Feeds:
Posts
Comments
untitled

Remarkably humanitarian work!

From: Gajanan Nerkar < >

 

Reasons why most Indians are against beef

& why most of them love to worship Cow.

 

The very first thing that we should know is that there are 3600 butcher houses in India that carries a license to kill cows. Other than that, there are almost 36,000 butcher houses in India that are running illegally. Almost 2, 50, 00,000 cows are killed annually. Apart from that 1.25 crore buffaloes, 2 – 3 crore pigs and countless other smaller animals like goat, poultry, etc. are killed, making India as butchering capital of the world.

 

Looking at this, in 1998, few of the think alike people grouped with Rajiv Bhai and filed a case in Supreme Court. There are two institutions named – ‘Akhil Bhartiye Gou Sevak Sangh’, with which Rajiv Bhai was associated (headquarter located in Vardha, hometown of Rajiv Bhai) and other is ‘Ahimsa Army Thrust’; together filed the case. Eventually Gujarat Government also joined them.

 

Now the case that was filed said that the cow and other cattle should not be butchered. The butchers were the other party and asked – ‘why should the cattle not killed?’

Rajiv Bhai requested that this matter is far serious matter and a bigger bench, and not just 2 judges, should address this issue. It took almost 3-4 years for Supreme Court to agree to this condition and it finally created a constitutional bench. A seven-judge constitutional bench was created under the chairmanship of ex-Chief Justice of India, Shri R. C. Lahoti. The hearing was carried on from 2004 to September 2005.

 

The butchers appointed some of most prestigious lawyers, with fees as high as 50 lakhs, as their advocate. Some of such lawyers are – Soli Sorabji (Fees – 20 lakh), Kapil Sibbal (Fees – 22 Lakh), and Mahesh Jeth Malani, son of Ram Jeth Malani (Fees – 32 to 35 Lack), all on the butchers’ side!

 

Rajiv Bhai couldn’t get a lawyer as he did not have enough money to hire one. So, he told the court about this. The court suggested – ‘what if we assign you a lawyer?’ Rajiv Bhai responded by saying – ‘That would really help, but if you would allow us to argue for our own case then that it would be really great’. The court agreed and assigned him an M E Eskuri and thereafter they started fighting their case.

 

So, the butchers put forward the same arguments that people like Sharad Pawar, Nehru or similar people with a Miraculized education system had been vocalizing for long.

First sophistry (ill argument) given by butchers was –

 

  1. There is no use in saving an old cow. We are strengthening the Indian Economy as the meat is exported.

 

Second ill argument –

 

  1. There is lack of proper fodder for cows and cattle. It is better to kill them than letting them die of hunger.

 

Third ill argument was –

 

  1. There is no place for people to live in India, then where will be the cattle reared?

 

Fourth Argument –

 

  1. We get precious foreign currency with its export.

 

And the most dangerous of all arguments given by the butchers were –

 

  1. Butchering cattle is their religious right.

 

Do you know who the butchers were who gave this argument? Among the Muslim community there is a subcategory known as ‘Qhureshis’ who out of all Muslims kill most. It was them who presented this argument.

 

Without expressing any anger and with immense patience, Rajiv Bhai presented the facts and figures for the ill arguments given by the butchers.

 

For the first ill argument Rajiv Bhai presented evidences to the court, i.e. if a cow is butchered then country earns money as well as precious foreign currency through export. He started by presenting facts and figures on the scenario – if a cow is killed then how much meat, blood and bones are collected.

A healthy cow weigh around 3 to 3.5 quintal and when it is butchered then about 70 kilo meat is extracted. One kilo meat is exported at the rate of about Rs. 50, so that means 70 kilo will give around Rs. 3,500 (70×50)!

 

Now, about 25 liters of blood is extracted out of the same healthy cow, which fetch about Rs. 1500 to 2000.

 

About 30-35 kilo bones are also extracted that is sold for about Rs. 1,000 to 1,200.

So ultimately when a cow is butchered and sold as parts, then no more than Rs. 7,000 is earned.

 

Thereafter, Rajiv Bhai presented the exact opposite argument. What if a cow is not killed? What if it is reared, then how much can be earned out of it? Its calculation is as follows –

 

A healthy cow gives around 10 kilos of gobar or cow dung and about 3 liters of gau mutra or urine. Out of 1 kilo gobar/cow dung about 33 kilos manure is made, which is also known as organic manure. At this point the judge asked – ‘how is it possible?’

 

Rajiv Bhai asked for some time and a place to prove his point. Court acknowledged and Rajiv Bhai proved his point by actually producing 33 kilos organic manure by using 1 kilo gobar or cow dung. He asked the court to call the IRC scientists to get it tested. After test, it was proved that this manure contains all essential 18 micronutrients that soil of a cultivated field needs, like manganese, phosphate, potassium, calcium, iron, cobalt, silicon, etc. Artificial fertilizers rarely contain more than 3 minerals. Therefore, cow dung manure is ten times better that the artificial one. This court acknowledged.

