण जगत का ही उपव्याख्यान है। जो हो चुका है, जो है तथा जो होने वाला है, यह सबका सब जगत ओंकार ही है तथा जो ऊपर कहे हुए तीनों कालों से अतीत अन्य तत्व है, वह भी ओंकार ही है।

 

वाणी का स्वरूप हमारे यहां वाणी विज्ञान का बहुत गहराई से विचार किया गया। ऋग्वेद में एक ऋचा आती है-

 

चत्वारि वाक्‌ परिमिता पदानि

तानि विदुर्व्राह्मणा ये मनीषिण:

गुहा त्रीणि निहिता नेङ्गयन्ति

तुरीयं वाचो मनुष्या वदन्ति॥ – ऋग्वेद १-१६४-४५

 

अर्थात्‌ वाणी के चार पाद होते हैं, जिन्हें विद्वान मनीषी जानते हैं। इनमें से तीन शरीर के अंदर होने से गुप्त हैं परन्तु चौथे को अनुभव कर सकते हैं। इसकी विस्तृत व्याख्या करते हुए पाणिनी कहते हैं, वाणी के चार पाद या रूप हैं-

 

१. परा, २. पश्यन्ती, ३. मध्यमा, ४. वैखरी

 

वाणी की उत्पत्ति –

वाणी कहां से उत्पन्न होती है, इसकी गहराई में जाकर अनुभूति की गई है। इस आधार पर पाणिनी कहते हैं, आत्मा वह मूल आधार है जहां से ध्वनि उत्पन्न होती है। वह इसका पहला रूप है। यह अनुभूति का विषय है। किसी यंत्र के द्वारा सुनाई नहीं देती। ध्वनि के इस रूप को परा कहा गया।

 

आगे जब आत्मा, बुद्धि तथा अर्थ की सहायता से मन: पटल पर कर्ता, कर्म या क्रिया का चित्र देखता है, वाणी का यह रूप पश्यन्ती कहलाता है, जिसे आजकल घ्त्ड़द्यदृद्धत्ठ्ठथ्‌ कहते हैं। हम जो कुछ बोलते हैं, पहले उसका चित्र हमारे मन में बनता है। इस कारण दूसरा चरण पश्यन्ती है।

 

इसके आगे मन व शरीर की ऊर्जा को प्रेरित कर न सुनाई देने वाला ध्वनि का बुद् बुद् उत्पन्न करता है। वह बुद् बुद् ऊपर उठता है तथा छाती से नि:श्वास की सहायता से कण्ठ तक आता है। वाणी के इस रूप को मध्यमा कहा जाता है। ये तीनों रूप सुनाई नहीं देते हैं। इसके आगे यह बुद्बुद् कंठ के ऊपर पांच स्पर्श स्थानों की सहायता से सर्वस्वर, व्यंजन, युग्माक्षर और मात्रा द्वारा भिन्न-भिन्न रूप में वाणी के रूप में अभिव्यक्त होता है। यही सुनाई देने वाली वाणी वैखरी कहलाती है और इस वैखरी वाणी से ही सम्पूर्ण ज्ञान, विज्ञान, जीवन व्यवहार तथा बोलचाल की अभिव्यक्ति संभव है।

 

वाणी की अभिव्यक्ति –

यहां हम देखते हैं कि कितनी सूक्ष्मता से उन्होंने मुख से निकलने वाली वाणी का निरीक्षण किया तथा क से ज्ञ तक वर्ण किस अंग की सहायता से निकलते हैं, इसका उन्होंने जो विश्लेषण किया वह इतना विज्ञान सम्मत है कि उसके अतिरिक्त अन्य ढंग से आप वह ध्वनि निकाल ही नहीं सकते हैं।

 

क, ख, ग, घ, ङ – कंठव्य कहे गए, क्योंकि इनके उच्चारण के समय ध्वनि कंठ से निकलती है।

च, छ, ज, झ,ञ – तालव्य कहे गए, क्योंकि इनके उच्चारण के समय जीभ लालू से लगती है।

ट, ठ, ड, ढ , ण – मूर्धन्य कहे गए, क्योंकि इनका उच्चारण जीभ के मूर्धा से लगने पर ही सम्भव है।

त, थ, द, ध, न – दंतीय कहे गए, क्योंकि इनके उच्चारण के समय जीभ दांतों से लगती है।

प, फ, ब, भ, म – ओष्ठ्य कहे गए, क्योंकि इनका उच्चारण ओठों के मिलने पर ही होता है।

 

