Feeds:
Posts
Comments

quotes-notesfrom_the-great-partition-by-yasminkhan

The above handwritten quotes are from Yasmin Khan’s book.

It is worth for the Hindus to reading the book.

 

Below link has handwritten notes/ lines from Mr. T. Fatah’s book.

quotes-notes-from-chasing-mirage02102017

It is worth reading the book in which Tarek Fatah shows to the Islamists and Muslims to stop any effort to create an Islamic State, which never is possible.

The law and policy makers of the non-Muslim democracies of the world must read this book, if they care to retain freedom of thought, speech and action in their country.

jai sri Krishna!

skanda987

 

 

From: Deepak Das < >

LAND, more land, virgin land, AMERICAN land!

 

Having multiplied TEN times the rate of growth of Christians, Hindus and Jews through numerous wives (restricted to FOUR by the Prophet!) there was not enough water for all from ONE oasis near Mecca.

So, the wise Prophet said, “There’s plenty of water, food and LAND in the rest of the world for you. Go and capture it. And MULTIPLY TEN TIMES to cover the whole world!” That’s what they did.

First, they overran Christian Iraq, then the Zoroastrian IRAN, then the Buddhist AFGHANISTAN and then Hindusthan where the capital, DELHI, fell in 1192 AD.

Everywhere it was death, destruction, plunder, forcible abduction and rape. Defeated people started saying, “Curse falls upon the land where Muslims have arrived!” And finally, they struck America like a CURSE while introducing themselves on September 11, 2001.

The year 712 A.D. is important since Islam captured Gibraltar in the West and Sindh in the East. Such was the FORCE of “Jihad” unleashed by teachings of the Prophet as written in the Koran.

Christians in the West have already “met” Islam and feel lucky due to their escape from perpetual (slavery) “dog’s life” after forcing the Turks to lift their strangulating siege at Vienna in 1683 AD. (https://en.wikipedia.org/wiki/Siege_of_Vienna)

Please read the following carefully:

The Siege of Vienna in 1529 was the first attempt by the Ottoman Empire, led by Suleiman the Magnificent, to capture the city of Vienna, Austria. The siege signaled the pinnacle of the Ottoman Empire’s power and the maximum extent of Ottoman expansion in central Europe. Thereafter, 150 years of bitter military tension and reciprocal attacks ensued, culminating in the Battle of Vienna of 1683, which marked the start of the 15-year-long Great Turkish War.

The PERSISTENCE of Muslims to achieve their goal is remarkable. Deduction: Bharat ought to “recover” Srinagar at the earliest if she wants to save Delhi!

We see that in earlier centuries the Christians united to repulse the Muslims (Moors) and recover their lost lands after many battles whereas the Hindus in the East could never raise their heads and when finally, the parting came in 1947, one third of India vanished from the map. It became Pakistan!

There is a lot for the Hindu priests and scholars to think about in order to get our LAND back from the enemy who is waging permanent war against the Infidels!

Partitioned India is desperately struggling to come to terms with her Islam and FEARS second “Partition” in the near future. (NB: Indian LEADERS in 1947 were all cowards and totally USELESS with regard to patriotism. Not even ONE gave the call, “We must defend every inch of our land!”

And today, in 2017, they are still COWARDS. Not one is “educating” the Hindu masses on Partition, leave aside “educating” Europe and America about her own experiences with Islam. The word “Partition” is NEVER mentioned by the ruling establishment in India- from top to bottom, from President to Peon!

What kind of a friend has India proved to be for Europe and America if she never mentions her dreadful Muslims to them? Tomorrow when the Muslims start doing to Europe and America what they did to India, the whole world will curse India for keeping silent like the scared virgin who is raped but never tells anybody out of shame!

With regard to the current RUSH of Muslims to enter Europe and America, it will not be irrelevant to look at the following picture.

Muslim thinkers, who saw the poverty, illiteracy, denial of education to girls and degradation of women and universal unemployment, devised a master plan to change all that.

“Look at them, shivering in the cold, look at their torn and tattered clothes, look at the lice in their hair, look at all the women who cannot step out of home, look at the schools called “madrassas” that have no other book except the Koran, and look at the young men either becoming “Jihadi” or lying in gutter after taking drugs. It can all change overnight.”

“How?”, asked his perplexed friend.