 

Then Rajiv Bhai suggested that if it is not against the court protocol then the judge can come and see how we make 33 kilo organic manure from 1 kilo cow dung in our own village. He said that his parents are working on this from last 15 years.

 

Furthermore, 1 kilo organic manure is sold in international market for about Rs.6. Therefore, on daily basis 10 kilo cow dung fetch around Rs. 1,800 to 2,000

(330 kilo manure from 10 kilo cow dung @ of Rs.6).

 

And then there are no Sundays or weekly off in getting cow dung. Therefore in 365 days/ years we can earn about –

1,800 x 365 = Rs. 6,57,000/year out of cow dung

 

On an average, a cow’s age is about 20 years and it keep giving cow dung till its last day. It may not be beyond imagination that how much one can earn just by cow’s cow dung. It goes in millions.

1,800 x 365 x 20 = Rs. 1,31,40,000

 

Thousands of years back it was already written in our sacred books that goddess Laxmi reside in Cow’s cow dung. How true could it be now!!!

 

This argument is a slap in the face of that elite generation who went through the Macaulized education system, and who consider our religion, culture and teachings as mere hypocrisy, and who laugh at the thought of Goddess Laxmi residing in cow’s cow dung!

 

Now let’s talk about gau mutra or urine.

 

A cow gives around 2 to 2.25 liters of urine per day. Urine is useful in making medicine for diabetes, arthritis, bronchitis, bronchial asthma, tuberculosis, osteomyelitis etc. and some 48 various other diseases!

 

1 liter urine is sold in market for about Rs. 500 and that also in Indian market. In international market a liter of urine can fetch far more. Did you know that in America gau mutra or urine is patented? There is not just one patent but three different patents. And, that the American government import cow’s urine every year from India and make medicine for cancer, diabetes etc. So if we calculate according to the American market then a liter of cow’s urine can get about Rs. 1,200 to 1,300. That means just out of cows urine we can earn about Rs. 3,000 daily. Therefore

 

in a years we can earn – 3,000 x 365 = 10,95,000

in 20 years we can earn – 3000 x 365 x 20 = 2,19,00,000

millions again by just selling urine!!!

 

The same cow’s cow dung can also produce methane gas, which can be used as an alternate to LPG in our kitchen to cook food and also to run a vehicle – yes even a four-wheel vehicle! Exactly the way a vehicle can run on LPG gas, a vehicle can also run on methane gas.

 

The Judge could not believe it. Thus, Rajiv Bhai said that if you allow then we will fit a methane gas cylinder in your car. You can test drive it yourself. Judge gave his permission. Judge used this for three full months!!! He said that the expense is also way less – just 50 to 60 paisa per kilometer and in diesel it comes around Rs. 4 per kilometer! And unlike diesel, there is no smoke generated from the burning of methane. Plus, there is rarely any sound pollution in vehicle running on methane gas. Judge was impressed.

 

Now Rajiv bhai extended his argument. If we get 10 kilo cow dung/day then how much methane gas can be produced out of it per year and in 20 years? There are 17 crore cows in our country then if we collect cow dung of all these cows and use it to make methane then we can get about 1 lakh 32 thousand crore! We can run our whole transportation without diesel, without petrol. Then we won’t have to beg the Arabs for crude oil and America for it currency to buy the crude oil. In this way, our Rupee will also get strengthen.

 

Supreme Court was shaken and stormed after listening to Rajiv Bhai’s calculations. Finally judge had to agree that it far more economical to save cow than to kill it.

 

When the court’s opinion came then the Muslim butchers were furious. They thought that the case is getting out of their hand. They already told the court that a cow can fetch about Rs. 7,000. But here Rajiv Bhai proved that a single cow could in fact earn millions and even billions of Rupees.

 

Thereafter, the frustrated butchers finally played their trump card. They said that killing or butchering cows is their religious right.

 

Rajiv Bhai counter argued that if it is their religious right then why don’t we go into history and find out how many Muslim rulers used this religious right. The court agreed and asked to make a commission to find, by making in-depth analysis of all the historic documents, whether or not the Muslim rulers in India ever utilized this right?

 

Old historical documents were researched and it was discovered that none of the Muslim rulers in India ever supported killing of cow. In fact, against that some of them made laws to stop butchering of cows under their rule! One out of them was Babar. He had written in his book ‘Babarnama’ that cows should not be killed even after his death and that this law should be continued. His son Humayun continued this law and many others who came after him including Aurangzeb.

 

Other than that, in south India there was a king known as Hyder Ali, Tipu Sultan’s father, who made a law that if someone, is caught killing a cow then his head will be cut off. Many were punished under this law. Tipu Sultan, when he became the king then he also continued this law except that instead of cutting head he would cut hands of those who killed cows.

 

When these facts were shown to the court then Rajiv Bhai argued that if it was a religious right of a Muslim to kill cows then Babar and Humayun were staunch Muslims, Aurangzeb was even stauncher. Then why did they not killed cows and made laws against it?

 

Afterward, Rajiv Bhai asked court to allow him to get the Koran Sharif, Hadid and other religious books and asked to point out where it was written that it is ok to kill cows or cattle. It was found that none of the religious books ask to kill cows. Hadid in fact asks to save cows as it says it saves you. Pegambar Mohammad Sahib states that cow is an innocent animal therefore one should take mercy on it. At one place it is written that if you kill cow then you will not even get a place in hell.