स्वर विज्ञान –

सभी वर्ण, संयुक्ताक्षर, मात्रा आदि के उच्चारण का मूल ‘स्वर‘ हैं। अत: उसका भी गहराई से अध्ययन तथा अनुभव किया गया। इसके निष्कर्ष के रूप में प्रतिपादित किया गया कि स्वर तीन प्रकार के हैं।

 

उदात्त- उच्च स्वर

अनुदात्त- नीचे का स्वर

स्वरित- मध्यम स्वर

 

इनका और सूक्ष्म विश्लेषण किया गया, जो संगीत शास्त्र का आधार बना। संगीत शास्त्र में सात स्वर माने गए जिन्हें सा रे ग म प ध नि के प्रतीक चिन्हों से जाना जाता है। इन सात स्वरों का मूल तीन स्वरों में विभाजन किया गया।

 

उच्चैर्निषाद, गांधारौ नीचै ऋर्षभधैवतौ।

शेषास्तु स्वरिता ज्ञेया:, षड्ज मध्यमपंचमा:॥

 

अर्थात्‌ निषाद तथा गांधार (नि ग) स्वर उदात्त हैं। ऋषभ और धैवत (रे, ध) अनुदात्त। षड्ज, मध्यम और पंचम (सा, म, प) ये स्वरित हैं।

 

इन सातों स्वरों के विभिन्न प्रकार के समायोजन से विभिन्न रागों के रूप बने और उन रागों के गायन में उत्पन्न विभिन्न ध्वनि तरंगों का परिणाम मानव, पशु प्रकृति सब पर पड़ता है। इसका भी बहुत सूक्ष्म निरीक्षण हमारे यहां किया गया है।

 

विशिष्ट मंत्रों के विशिष्ट ढंग से उच्चारण से वायुमण्डल में विशेष प्रकार के कंपन उत्पन्न होते हैं, जिनका विशेष परिणाम होता है। यह मंत्रविज्ञान का आधार है। इसकी अनुभूति वेद मंत्रों के श्रवण या मंदिर के गुंबज के नीचे मंत्रपाठ के समय अनुभव में आती है।

 

हमारे यहां विभिन्न रागों के गायन व परिणाम के अनेक उल्लेख प्राचीनकाल से मिलते हैं। सुबह, शाम, हर्ष, शोक, उत्साह, करुणा-भिन्न-भिन्न प्रसंगों के भिन्न-भिन्न राग हैं। दीपक से दीपक जलना और मेघ मल्हार से वर्षा होना आदि उल्लेख मिलते हैं। वर्तमान में भी कुछ उदाहरण मिलते हैं।

 

कुछ अनुभव –

(१) प्रसिद्ध संगीतज्ञ पं. ओंकार नाथ ठाकुर १९३३ में फ्लोरेन्स (इटली) में आयोजित अखिल विश्व संगीत सम्मेलन में भाग लेने गए। उस समय मुसोलिनी वहां का तानाशाह था। उस प्रवास में मुसोलिनी से मुलाकात के समय पंडित जी ने भारतीय रागों के महत्व के बारे में बताया। इस पर मुसोलिनी ने कहा, मुझे कुछ दिनों से नींद नहीं आ रही है। यदि आपके संगीत में कुछ विशेषता हो, तो बताइये। इस पर पं. ओंकार नाथ ठाकुर ने तानपूरा लिया और राग ‘पूरिया‘ (कोमल धैवत का) गाने लगे। कुछ समय के अंदर मुसोलिनी को प्रगाढ़ निद्रा आ गई। बाद में उसने भारतीय संगीत की भूरि-भूरि प्रशंसा की तथा रॉयल एकेडमी ऑफ म्यूजिक के प्राचार्य को पंडित जी के संगीत के स्वर एवं लिपि को रिकार्ड करने का आदेश दिया।

 

२. आजकल पाश्चात्य जीवन मूल्य, आचार तथा व्यवहार का प्रभाव पड़ने के साथ युवा पीढ़ी में पाश्चात्य पॉप म्यूजिक का भी आकर्षण बढ़ रहा है। पॉप म्यूजिक आन्तरिक व्यक्तित्व को कुंठित और निम्न भावनाओं को बढ़ाने का कारण बनता है, जबकि भारतीय संगीत जीवन में संतुलन तथा उदात्त भावनाओं को विकसित करने का माध्यम है। इसे निम्न अनुभव प्रयोग स्पष्ट कर सकते हैं।