“Send them all to EUROPE and AMERICA. They will all get two square meals every day, warm clothing, new shoes and socks, rent free housing fitted with all modern gadgets & conveniences and central heating and then first class education and jobs at the end of it, to live in comfort for ever- and at NO cost to their parents or their Islamic countries!

“So, tell the millions, DROP WHAT YOU ARE DOING, RUSH TO EUROPE and AMERICA, and get all life’s comforts FREE. And don’t forget the GIRLS galore!”

He could even add, “And all this will be paid for by foolish CHRISTIANS and none will ever ask you to discard mosque but come to church!”

That is the tragedy: Europeans who cry, “It is not fair!”, are threatened with arrest and imprisonment. Civilized countries are divided and close to civil war on account of these uncouth aliens who never treated anybody decently, or said “Thank you!” to the country that welcomed them!”

 

One ought to ask, “What will happen to the communities already living in Europe and the United States in peace & harmony?”

ANSWER:

When they dropped some chemicals in water all the fish died.

When they put a couple of wolves in the sheep pen all the sheep were killed.

In the very land where Islam was born all Non-Muslims were put to sword or converted by force within weeks. One cannot find a single copy of Bible, Gita, Tora or Granth in the whole of Saudi Arabia!

When they introduced Muslims in Afghanistan ALL THE BUDDHISTS VANISHED.

When the Muslims took up residence in North Kashmir ALL THE HINDUS were wiped out.

When the Muslims arrived in West Punjab all the SIKHS became extinct.

And when the I.S. (Islamic State) was established in Syria ALL THE YAZIDIS perished.

(And WHO will bring back all those killed in the World Trade Centre towers in New York in the most horrible manner?)

————–

Based on this undeniable FACT (the TRUTH) can we NOT predict that – “WHEN THE MUSLIMS ARRIVED IN AMERICA ALL THE CHRISTIANS & JEWS (HINDUS & SIKHS) are likely EITHER to be ENSLAVED, CONVERTED OR BEHEADED AND THEIR WOMEN & GIRLS would be MOLESTED, GROPED OR RAPED?”

What ALL of us should be speaking out loud is:

“Donald Trump is the savior of civilization while all the ignorant fools are opposing him!”

 

From: Madhusudan H Jhaveri < >

 

देश आज अधीर है।

डॉ. मधुसूदन

 

अब कुंभकरन जागो है।

 

कुंभकरन जागो है।

सात दसक सोयो थो।

अब बहुत भूखो है।

सब कुछ चएतो है

अब कुंभकरन जागो है।॥१॥

***

भारत जन-तंतर भाया,

एक परदान काम करैगो,

परजा जन हक से सोवैगो,

केवल वोट ही देवैगो।

अब कुंभकरन जागो है॥२॥

***

अकर्ण्यता अधिकार इनको

कृष्ण गीता में बोल्ल्यो है।

फल जल्दी मिलनो चाहिये,

संविधान मैं लिख्यो है।

अब कुंभकरन जागो है॥३॥

*****************

सूचना: मित्रों द्वारा वार्तालाप से निकले हुए प्रश्नों के उत्तर मेरी (दूर से पठित) जानकारी की सीमा में मैंने दिए थे। जिसपर आधारित यह संक्षिप्त आलेख प्रश्नोत्तरों की विधा में प्रस्तुत है।

 

प्रश्न (१) क्या आज देश की जनता अधीर है?

हाँ, आज प्रजा अधीर हो चुकी है; और शीघ्रातिशीघ्र प्रगति चाहती है। उसे समस्याओं के समाधान भी शीघ्र गतिवाले चाहिए। आज के आज चाहिए। आप सभी समस्याएँ जानते हैं। मैं यदि गिनाऊं तो आलेख भर जाएगा।

 

प्रश्न: (२) समस्याओं की अभूतपूर्व वृद्धि और हल?

हमारे चींटी की गतिवाले हल, जो भ्रष्ट नौकरशाह सुलझाते हैं, उनका फल जब तक पक कर मिलेगा तब तक समस्याएँ भी दुगुनी-तिगुनी हो जाएगी। समस्याओं की संख्या और मात्रा, दोनों की वृद्धि अति तीव्रता से हो रही है; जो इतिहास में अभूतपूर्व है। (कुछ बदलाव अवश्य लाया जा रहा है।}

 

 

प्रश्न: (३)काम-चोर उद्धत नौकरशाही ?