 

So Rajiv Bhai questioned – ‘If Koran, Mohammad Sahib and Hadid say so, then how is it possible that killing cattle or cows is a religious right? Please ask the butchers. If there is any book in mecca medina, unknown to him, then the butchers can get that too.’ On hearing this butcher got mad.

 

Then court gave the butchers a last chance. It asked them to get any document, religious book that suggest and support killing of cows. But the butchers could not get any.

 

So, the court gave its ruling on 26 October 2005. A copy of Judgment can be downloaded from –

www. supremecourtcaselaw.com

 

In its 66-page Judgment, Supreme Court created history. It says that to kill cow is a constitutional and religious sin. And it also says that it is the constitutional duty of every citizen as well as the government to protect cow. As you may know some of the constitutional duties are – to abide by the constitution, respect national flag, respect freedom fighters, to uphold and protect the sovereignty, unity and integrity of India etc. And now it will also include protecting cows!

 

Supreme Court said that it is the responsibility of all 34 States and Union Territories government that they should stop the killing of cows in their territory. It will be the constitutional responsibility of the Governor, Chief Minister and Chief Secretary as well.

 

And finally, how can we forget Mangal Pandey who sacrificed his life just to avoid cow’s meat coated cartridge to get in his mouth. He killed the English officer who forced him to do so. In fact, our freedom struggle started with saving of cows. Therefore, we should consider it as important as our freedom.

 

Thanks for your patience to read the whole post.

 

Regards.