 

पांडिचेरी स्थित श्री अरविंद आश्रम में श्रीमां ने एक प्रयोग किया। एक मैदान में दो स्थानों पर एक ही प्रकार के बीज बोये गये तथा उनमें से एक के आगे पॉप म्यूजिक बजाया गया तथा दूसरे के आगे भारतीय संगीत। समय के साथ अंकुर फूटा और पौधा बढ़ने लगा। परन्तु आश्चर्य यह था कि जहां पॉप म्यूजिक बजता था, वह पौधा असंतुलित तथा उसके पत्ते कटे-फटे थे। जहां भारतीय संगीत बजता था, वह पौधा संतुलित तथा उसके पत्ते पूर्ण आकार के और विकसित थे। यह देखकर श्रीमां ने कहा, दोनों संगीतों का प्रभाव मानव के आन्तरिक व्यक्तित्व पर भी उसी प्रकार पड़ता है जिस प्रकार इन पौधों पर पड़ा दिखाई देता है।

 

(३) हम लोग संगीत सुनते हैं तो एक बात का सूक्ष्मता से निरीक्षण करें, इससे पाश्चात्य तथा भारतीय संगीत की प्रकृति तथा परिणाम का सूक्ष्मता से ज्ञान हो सकता है। जब कभी किसी संगीत सभा में पं. भीमसेन जोशी, पं. जसराज या अन्य किसी का गायन होता है और उस शास्त्रीय गायन में जब श्रोता उससे एकाकार हो जाते हैं तो उनका मन उसमें मस्त हो जाता है, तब प्राप्त आनन्द की अनुभूति में वे सिर हिलाते हैं। दूसरी ओर जब पाश्चात्य संगीत बजता है, कोई माइकेल जैक्सन, मैडोना का चीखते-चिल्लाते स्वरों के आरोह-अवरोह चालू होते हैं तो उसके साथ ही श्रोता के पैर थिरकने लगते हैं। अत: ध्यान में आता है कि भारतीय संगीत मानव की नाभि के ऊपर की भावनाएं विकसित करता है और पाश्चात्य पॉप म्यूजिक नाभि के नीचे की भावनाएं बढ़ाता है जो मानव के आन्तरिक व्यक्तित्व को विखंडित कर देता है।

 

ध्वनि कम्पन (च्दृद्वदड्ड ज्त्डद्धठ्ठद्यत्दृद) किसी घंटी पर प्रहार करते हैं तो उसकी ध्वनि देर तक सुनाई देती है। इसकी प्रक्रिया क्या है? इसकी व्याख्या में वात्स्यायन तथा उद्योतकर कहते हैं कि आघात में कुछ ध्वनि परमाणु अपनी जगह छोड़कर और संस्कार जिसे कम्प संतान-संस्कार कहते हैं, से एक प्रकार का कम्पन पैदा होता है और वायु के सहारे वह आगे बढ़ता है तथा मन्द तथा मन्दतर इस रूप में अविच्छिन्न रूप से सुनाई देता है। इसकी उत्पत्ति का कारण स्पन्दन है।

 

प्रतिध्वनि : विज्ञान भिक्षु अपने प्रवचन भाष्य अध्याय १ सूत्र ७ में कहते हैं कि प्रतिध्वनि (कड़ण्दृ) क्या है? इसकी व्याख्या में कहा गया कि जैसे पानी या दर्पण में चित्र दिखता है, वह प्रतिबिम्ब है। इसी प्रकार ध्वनि टकराकर पुन: सुनाई देती है, वह प्रतिध्वनि है। जैसे जल या दर्पण का बिम्ब वास्तविक चित्र नहीं है, उसी प्रकार प्रतिध्वनि भी वास्तविक ध्वनि नहीं है।

 

रूपवत्त्वं च न सामान्य त: प्रतिबिम्ब प्रयोजकं

शब्दास्यापि प्रतिध्वनि रूप प्रतिबिम्ब दर्शनात्‌॥ – विज्ञान भिक्षु, प्रवचन भाष्य अ. १ सूत्र-४७

 