और दशकों की सुस्त, जड और उद्धत (आदतोंवाली) नौकरशाही की काम-चोर परम्परा से काम निकलवाना है। हड्डियों में भरी उद्धताई और सुस्ती भी अवरोध पैदा करती है। (बदलाव है।}

 

प्रश्न:(४) विरोधी पक्ष साथ क्यों नहीं दे रहे ?

 

परिस्थिति गम्भीर हैं। जो इतिहास में अभूतपूर्व है। साथ विरोधी पक्ष अपने भ्रष्ट कामों के (काला धन) इतिहास को छिपाने के लिए , हर देशोन्नति की बालटी में पैर गडाकर भारी बालटी उठवाने की चुनौती दे रहे हैं।

(The opposition party, instead of providing constructive criticism or effective solutions, simply hinders progress and thus acting as anti-national. – skanda987)

 

प्रश्न:(५) हमारा मतदाता कैसे मत देता है?

 

मतदाता तो की मूर्ख ढपोल शंखों के, कोरे वचनों पर मत देता है। (कुछ ऐसा ही इतिहास है।)

कुछ पढत मूर्ख अपने आप को विद्वान(?) भी समझते हैं। संचार-माध्यम (मिडीया)भी भ्रष्ट(?) है। पाकिस्तान की समस्या, चीन की समस्या, हमारी कश्मिर की समस्या, हमारे प्रवासी भारतीयों की भी, उन देशों की समस्याएँ जहाँ वें काम करते हैं, आतंकवादी, कश्मिर समस्या, कृषकों की आत्महत्त्याएँ इत्यादि इत्यादि अनेक अनगिनत, और अनजान समस्याएँ सामने मुँह फाडे खडी है।

 

प्रश्न:(६) आज समस्याओं का कैसा समाधान काम आएगा?

इस लिए समस्याओं का शीघ्र समाधान हमारा लक्ष्य होना चाहिए. समाधान स्वदेशी हो तो पहले प्रयोग अवश्य हो; पर ऐसा प्रयोग शीघ्रता की कसौटी पर खरा उतरना चाहिए. अंतिम कसौटी राष्ट्र का हित ही अटल लक्ष्य होना चाहिए.

आज के हल, समाधान या सुलझाव की गति समस्यावृद्धि की गति की अपेक्षा शीघ्र (तीव्र) होनी चाहिए। पर स्वदेश का हित-लाभ अवश्य, पर शीघ्र होना चाहिए.

 

प्रश्न:(७) आज सम्पूर्ण (१०० %) स्वदेशी हल काम नहीं आएंगे क्या?

धीमी गति से समस्याएँ सुलझानेवाली परम्परागत स्वदेशी (यंत्रों)की प्रणाली का उपयोग भी देरी करा कर विफलता का दुःसाहस होगा। आज की स्थिति में, शीघ्र यंत्रों के बिना, तकली के सूत से हाथकरघे पर बना कपडा मात्रा की दृष्टि से, लाभकारी नहीं हो सकता। कपडे की माँग वृद्धिंगत जनसंख्या के अनुपात में ही अपेक्षित है।

 

प्रश्न:(८) क्या आप स्वदेशी का विरोध करते हैं?

यह स्वदेशीका विरोध नहीं; व्यावहारिकता का स्वीकार और विवेक है।

 

 

प्रश्न:(९) तो गांधीजी ने खादी को प्रोत्साहित क्यों किया था?स्वयं तकली पर सूत भी तो काता करते थे?

उस समय गांधीजी स्वतंत्रता के उद्देश्य से व्य़ूह रचना करते दिखाई देते हैं. अंग्रेज़ भारत से कच्ची सस्ती कपास मॅन्चेस्टर ले जाकर वहाँ की मिलों में बुना हुआ कपडा भारत के बाजार में ही महँगा बेचता था। सस्ती कपास भारत की, और उसी भारत को महँगा कपडा? पर ऐसा दोहरा लाभ अंग्रेज़ लेता था। इस अंग्रेज़ के आर्थिक लाभ पर प्रहार करने के लिए गांधीजी ने खादी को प्रोत्साहित किया था। आज की परिस्थिति अलग है। आज खादी स्वैच्छिक व्यक्ति की श्वेच्छापर छोडा जाए. कुछ प्रोत्साहन भी स्वीकार्य है, पर आज खादी का

 

प्रश्न: (१०) क्या दीनदयाल उपाध्याय जी ने इस विषय पर विचार के लिए कोई निर्देश या संकेत दिया है?