Gajanan Nerkar

From: Vivek Arya < >

दलित मुस्लिम एकता की जमीनी हकीकत
डॉ विवेक आर्य
आजकल देश में सहारनपुर दंगों को लेकर चर्चा जोरों पर है। दैनिक जागरण 23 मई 2017 के दिल्ली संस्करण में सहारनपुर दंगों के कारणों के पीछे पुलिस द्वारा दर्ज करवाई गई खुफिया रिपोर्ट छपी है।  इस रिपोर्ट में कहा गया है कि दलित-मुस्लिम गठजोड़ को स्थापित करने के लिए यह दंगा फसाद करवाया गया हैं। दलित समाज से सम्बंधित कुछ लोग दंगा करवाकर दलितों को भड़काना चाहते है। उनका मुख्य प्रयोजन दलित-मुस्लिम गठजोड़ बनाकर अपना वोट बैंक स्थापित करना है।  यह येन-केन-प्रकारेण सत्ता हासिल करने की कवायद है। इन नेताओं ने यह सोचा कि दलितों और मुस्लिमों के वोट बैंक को संयुक्त कर दे दे तो 35% से 50% वोट बैंक आसानी से बन जायेगा और उनकी जीत सुनिश्चित हो जाएगी। जबकि सत्य विपरीत है। दलितों और मुस्लिमों का वोट बैंक बनना असंभव हैं। क्योंकि जमीनी स्तर पर दलित हिन्दू समाज सदियों से मुस्लिम आक्रांताओं द्वारा प्रताड़ित होता आया हैं।
1. मुसलमानों ने दलितों को मैला ढोने के लिए बाध्य किया
भारत देश में मैला ढोने की कुप्रथा कभी नहीं थी। मुस्लिम समाज में बुर्के का प्रचलन था। इसलिए घरों से शौच उठाने के लिए हिंदुओं विशेष रूप से दलितों को मैला ढोने के लिए बाधित किया गया। जो इस्लाम स्वीकार कर लेता था। वह इस अत्याचार से छूट जाता था। धर्म स्वाभिमानी दलित हिंदुओं ने अमानवीय अत्याचार के रूप में मैला ढोना स्वीकार किया। मगर अपने पूर्वजों का धर्म नहीं छोड़ा। फिर भी अनेक दलित प्रलोभन और दबाव के चलते मुसलमान बन गए।
2. इस्लाम स्वीकार करने के बाद भी दलितों को बराबरी का दर्जा नहीं मिला।
दलितों को  इस्लाम स्वीकार करने के बाद भी बराबरी का दर्जा नहीं मिला। इसका मुख्य कारण इस्लामिक भेदभाव था।  डॉ अम्बेडकर इस्लाम में प्रचलित जातिवाद से भली प्रकार से परिचित थे। वे जानते थे कि मुस्लिम समाज में अरब में पैदा हुए मुस्लिम (शुद्ध रक्त वाले)अपने आपको उच्च समझते है और धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम बने भारतीय दूसरे दर्जे के माने जाते हैं। अपनी पुस्तक पाकिस्तान और भारत के विभाजन, अम्बेडकर वांग्मय खंड 15 में उन्होंने स्पष्ट लिखा है-
१. ‘अशरफ’ अथवा उच्च वर्ग के मुसलमान (प) सैयद, (पप) शेख, (पपप) पठान, (पअ) मुगल, (अ) मलिक और (अप) मिर्ज़ा।
२. ‘अज़लफ’ अथवा निम्न वर्ग के मुसलमान
इसलिए जो दलित मुस्लिम बन गए वे दूसरे दर्जे के ‘अज़लफ’ मुस्लिम कहलाये। उच्च जाति वाले  ‘अशरफ’ मुस्लिम नीच जाति वाले  ‘अज़लफ’ मुसलमानों से रोटी-बेटी का रिश्ता नहीं रखते। ऊपर से शिया-सुन्नी, देवबंदी-बरेलवी के झगड़ों का मतभेद। सत्य यह है कि इस्लाम में समानता और सदभाव की बात करने और जमीनी सच्चाई एक दूसरे के विपरीत थी। इसे हम हिंदी की प्रसिद्द कहावत चौबे जी गए थे छबे जी बनने दुबे जी बन कर रह गए से भली भांति समझ सकते है।
3. दलित समाज में मुसलमानों के विरुद्ध प्रतिक्रिया
दलितों ने देखा कि इस्लाम के प्रचार के नाम पर मुस्लिम मौलवी दलित बस्तियों में प्रचार के बहाने आते और दलित हिन्दू युवक-युवतियों को बहकाने का कार्य करते। दलित युवकों को बहकाकर उन्हें गोमांस खिला कर अपभ्रष्ट कर देते थे और दलित लड़कियों को भगाकर उन्हें किसी की तीसरी या चौथी बीवी बना डालते थे।  दलित समाज के होशियार चौधरियों ने इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए एक व्यावहारिक युक्ति निकाली।  उन्होंने प्रतिक्रिया रूप से दलितों ने सूअरों को पालना शुरू कर दिया था। एक सुअरी के अनेक बच्चे एक बार में जन्मते। थोड़े समय में [पूरी दलित बस्ती में सूअर ही सूअर दिखने लगे।  सूअरों से मुस्लिम मौलवियों को विशेष चिढ़ थी। सूअर देखकर मुस्लिम मौलवी दलितों की बस्तियों में इस्लाम के प्रचार करने से हिचकते थे। यह एक प्रकार का सामाजिक बहिष्कार रूपी प्रतिरोध था। पाठक समझ सकते है कैसे सूअरों के माध्यम से दलितों ने अपनी धर्मरक्षा की थी। उनके इस कदम से उनकी बस्तियां मलिन और बिमारियों का घर बन गई। मगर उन्हें मौलवियों से छुटकारा मिल गया।