घ्त्ड़ण्‌ क्ष्दद्यड्ढदद्मत्द्यन्र्‌ ठ्ठदड्ड च्र्त्थ्र्डद्धड्ढ – वाचस्पति मिश्र के अनुसार ‘शब्दस्य असाधारण धर्म:‘- शब्द के अनेक असाधारण गुण होते हैं। गंगेश उपाध्याय जी ने ‘तत्व चिंतामणि‘ में कहा – ‘वायोरेव मन्दतर तमादिक्रमेण मन्दादि शब्दात्पत्ति।‘ वायु की सहायता से मन्द-तीव्र शब्द उत्पन्न होते हैं।

 

वाचस्पति, जैमिनी, उदयन आदि आचार्यों ने बहुत विस्तारपूर्वक अपने ग्रंथों में ध्वनि की उत्पत्ति, कम्पन, प्रतिध्वनि, उसकी तीव्रता, मन्दता, उनके परिणाम आदि का हजारों वर्ष पूर्व किया जो विश्लेषण है, वह आज भी चमत्कृत करता है।

 

Read Full Post »

From Pramod Agrawal < >

 

वकास अब्दुल्लाह ने एक पोस्ट में लिखा है कि.., वे RSS के स्कूल में पढ़ते थे जिसका नाम सरस्वती विद्या मंदिर है…

.

वकास ने लिखा है कि – “मैं अपनी क्लास के चारों सेक्शन में 1 ही मुस्लिम विद्यार्थी था , मैंने राम स्तुति , शिव स्तुति , हनुमान चालीसा भोजन मन्त्र और सभी हिन्दू रीती रिवाजों को सिखा और उनके बारे में जाना और मैंने अपने हिन्दू दोस्तों के साथ हिन्दुओं के सभी त्यौहार धूमधाम से मनाये …”

.

“मैं कुछ अध्यापकों का सबसे ज्यादा चाहा जाने वाला विद्यार्थी बन गया था , मुझे गणित विषय में दिक्कत होती थी तो मेरे टीचर मुझे एक्स्ट्रा टाइम देकर पढ़ाते थे, यहाँ तक कि रविवार के दिन वो मुझे अपने घर बुलाकर पढ़ाते थे पर उन्होंने मुझसे कभी 1 पैसा नही माँगा …”

.

“मैं परीक्षा में 80 % अंकों के साथ पास हुआ था उसके बाद मैंने MCA किया और मुझे अपना कोर्से खतम होने से पहले ही अच्छी नौकरी मिल गयी थी | ये सब इसलिए संभव हो पाया क्यूंकि मेरे गणित के अध्यापक ने मेरी इतनी मदद की थी | मैं एक मुस्लिम बच्चा था वे चाहते ( RSS वाले ) तो आसानी से मेरी उपेक्षा कर सकते थे लेकिन उन्होंने ऐसा कुछ नही किया मैंने हिन्दू दोस्त बनाये , अध्यापक मुझे इतना प्यार करते थे कि कभी मुझे दुसरे मजहब का हूँ ये महसूस ही नही होने दिया …”

.

“मैं भारत को छोड़कर किसी अन्य देश में ये कल्पना भी नही कर सकता जहाँ मुस्लिम बहुसंख्यक ना हों, मुझे अपने देश , अपने स्कूल और अपने अध्यापकों पर गर्व है और मैं अपने माता पिता का भी शुक्रगुजार हूँ कि उन्होंने बिना किसी की बात पर ध्यान दिए मुझे इस RSS के स्कूल में दाखिल करवाया | मैं भगवान का भी धन्यवाद करता हूँ कि उन्होंने इस स्कूल में दाखिला दिलवाकर मुझे ऐसा मौका दिया कि मैं बेहतर बन सका और सीख पाया कि कोई भी मजहब मानवता से बेहतर नही होता ….”

 

.

——————————-

.

वकास के अनुभव से साफ़ पता चलता है कि RSS के क्या संस्कार है और वो दुसरे मजहब वालों को भी क्या सिखाते हैं और क्या देते हैं , , हम वकास अब्दुल्लाह का धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने अपने अनुभव साँझा किये इससे RSS के बारे भारतीय लोगों में कुछ भ्रान्ति दूर होने में मदद मिलेगी ….