उत्तर: दीनदयाल उपाध्याय जी ने स्वदेश हित चिन्तन के लिए, विवेक पर निम्न संकेत दिया है?

*दीनदयाल उपाध्याय : कर्तृत्व एवं विचार* में –डॉ.महेशचंद्र शर्मा: (पी.एच. डी शोध निबंध) * पृष्ठ २८८ पर लिख्ते हैं;

*वे (दीनदयाल जी) किसी वादविशेष से कट्टरतापूर्वक बँधने की बजाय शाश्वत जीवनमूल्यों के प्रकाश में यथासमय आवश्यक परिवर्तन एवं मानवीय विवेक में आस्था रखते (थे)हैं।

 

(११) चिन्तन मौलिक होना चाहिए।

 

मौलिक चिन्तन मूल(जड) तक पहुँचता है। समाधान खोजने में,शोधकर्ता किसी भी विचारधारा से अपने आप को बाँध नहीं लेता। जैसे रोग का निदान करते समय डाक्टर पहले से विशेष रोग को मान कर नहीं चलता। समाधान मिलने पर आप विचारधारा के अंतर्गत हल को संभव हो, तो, प्राथमिकता (वरीयता) दे सकते हैं। कभी कभी यह संभव नहीं होगा। स्वदेश का हित मात्र दृष्टव्य सदैव होना चाहिए।

 

आज का नारा है-शीघ्रता।

यदि हम शीघ्रता से समस्याओं को हल नहीं करेंगे, तो काल कवलित हो जाएँगे।

==

Last lines of a poem at:

https://skanda987.wordpress.com/2011/04/09/%e0%a4%93-%e0%a4%ad%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a4%a4-%e0%a4%a6%e0%a5%87%e0%a4%b6%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b2%e0%a5%8b%e0%a4%97%e0%a5%8b%e0%a4%82/

 

ओ भारतके पुत्रों ओ ऋषियोंके पूत्रों ।

ये अंधेरी दुनियाका अंधेरा तुम दूर करो ॥46॥

गीता चिराग ले कर उपनिषद् चिराग ले कर ।

घरसे बहार आओ जगका अंधियारा दूर करो ॥47॥

दिया मत छुपाओ बहुत अंधेरा है ।

कहते हैं रामानुज और मध्वाचार्यजी ॥48॥

और भक्तिवेदान्त स्वामि श्री प्रभुपादजी ।

राम कृष्ण जय हो राम कृष्ण जय हो ॥49॥

सनातन धर्म जय हो सनातन धर्म जय हो ।।

==

From: Maj Gen Ashok Coomar < >

 

(1) अगर आपका नाम असद ओवैसी है

अगर आपका नाम असद ओवैसी है तो आपको भगवान राम की माता कौशल्या को वेश्या कहने का अधिकार है, हिंदुओं को पंद्रह मिनट में ख़त्म करने की चुनौती देना आपकी मर्दानगी है…

 

अगर आपका नाम एम एफ हुसैन है तो आप को माँ सरस्वती के नंगे चित्र बनाने का अधिकार ही नहीं है, आपको आपकी ऐसी कलात्मकता के लिए भारत का उच्च नागरिक सम्मान भी मिलेगा…

 

अगर आपका नाम जायरा वसीम है तो देश की हिन्दू जनता आपकी फिल्म देख कर आपको स्टार बना देगी…और

 

अगर आपको इस्लामिक कट्टरपंथियों ने बुरा भला कहा तो सिर्फ इतना कहा जायेगा कि बेचारी 16 साल की बच्ची को मत छेड़ो…बाकी किसी को उसमे कट्टरवाद नज़र नहीं आएगा…

 

पर

अगर आपका नाम कमलेश तिवारी है तो आपके पैंगबर के बारे में कुछ भी कहने पर आपका सर कलम करने की मांग एक वाजिब मांग है…

 

आपका नाम आशु परिहार है तो आपको जान बचा कर छुपना पड़ेगा…

 

भारत में आपको अभिव्यक्ति की पूरी स्वतंत्रता है, बस आपका नाम जायरा या सलमा या हुसैन होना चाहिए या आप राम या सीता या दुर्गा को गालियाँ दे रहे हों…आपको कुछ भी बोलने की आज़ादी है…जब तक आप मेरी मनपसंद बात कर रहे हों…

 

(2) मस्जिदों मे भरा है काला धन !