4. दलित हिंदुओं का सवर्ण हिंदुओं के साथ मिलकर संघर्ष
जैसे सवर्ण हिन्दू समाज मुसलमानों के अत्याचारों से आतंकित था वैसे ही हिन्दू दलित भी उनके अत्याचारों से पूरी तरह आतंकित था। यही कारण था जब जब हिंदुओं ने किसी मुस्लिम हमलावर के विरोध में सेना को एकत्र किया। तब तब सवर्ण एवं दलित दोनों हिंदुओं ने बिना किसी भेदभाव के एक साथ मिलकर उनका प्रतिवाद किया। मैं यहाँ पर एक प्रेरणादायक घटना कोउदहारण देना चाहता हूँ। तैमूर लंग ने जब भारत देश पर हमला किया तो उसने क्रूरता और अत्याचार की कोई सीमा नहीं थी। तैमूर लंग के अत्याचारों से पीड़ित हिन्दू जनता ने संगठित होकर उसका सामना करने का निश्चय किया। खाप नेता धर्मपालदेव के नेतृत्व में पंचायती सेना को एकत्र किया गया। इस सेना के दो उपप्रधान सेनापति थे। इस सेना के सेनापति जोगराजसिंह नियुक्त हुए थे जबकि उपप्रधान सेनापति – (1) धूला भंगी (बालमीकी) (2) हरबीर गुलिया जाट चुने गये। धूला भंगी जि० हिसार के हांसी गांव (हिसार के निकट) का निवासी था। यह महाबलवान्, निर्भय योद्धा, गोरीला (छापामार) युद्ध का महान् विजयी धाड़ी  था। जिसका वजन 53 धड़ी था। उपप्रधान सेनापति चुना जाने पर इसने भाषण दिया कि – “मैंने अपनी सारी आयु में अनेक धाड़े मारे हैं। आपके सम्मान देने से मेरा खूब उबल उठा है। मैं वीरों के सम्मुख प्रण करता हूं कि देश की रक्षा के लिए अपना खून बहा दूंगा तथा सर्वखाप के पवित्र झण्डे को नीचे नहीं होने दूंगा। मैंने अनेक युद्धों में भाग लिया है तथा इस युद्ध में अपने प्राणों का बलिदान दे दूंगा।” यह कहकर उसने अपनी जांघ से खून निकालकर प्रधान सेनापति के चरणों में उसने खून के छींटे दिये। उसने म्यान से बाहर अपनी तलवार निकालकर कहा “यह शत्रु का खून पीयेगी और म्यान में नहीं जायेगी।” इस वीर योद्धा धूला के भाषण से पंचायती सेना दल में जोश एवं साहस की लहर दौड़ गई और सबने जोर-जोर से मातृभूमि के नारे लगाये। (सन्दर्भ-जाट वीरों का इतिहास: दलीप सिंह अहलावत, पृष्ठान्त-380)
दूसरा उपप्रधान सेनापति हरबीरसिंह जाट था । यह हरयाणा के जि० रोहतक गांव बादली का रहने वाला था। इसकी आयु 22 वर्ष की थी और इसका वजन 56 धड़ी (7 मन) था। यह निडर एवं शक्तिशाली वीर योद्धा था।उप-प्रधानसेनापति हरबीरसिंह गुलिया ने अपने पंचायती सेना के 25,000 वीर योद्धा सैनिकों के साथ तैमूर के घुड़सवारों के बड़े दल पर भयंकर धावा बोल दिया जहां पर तीरों तथा भालों से घमासान युद्ध हुआ। इसी घुड़सवार सेना में तैमूर भी था। हरबीरसिंह गुलिया ने आगे बढ़कर शेर की तरह दहाड़ कर तैमूर की छाती में भाला मारा जिससे वह घोड़े से नीचे गिरने ही वाला था कि उसके एक सरदार खिज़र ने उसे सम्भालकर घोड़े से अलग कर लिया। तैमूर इसी भाले के घाव से ही अपने देश समरकन्द में पहुंचकर मर गया। वीर योद्धा हरबीरसिंह गुलिया पर शत्रु के 60 भाले तथा तलवारें एकदम टूट पड़ीं जिनकी मार से यह योद्धा अचेत होकर भूमि पर गिर पड़ा। उसी समय प्रधान सेनापति जोगराजसिंह गुर्जर ने अपने 22000 मल्ल योद्धाओं के साथ शत्रु की सेना पर धावा बोलकर उनके 5000 घुड़सवारों को काट डाला। जोगराजसिंह ने स्वयं अपने हाथों से अचेत हरबीर सिंह को उठाकर यथास्थान पहुंचाया। परन्तु कुछ घण्टे बाद यह वीर योद्धा वीरगति को प्राप्त हो गया। हरद्वार के जंगलों में तैमूरी सेना के 2805 सैनिकों के रक्षादल पर भंगी कुल के उपप्रधान सेनापति धूला धाड़ी वीर योद्धा ने अपने 190 सैनिकों के साथ धावा बोल दिया। शत्रु के काफी सैनिकों को मारकर ये सभी 190 सैनिक एवं धूला धाड़ी अपने देश की रक्षा हेतु वीरगति को प्राप्त हो गये।