अधिकतर जज है वामपंथी,

सिफारिशों से बने है जज, कांग्रेस ने अदालतों को भी बना दिया है हिन्दू विरोधी

 

भारतीय न्यायालय के आँखों देखे व्रतांत-

 

-वकील सर ये दारा सिंह है इसने गौ और हिन्दू हित में आवाज उठाई है।

कोर्ट- जेल में डाल के सड़ा दो इसे।

 

वकील-सर ये साध्वी प्रज्ञा है इसने हिंदुओं को एक करना का काम किया है।

कोर्ट-जेल में ठूंस के अमानवीय अत्याचार करो इसके साथ।

 

वकील-सर ये स्वामी असीमानंद हैं इन्होंने भी हिन्दू हित में काम किया है।

कोर्ट- डालो जेल में जल्दी।

 

वकील-सर ये कर्नल पुरोहित हैं ये देशभक्त और हिन्दू हितैषी हैं।

कोर्ट-फैंको जेल में जल्दी।

 

वकील-सर ये धनंजय देसाई है ये हिंदुओं के समर्थन में बोलते हैं।

कोर्ट-फैंको जेल में इसको।

 

वकील-सर ये कमलेश तिवारी हैं ये हिंदुओं को कोई गाली दे तो उसका जवाब दे देते हैं।

कोर्ट-इतनी हिम्मत,ठूंस दो जेल में।

 

वकील-सर ये स्वामी यशवीर हैं ये भी हिंदुओं में एकता करके धर्मरक्षा करना चाहते हैं।

कोर्ट- इसका बाहर क्या काम?,डालो जेल में।

 

वकील-सर ये ओवेसी है ये भगवान राम को गाली और हिंदुओं के कत्लेआम की धमकी दे रहा है।

कोर्ट- कोई बात नहीं मुकदमा ही नहीं बनता छोड़ो इन् साहब को।

 

वकील-सर ये आजम खान है भारत माता को गाली देता है,हिंदुओं का धर्मपरिवर्तन कराता है।(आजमगढ़)

कोर्ट-चुप !!! जाने दो इन साहब को।

 

वकील-सर ये इमाम बुखारी है इसके भी भारत के विरुद्ध किये गए अपराध बहुत ज्यादा हैं।

कोर्ट- बाईज्जत बरी करो इनको।

 

वकील-ये याकूब मेमन है इसने बम से बहुत हिंदुओं को मारा है।

कोर्ट-इस बेचारे के लिए आज रात को कोर्ट खोलेंगे हम।

 

वकील-सर ये JNU के जिहादी लड़के हैं भारत की बर्बादी तक जंग रहेगी की कसम खा रहे हैं।

कोर्ट-अरे प्यारे बच्चे हैं छोड़ो मासूमों कोई बात नहीं।

 

वकील-सर ये कन्हैया है भारत की सेना को बलात्कारी कह रहा है।

कोर्ट-जाने दो इस प्यारे से बच्चे को।

 

वकील-सर ये सलमान खान है इसने दुर्लभ प्रजाति के हिरण को मारा है और सोये हुए लोगों पर दारू पी कर गाड़ी चढ़ा कर मार दिया।

कोर्ट-कोई बात नहीं उन्हें तो मौत आई ही हुई थी। बरी करो इन साहब को।

 

वकील-सर ये कश्मीर के जिहादी हैं भारत की सेना पर पत्थर और गोलीबारी करते हैं, इस्लामिक स्टेट के झण्डे लहराते हैं,भारत माता को गाली देते हैं,आतंकवाद का समर्थन करते हैं,कश्मीर को भारत से तोडना चाहते हैं।

कोर्ट-खबरदार जो इन पर कोई पैलेट गन चलाई तो आदेश है ये हमारा।

 

वकील-सर ये जाकिर है हिन्दू धर्म का अपमान करता है आतंवाद को बढ़ावा देता है।

कोर्ट-इन बेचारे को हम कुछ नहीं कह सकते।

 

वकील- ये तो अन्याय है जुल्म है जज साहब।

कोर्ट-खामोश!!!! तू बताएगा हमें कैसे न्याय करना है///

 

ये सेक्युलर कोर्ट है भारत का यहाँ का न्याय सेक्युलर संविधान से चलेगा। भारत की अदालतों का यही हाल है क्योंकि ये सेक्युलर संविधान से लेकर वामपंथी और सेक्युलर जज जो सिफारिशों से बिठाये गए हैऔर इनके आये दिन आने वाले फैसलों से भी ये बात साबित होती है,

 

ये बकरीद पर चूप रहते है पर जल्लीकट्टू पर फैसला करते है,पुरे तंत्र को ही कांग्रेस हिन्दू विरोधी बना चुकी है जिसे ठीक करने में नरेंद्र मोदी को समय भी चाहिए और जनता का साथभी!

Read Full Post »

Older Posts »