मंदिरो की दक्षिणा सरकार में जमा करने की मांग रखनेवाले सेक्युलर और उसकी न्यूज बार बार दिखानेवाली मिडीया चॅनेल्स देश में q 3 लाख मदरसे और मस्जिद है ।

 

हमारे कुछ प्रश्न मिडीया के लिए –

1) कितने मदरसे मस्जिदों का बँक अकौऊंट है ?

2) क्या सभी ट्रस्ट रजिस्टर किये है ?

3) क्या ट्रस्ट के पैनकार्ड बनवाये है??

4) क्या वक्फ बोर्ड को सभी मस्जिदों का सालाना हिसाब देकर उसे पब्लिक में दिखाया जाता है?

5) क्या मदरसे और मस्जिदों का ऑडिट रिपोर्ट पब्लिश होता है??

6) कितने मस्जिदों के अंदर जाकर हिसाब किताब मिडीयाने माँगा?

7) इन मस्जिदों और मदरसोने जमा हुए धन से आजतक कितने कॉलेज अपस्ताल पार्क सड़क एम्बुलन्स या देश के सभी नागरिकों का फायदा हो ऐसे काम किए?

 

हर मस्जिद महीनें में 1,00,000 ₹ का काला धन जमा हुआ तो ₹ 1,00,000 × 3,00,000 =

30,00,00,00,000 तीन हजार करोड़ हर महीने का तो 12 महीनो का 32 हजार करोड़ ₹।

8 नवंम्बर की रात से अजमेर दर्गा जामा मस्जिद हाजी अली और देश के सभी मस्जिद और मदरसो का काल धन ट्रक टेम्पो में भर भर के बाहर आया है कितने मिडीया न्यूज चॅनेल्स ये सच्चाई दिखने की हिम्मत करते है??

इस मेसेज को शेअर करे काला धन पकड़वाए ।

 

(3) संस्कृत का विरोध करने वाले –

 

संस्कृत का विरोध करने वाले एक एक कर पढे कि संस्कृत किस तरह भारत की नीव है …

इसे हटाने का मतलब पूरा भारत एक झटके मे समाप्त ——

 

विभिन्न संस्थाओं के संस्कृत ध्येय वाक्य—

 

भारत सरकार- – सत्यमेव जयते

लोक सभा- – धर्मचक्र प्रवर्तनाय

उच्चतम न्यायालय- – यतो धर्मस्ततो जयः

आल इंडिया रेडियो – सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय

दूरदर्शन – सत्यं शिवम् सुन्दरम

गोवा राज्य – सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चिद् दुःखभाग्भवेत्।

भारतीय जीवन बीमा निगम – योगक्षेमं वहाम्यहम्

डाक तार विभाग – अहर्निशं सेवामहे

श्रम मंत्रालय – श्रम एव जयते

भारतीय सांख्यिकी संस्थान – भिन्नेष्वेकस्य दर्शनम्

थल सेना – सेवा अस्माकं धर्मः

वायु सेना – नभःस्पृशं दीप्तम्

जल सेना – शं नो वरुणः

मुंबई पुलिस – सद्रक्षणाय खलनिग्रहणाय

हिंदी अकादमी – अहम् राष्ट्री संगमनी वसूनाम

भारतीय राष्ट्रीय विज्ञानं अकादमी – हव्याभिर्भगः सवितुर्वरेण्यं

भारतीय प्रशासनिक सेवा अकादमी – योगः कर्मसु कौशलं

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग – ज्ञान-विज्ञानं विमुक्तये

नेशनल कौंसिल फॉर टीचर एजुकेशन – गुरुः गुरुतामो धामः

गुरुकुल काङ्गडी विश्वविद्यालय – ब्रह्मचर्येण तपसा देवा मृत्युमपाघ्नत

इन्द्रप्रस्थ विश्वविद्यालय – ज्योतिर्व्रणीततमसो विजानन

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय – विद्ययाऽमृतमश्नुते

आन्ध्र विश्वविद्यालय – तेजस्विनावधीतमस्तु

बंगाल अभियांत्रिकी – एवं विज्ञान विश्वविद्यालय

शिवपुर – उत्तिष्ठत जाग्रत प्राप्य वरान् निबोधत

गुजरात राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय – आ नो भद्राः क्रतवो यन्तु विश्वतः