हमारे महान इतिहास की इस लुप्त प्रायः घटना को यहाँ देने के दो प्रयोजन है।  पहला तो यह सिद्ध करना कि हिन्दू समाज को अगर अपनी रक्षा करनी है तो उसे जातिवाद के भेद को भूलकर संगठित होकर विधर्मियों का सामना करना होगा। दूसरा इससे यह भी सिद्ध होता है कि उस काल में जातिवाद का प्रचलन नहीं था। धूला भंगी (बालमीकी) अपनी योग्यता, अपने क्षत्रिय गुण,कर्म और स्वभाव के कारण सवर्ण और दलित सभी की मिश्रित धर्मसेना का नेतृत्व किया।
जातिवाद रूपी विषबेल हमारे देश में पिछली कुछ शताब्दियों में ही पोषित हुई।  वर्तमान में भारतीय राजनीति ने इसे अधिक से अधिक गहरा करने के अतिरिक्त कुछ नहीं किया।
5. भक्ति काल के दलित संतों जैसे रविदास, कबीरदास द्वारा इस्लाम की मान्यताओं की कटु आलोचना
अगर इस्लाम दलितों के लिए हितकर होता तो हिन्दू समाज में उस काल में धर्म के नाम पर प्रचलित अन्धविश्वास और अंधपरंपराओं पर तीखा प्रहार करने वाले दलित संत इस्लाम की भरपेट प्रशंसा करते। इसके विपरीत भक्ति काल के दलित संतों जैसे रविदास, कबीरदास द्वारा इस्लाम की मान्यताओं की कटु आलोचना करते मिलते है।
संत रविदास का चिंतन
मुस्लिम सुल्तान सिकंदर लोधी अन्य किसी भी सामान्य मुस्लिम शासक की तरह भारत के हिन्दुओं को मुसलमान बनाने की उधेड़बुन में लगा रहता था। इन सभी आक्रमणकारियों की दृष्टि ग़ाज़ी उपाधि पर रहती थी। सुल्तान सिकंदर लोधी ने संत रविदास जी महाराज मुसलमान बनाने की जुगत में अपने मुल्लाओं को लगाया। जनश्रुति है कि वो मुल्ला संत रविदास जी महाराज से प्रभावित हो कर स्वयं उनके शिष्य बन गए और एक तो रामदास नाम रख कर हिन्दू हो गया। सिकंदर लोदी अपने षड्यंत्रा की यह दुर्गति होने पर चिढ़ गया और उसने संत रविदास जी को बंदी बना लिया और उनके अनुयायियों को हिन्दुओं में सदैव से निषिद्ध खाल उतारने, चमड़ा कमाने, जूते बनाने के काम में लगाया। इसी दुष्ट ने चंवर वंश के क्षत्रियों को अपमानित करने के लिये नाम बिगाड़ कर चमार सम्बोधित किया। चमार शब्द का पहला प्रयोग यहीं से शुरू हुआ। संत रविदास जी महाराज की ये पंक्तियाँ सिकंदर लोधी के अत्याचार का वर्णन करती हैं।
वेद धर्म सबसे बड़ा, अनुपम सच्चा ज्ञान
फिर मैं क्यों छोड़ूँ इसे पढ़ लूँ झूट क़ुरान
वेद धर्म छोड़ूँ नहीं कोसिस करो हजार
तिल-तिल काटो चाही गोदो अंग कटार
चंवर वंश के क्षत्रिय संत रविदास जी के बंदी बनाने का समाचार मिलने पर दिल्ली पर चढ़ दौड़े और दिल्लीं की नाकाबंदी कर ली। विवश हो कर सुल्तान सिकंदर लोदी को संत रविदास जी को छोड़ना पड़ा । इस झपट का ज़िक्र इतिहास की पुस्तकों में नहीं है मगर संत रविदास जी के ग्रन्थ रविदास रामायण की यह पंक्तियाँ सत्य उद्घाटित करती हैं
बादशाह ने वचन उचारा । मत प्यादरा इसलाम हमारा ।।
खंडन करै उसे रविदासा । उसे करौ प्राण कौ नाशा ।।
जब तक राम नाम रट लावे । दाना पानी यह नहीं पावे ।।
जब इसलाम धर्म स्वीरकारे । मुख से कलमा आप उचारै ।।
पढे नमाज जभी चितलाई । दाना पानी तब यह पाई ।।
जैसे उस काल में इस्लामिक शासक हिंदुओं को मुसलमान बनाने के लिए हर संभव प्रयास करते रहते थे वैसे ही आज भी कर रहे हैं। उस काल में दलितों के प्रेरणास्रोत्र संत रविदास सरीखे महान चिंतक थे। जिन्हें अपने प्रान न्योछावर करना स्वीकार था मगर वेदों को त्याग कर क़ुरान पढ़ना स्वीकार नहीं था।
इस्लाम की आलोचना करने वाले संत रविदास श्री राम का गुणगान करते मिलते है। प्रमाण देखिये-
1. हरि हरि हरि हरि हरि हरि हरि
    हरि सिमरत जन गए निस्तरि तरे।१। रहाउ।।
    हरि के नाम कबीर उजागर ।। जनम जनम के काटे कागर ।।१।।
    निमत नामदेउ दूधु पिआइआ।। तउ जग जनम संकट नहीं आइआ ।।२।।
    जन रविदास राम रंगि राता ।। इउ गुर परसादी नरक नहीं जाता ।।३।।
– आसा बाणी स्त्री रविदास जिउ की, पृष्ठ 487
 सन्देश- इस चौपाई में संत रविदास जी कह रहे है कि जो राम के रंग में (भक्ति में) रंग जायेगा वह कभी नरक नहीं जायेगा।
 2. जल की भीति पवन का थंभा रकत बुंद का गारा।
हाड मारा नाड़ी को पिंजरु पंखी बसै बिचारा ।।१।।
प्रानी किआ मेरा किआ तेरा।।  जेसे तरवर पंखि बसेरा ।।१।। रहाउ।।
राखउ कंध उसारहु नीवां ।। साढे तीनि हाथ तेरी सीवां ।।२।।
बंके वाल पाग सिरि डेरी ।।इहु तनु होइगो भसम की ढेरी ।।३।।
ऊचे मंदर सुंदर नारी ।। राम नाम बिनु बाजी हारी ।।४।।
मेरी जाति कमीनी पांति कमीनी ओछा जनमु हमारा ।।
तुम सरनागति राजा राम चंद कहि रविदास चमारा ।।५।।
– सोरठी बाणी रविदास जी की, पृष्ठ 659
सन्देश- रविदास जी कह रहे है कि राम नाम बिना सब व्यर्थ है।
कबीर दास का चिंतन
कबीर दास इस्लामिक सुन्नत, रोजा, नमाज़, कलमा, काबा, बांग और ईद पर क़ुरबानी का स्पष्ट खंडन करते थे। सिखों के प्रसिद्द ग्रन्थ गुरु ग्रन्थ साहिब में कबीर साहिब के इस्लाम संबंधी चिंतन को यहाँ पर प्रस्तुत किया जा रहा है।
1. सुन्नत का खंडन
 काजी तै कवन कतेब बखानी ॥
पदत गुनत ऐसे सभ मारे किनहूं खबरि न जानी ॥१॥ रहाउ ॥
सकति सनेहु करि सुंनति करीऐ मै न बदउगा भाई ॥
जउ रे खुदाइ मोहि तुरकु करैगा आपन ही कटि जाई ॥२॥
सुंनति कीए तुरकु जे होइगा अउरत का किआ करीऐ ॥
अरध सरीरी नारि न छोडै ता ते हिंदू ही रहीऐ ॥३॥
छाडि कतेब रामु भजु बउरे जुलम करत है भारी ॥
कबीरै पकरी टेक राम की तुरक रहे पचिहारी ॥४॥८॥
                                                       सन्दर्भ- राग आसा कबीर पृष्ठ 477
अर्थात कबीर जी कहते हैं ओ काजी तो कौनसी किताब का बखान करता है। पढ़ते हुऐ, विचरते हुऐ सब को ऐसे मार दिया जिनको पता ही नहीं चला। जो धर्म के प्रेम में सख्ती के साथ मेरी सुन्नत करेगा सो मैं नहीं कराऊँगा। यदि खुदा सुन्नत करने ही से ही मुसलमान करेगा तो अपने आप लिंग नहीं कट जायेगा। यदि सुन्नत करने से ही मुस्लमान होगा तो औरत का क्या करोगे? अर्थात कुछ नहीं और अर्धांगि नारी को छोड़ते नहीं इसलिए हिन्दू ही रहना अच्छा है। ओ काजी! क़ुरान को छोड़! राम भज१ तू बड़ा भारी अत्याचार कर रहा है, मैंने तो राम की टेक पकड़ ली हैं, मुस्लमान सभी हार कर पछता रहे है।
2. रोजा, नमाज़, कलमा, काबा का खंडन
रोजा धरै निवाज गुजारै कलमा भिसति न होई ॥
सतरि काबा घट ही भीतरि जे करि जानै कोई ॥२॥
सन्दर्भ- राग आसा कबीर पृष्ठ 480
अर्थात मुसलमान रोजा रखते हैं और नमाज़ गुजारते है। कलमा पढ़ते है।  और कबीर जी कहते  हैं  इन किसी से बहिश्त न होगी। इस घट (शरीर) के अंदर ही 70 काबा के अगर कोई विचार कर देखे तो।
कबीर हज काबे हउ जाइ था आगै मिलिआ खुदाइ ॥
सांई मुझ सिउ लरि परिआ तुझै किन्हि फुरमाई गाइ ॥१९७॥
सन्दर्भ- राग आसा कबीर पृष्ठ 1375
अर्थात कबीर जी कहते हैं मैं हज करने काबे जा रहा था आगे खुदा मिल गया , वह खुदा मुझसे लड़ पड़ा और बोला ओ कबीर तुझे किसने बहका दिया।
3. बांग का खंडन
कबीर मुलां मुनारे किआ चढहि सांई न बहरा होइ ॥
जा कारनि तूं बांग देहि दिल ही भीतरि जोइ ॥१८४॥
सन्दर्भ- राग आसा कबीर पृष्ठ 1374
अर्थात कबीर जी कहते हैं की ओ मुल्ला। खुदा बहरा नहीं जो ऊपर चढ़ कर बांग दे रहा है। जिस कारण तू बांग दे रहा हैं उसको दिल ही में तलाश कर।
4. हिंसा (क़ुरबानी) का खंडन
जउ सभ महि एकु खुदाइ कहत हउ तउ किउ मुरगी मारै ॥१॥
मुलां कहहु निआउ खुदाई ॥ तेरे मन का भरमु न जाई ॥१॥ रहाउ ॥
पकरि जीउ आनिआ देह बिनासी माटी कउ बिसमिलि कीआ ॥
जोति सरूप अनाहत लागी कहु हलालु किआ कीआ ॥२॥
किआ उजू पाकु कीआ मुहु धोइआ किआ मसीति सिरु लाइआ ॥
जउ दिल महि कपटु निवाज गुजारहु किआ हज काबै जाइआ ॥३॥
सन्दर्भ विलास प्रभाती कबीर पृष्ठ 1350
अर्थात कबीर जी कहते है ओ मुसलमानों। जब तुम सब में एक ही खुद बताते हो तो तुम मुर्गी को क्यों मारते हो। ओ मुल्ला! खुदा का न्याय विचार कर कह। तेरे मन का भ्रम नहीं गया है। पकड़ करके जीव ले आया, उसकी देह को नाश कर दिया, कहो मिटटी को ही तो बिस्मिल किया।  तेरा ऐसा करने से तेरा पाक उजू क्या, मुह धोना क्या, मस्जिद में सिजदा करने से क्या, अर्थात  हिंसा करने से तेरे सभी काम बेकार हैं।