संपूणानंद संस्कृत विश्वविद्यालय – श्रुतं मे गोपय

श्री वैंकटेश्वर विश्वविद्यालय – ज्ञानं सम्यग् वेक्षणम्

कालीकट विश्वविद्यालय – निर्मय कर्मणा श्री

दिल्ली विश्वविद्यालय – निष्ठा धृति: सत्यम्

केरल विश्वविद्यालय – कर्मणि व्यज्यते प्रज्ञा

राजस्थान विश्वविद्यालय – धर्मो विश्वस्यजगतः प्रतिष्ठा

पश्चिम बंगाल राष्ट्रीय न्यायिक विज्ञान विश्वविद्यालय – युक्तिहीने विचारे तु धर्महानि: प्रजायते

वनस्थली विद्यापीठ – सा विद्या या विमुक्तये।

राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद् – विद्याsमृतमश्नुते।

केन्द्रीय विद्यालय – तत् त्वं पूषन् अपावृणु

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड – असतो मा सद् गमय

प्रौद्योगिकी महाविद्यालय, त्रिवेन्द्रम – कर्मज्यायो हि अकर्मण:

देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इन्दौर – धियो यो नः प्रचोदयात्

गोविंद बल्लभ पंत अभियांत्रिकी महाविद्यालय, पौड़ी – तमसो मा ज्योतिर्गमय

मदन मोहन मालवीय अभियांत्रिकी महाविद्यालय,गोरखपुर – योगः कर्मसु कौशलम्

भारतीय प्रशासनिक कर्मचारी महाविद्यालय, हैदराबाद – संगच्छध्वं संवदध्वम्

इंडिया विश्वविद्यालय का राष्ट्रीय विधि विद्यालय – धर्मो रक्षति रक्षितः

संत स्टीफन महाविद्यालय, दिल्ली – सत्यमेव विजयते नानृतम्

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान – शरीरमाद्यं खलुधर्मसाधनम्

विश्वेश्वरैया राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, नागपुर – योग: कर्मसु कौशलम्

मोतीलाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, इलाहाबाद – सिद्धिर्भवति कर्मजा

बिरला प्रौद्योगिकी एवं विज्ञान संस्थान, पिलानी – ज्ञानं परमं बलम्

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान खड़गपुर – योगः कर्मसुकौशलम्

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मुंबई – ज्ञानं परमं ध्येयम्

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर – तमसो मा ज्योतिर्गमय

-भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान चेन्नई – सिद्धिर्भवति कर्मजा

-भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की – श्रमं विना नकिमपि साध्यम्

भारतीय प्रबंधन संस्थान अहमदाबाद – विद्या विनियोगाद्विकास:

भारतीय प्रबंधन संस्थान बंगलौर – तेजस्वि नावधीतमस्तु

भारतीय प्रबंधन संस्थान कोझीकोड – योगः कर्मसु कौशलम्

सेना ई एम ई कोर – कर्मह हि धर्मह

सेना राजपूताना राजफल – वीर भोग्या वसुन्धरा

सेना मेडिकल कोर – सर्वे संतु निरामया ..

सेना शिक्षा कोर – विदैव बलम

सेना एयर डिफेन्स – आकाशेय शत्रुन जहि

सेना ग्रेनेडियर रेजिमेन्ट – सर्वदा शक्तिशालिं

सेना राजपूत बटालियन – सर्वत्र विजये

सेना डोगरा रेजिमेन्ट – कर्तव्यम अन्वात्मा

सेना गढवाल रायफल – युद्धया कृत निश्चया

सेना कुमायू रेजिमेन्ट – पराक्रमो विजयते

सेना महार रेजिमेन्ट – यश सिद्धि

सेना जम्मू काश्मीर रायफल – प्रस्थ रणवीरता

सेना कश्मीर लाइट इंफैन्ट्री – बलिदानं वीर लक्षयं

सेना इंजीनियर रेजिमेन्ट – सर्वत्र

भारतीय तट रक्षक – वयम् रक्षामः

सैन्य विद्यालय – युद्धं प्र्गायय

सैन्य अनुसंधान केंद्र – बालस्य मूलं विज्ञानम

– – – – – – – – – –

सिलसिला यहिं खतम नही होता, विदेशी भी हमारे कायल हैं देखो जरा –

नेपाल सरकार – जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी

इंडोनेशिया जलसेना – जलेष्वेव जयामहेअसेह राज्य (इंडोनेशिया) – पञ्चचित

कोलंबो विश्वविद्यालय (श्रीलंका) – बुद्धि: सर्वत्र भ्राजते

मोराटुवा विश्वविद्यालय (श्रीलंका) – विद्यैव सर्वधनम्

पेरादेनिया विश्वविद्यालय – सर्वस्य लोचनशास्त्रम्

– – – –

संस्कृत और संस्कृति ही भारतीयता का मूल है .. भारत का विकास इसी से संभव है- तो कीजिये अपने गौरव को याद और सिर उठाकर कहिये “हम भारतीय हैं और संस्कृत हमारी पहचान है , हमें अपने गौरव का अभिमान है।”

भारत माता की जय..

जयहिंद..

 

(4) संस्कृत बारे कुछ रोचक तथ्य

 

संस्कृत के बारे में ये 20 तथ्य जान कर आपको भारतीय होने पर गर्व होगा।

 

आज हम आपको संस्कृत के बारे में कुछ ऐसे तथ्य बता रहे हैं,जो किसी भी भारतीय का सर गर्व से ऊंचा कर देंगे;;

 

  1. संस्कृत को सभी भाषाओं की जननी माना जाता है।

 

  1. संस्कृत उत्तराखंड की आधिकारिक भाषा है।

 

  1. अरब लोगो की दखलंदाजी से पहले संस्कृत भारत की राष्ट्रीय भाषा थी।

 

  1. NASA के मुताबिक, संस्कृत धरती पर बोली जाने वाली सबसे स्पष्ट भाषा है।

 

  1. संस्कृत में दुनिया की किसी भी भाषा से ज्यादा शब्द है।

वर्तमान में संस्कृत के शब्दकोष में 102 अरब, 78 करोड़, 50 लाख शब्द है।

 

  1. संस्कृत किसी भी विषय के लिए एक अद्भुत खजाना है।

जैसे हाथी के लिए ही संस्कृत में 100 से ज्यादा शब्द है।

 

  1. NASA के पास संस्कृत में ताड़पत्रो पर लिखी 60,000 पांडुलिपियां है जिन पर नासा रिसर्च कर रहा है।

 

  1. फ़ोबर्स मैगज़ीन ने जुलाई,1987 में संस्कृत को Computer Software के लिए सबसे बेहतर भाषा माना था।

 

  1. किसी और भाषा के मुकाबले संस्कृत में सबसे कम शब्दो में वाक्य पूरा हो जाता है।

 

  1. संस्कृत दुनिया की अकेली ऐसी भाषा है जिसे बोलने में जीभ की सभी मांसपेशियो का इस्तेमाल होता है।

 

  1. अमेरिकन हिंदु युनिवर्सिटी के अनुसार संस्कृत में बात करने वाला मनुष्य बीपी, मधुमेह,कोलेस्ट्रॉल आदि रोग से मुक्त हो जाएगा। संस्कृत में बात करने से मानव शरीरका तंत्रिका तंत्र सदा सक्रिय रहता है जिससे कि व्यक्ति का शरीर सकारात्मक आवेश (PositiveCharges) के साथ सक्रिय हो जाता है।

 

  1. संस्कृत स्पीच थेरेपी में भी मददगार है यह एकाग्रता को बढ़ाती है।

 

  1. कर्नाटक के मुत्तुर गांव के लोग केवल संस्कृत में ही बात करते है।

 

  1. सुधर्मा संस्कृत का पहला अखबार था, जो 1970 में शुरू हुआ था। आज भी इसका ऑनलाइन संस्करण उपलब्ध है।

 

  1. जर्मनी में बड़ी संख्या में संस्कृतभाषियो की मांग है। जर्मनी की 14 यूनिवर्सिटीज़ में संस्कृत पढ़ाई जाती है।

 

  1. नासा के वैज्ञानिकों के अनुसार जब वो अंतरिक्ष ट्रैवलर्स को मैसेज भेजते थे तोउनके वाक्य उलट हो जाते थे।इस वजह से मैसेज का अर्थ ही बदल जाता था।उन्होंले कई भाषाओं का प्रयोग किया लेकिन हर बार यही समस्या आई।आखिर में उन्होंने संस्कृत में मैसेज भेजा क्योंकि संस्कृत के वाक्य उल्टे हो जाने पर भी अपना अर्थ नही बदलते हैं।जैसेअहम् विद्यालयं गच्छामि। विद्यालयं गच्छामि अहम्। गच्छामिअहम् विद्यालयं ।उक्त तीनो के अर्थ में कोई अंतर नहीं है।

 

  1. आपको जानकर हैरानी होगी किComputer द्वारा गणित के सवालो को हल करने वाली विधि यानि Algorithms संस्कृत में बने है ना कि अंग्रेजी में।

 

  1. नासा के वैज्ञानिको द्वारा बनाए जा रहे 6th और 7th जेनरेशन Super Computers संस्कृतभाषा पर आधारित होंगे जो 2034 तक बनकर तैयार हो जाएंगे।

 

  1. संस्कृत सीखने से दिमाग तेज हो जाता है और याद करने की शक्ति बढ़ जाती है। इसलिए London और Ireland के कई स्कूलो में संस्कृत को Compulsory Subject बना दिया है।

 

  1. इस समय दुनिया के 17 से ज्यादा देशो की कम से कम एक University में तकनीकी शिक्षा के कोर्सेस में संस्कृत पढ़ाई जाती है।संस्कृत के बारे में ये 20 तथ्य जान कर आपको भारतीय होने पर गर्व होगा।

 

(5) सबसे बड़ी ख़बर –

 

सबसे बड़ी ख़बर : मुस्लिम देश कुवैत ने ट्रंप की तरह 5 मुस्लिम देशों पर वीजा का बैन लगाया !!

आपको बजट के बाद आज की सबसे बड़ी ख़बर बताते हैं , पूरा का पूरा मुस्लिम देश कुवैत भी अब ट्रम्प की राह पर चलने लगा है । ग़ौरतलब है कि कुवैत ने पाँच मुस्लिम देशों के वीज़ा पर बैन लगा दिया है , इससे पहले ट्रम्प द्वारा सात मुस्लिम देशों के वीज़ा पर बैन लगाने के बाद दुनिया भर के मुस्लिमों और तथाकथित बुधिजीवियों ने ट्रम्प की आलोचना की थी । लेकिन कुवैत के इस फ़ैसले में अब उनकी हालत ख़राब कर दी है ।

 

 

 

what-great-men-or-countries-say-about-islam

My comment on the Pluralism discussed at

http://www.deccanherald.com/content/571806/indian-pluralism-facing-one-its.html

Commented on 9/22/2016

 

My comment here is based on my understanding that pluralism is same as multi-culturalism (MC). Based on below reasons I say that MC is not good for Hindustan, but selective MC is fine. By selective MC (SMC) I mean choose those cultures and religions legal that are not intolerant towards tolerant religions and ideologies. Reason(s): – The Vedic dharma and culture of Hindustan is tolerant of all the tolerant faiths and ideologies. Additionally, per the Vedic dharma no Vedic (Hindu) has ever converted anyone by force or enticement; therefore, we the Vedics do not want anyone convert us by force or enticement. Additionally, the Vedics never have invaded non-Vedic countries for conversion, or land grabbing. We just do not do it. – The Vedic is universal dharma for mankind. It is not sectarian. it does not say one race or people are superior or inferior to any other race, not does it say one race should exploit, kill or convert any other race. Vedic dharma provides complete spiritual science for mankind, living per which anyone can advance spiritually. – Vedic dharma and culture provide maximum freedom of thought, speech and action. This cannot be said of Islam or Xianity. – Vedic dharma and culture are eco-friendly. No prescribed dharma practice causes damage to eco-system. – A Vedic has a lot of choice for whom he/she wants to worship. A Vedic can choose to think god as formless, or with one of many specific forms and names as provided Vedic scriptures. This cannot be said of Islam or Xianity. – A Vedic can worship the Supreme God with any of the form (Rama, Krish,a Buddhs, Narashima, Shiva, etc.) or can worship any deva (Indra, varun, Agni, etc.), or any goddess (e.g. Amba, kali, Gurga, etc.). This type of versality is not available in Islam or Xianity. – Any Vedic knows that to speed up spiritual advancement one has to be vegetarian. Islam and Xianity do not understand this. – etc. Based on the above reasons, we the Hindus of Hindustan, which is homeland for the Hindus since millenniums, do not want to give legal status to intolerant religions or ideologies. Jainism, Buddhism, and Sikhism are offshoots from the Vedic dharma and so are not any problem for Hindustan. Note that while most Muslim countries have all religions, except Islam, illegal; in Hindustan we want all religions, except intolerant religions and ideologies, legal. This I call selective multi-mutualism (SMC). jai sri Krishna! -sv Vedic preacher and purohit