कबीर भांग माछुली सुरा पानि जो जो प्रानी खांहि ॥
तीरथ बरत नेम कीए ते सभै रसातलि जांहि ॥२३३॥
सन्दर्भ विलास प्रभाती कबीर पृष्ठ 1377
अर्थात कबीर जी कहते हैं जो प्राणी भांग, मछली और शराब पीते हैं, उनके तीर्थ व्रत नेम करने पर भी सभी रसातल को जायेंगे।
 रोजा धरै मनावै अलहु सुआदति जीअ संघारै ॥
आपा देखि अवर नही देखै काहे कउ झख मारै ॥१॥
काजी साहिबु एकु तोही महि तेरा सोचि बिचारि न देखै ॥
खबरि न करहि दीन के बउरे ता ते जनमु अलेखै ॥१॥ रहाउ ॥
सन्दर्भ रास आगा कबीर पृष्ठ 483
अर्थात ओ काजी साहिब तू रोजा रखता हैं अल्लाह को याद करता है, स्वाद के कारण जीवों को मारता है। अपना देखता हैं दूसरों को नहीं देखता हैं। क्यों समय बर्बाद कर रहा हैं। तेरे ही अंदर तेरा एक खुदा हैं। सोच विचार के नहीं देखता हैं। ओ दिन के पागल खबर नहीं करता हैं इसलिए तेरा यह जन्म व्यर्थ है।
इसके ठीक विपरीत कबीर साहिब श्री राम के गुणगान करते और गौसेवा के लिए प्रेरणा देते मिलते है। प्रमाण देखिये-
कबीर कूता राम का, मुतिया मेरा नाऊँ।गले राम की जेवडी ज़ित खैंचे तित जाऊँ।।”
कबीर निरभै राम जपि, जब लग दीवै बाती।तेल घटया बाती बुझी, सोवेगा दिन राति।।”
” जाति पांति पूछै नहिं कोई। हरि को भजै सो हरि का होई।।”
साधो देखो जग बौराना,सांची कहौं तो मारन धावै,झूठे जग पतियाना।
अब मोहि राम भरोसा तेरा,
जाके राम सरीखा साहिब भाई, सों क्यूँ अनत पुकारन जाई॥
जा सिरि तीनि लोक कौ भारा, सो क्यूँ न करै जन को प्रतिपारा॥
कहै कबीर सेवौ बनवारी, सींची पेड़ पीवै सब डारी॥114॥
कस्तूरी कुंडल बसे, मृग ढूँढत बन माहि !!
!! ज्यो घट घट राम है, दुनिया देखे नाही !!
श्री राम जी के गुणगान के अनेक प्रमाण कबीर रचनावली में मिलते है। बहुत कम लोग जानते है कि कबीर दास ने गौरक्षा के लिए अपना विवाह करवाने से मना कर दिया था। उनके वधुपक्ष वाले उनके विवाह में गोमांस परोसने की योजना बना रहे थे। कबीर दास गौप्रेमी थे। उन्होंने स्पष्ट कह दिया। अगर गौमाता कटी तो वह विवाह नहीं करेंगे। अंत में कबीर दास ने वह गौ एक ब्राह्मण को दे दी। तब जाकर उनका विवाह संपन्न हुआ।
इन सभी प्रमाणों से यह सिद्ध होता है कि दलित संत वेद, तीर्थ, जप, राम-कृष्ण,यज्ञपवीत, गौरक्षा आदि वैदिक परम्पराओं में अटूट विश्वास रखते थे एवं इस्लाम की मान्यताओं के कटु आलोचक थे।
6. डॉ अम्बेडकर का इस्लाम सम्बंधित चिंतन
डॉ अम्बेडकर को इस्लाम स्वीकार करने के अनेक प्रलोभन दिए गए। स्वयं उस काल में विश्व का सबसे धनी व्यक्ति हैदराबाद का निज़ाम इस्लाम स्वीकार करने के लिए बड़ी धनराशि का प्रलोभन देने आया। मगर जातिवाद का कटु विष पीने का अनुभव कर चुके डॉ अम्बेडकर ने न ईसाई मत को स्वीकार किया और न इस्लाम मत को स्वीकार किया। क्योंकि वह जानते थे कि इस्लाम मत स्वीकार करने से दलितों का किसी भी प्रकार से हित नहीं हो सकता। अपनी पुस्तक भारत और पाकिस्तान के विभाजन में उन्होंने इस्लाम मत पर अपने विचार खुल कर प्रकट किये है ,इसीलिए उन्होंने 1947 में पाकिस्तान और बांग्लादेश में रहने वाले सभी हिन्दू दलितों को भारत आने का निमंत्रण दिया था।
  डॉ अम्बेडकर के इस्लाम के विषय में विचार
१. हिन्दू काफ़िर सम्मान के योग्य नहीं-”मुसलमानों के लिए हिन्दू काफ़िर हैं, और एक काफ़िर सम्मान के योग्य नहीं है। वह निम्न कुल में जन्मा होता है, और उसकी कोई सामाजिक स्थिति नहीं होती। इसलिए जिस देश में क़ाफिरों का शासनहो, वह मुसलमानों के लिए दार-उल-हर्ब है ऐसी सति में यह साबित करने के लिए और सबूत देने की आवश्यकता नहीं है कि मुसलमान हिन्दू सरकार के शासन को स्वीकार नहीं करेंगे।” (पृ. ३०४)
२. मुस्लिम भ्रातृभाव केवल मुसलमानों के लिए-”इस्लाम एक बंद निकाय की तरह है, जो मुसलमानों और गैर-मुसलमानों के बीच जो भेद यह करता है, वह बिल्कुल मूर्त और स्पष्ट है। इस्लाम का भ्रातृभाव मानवता का भ्रातृत्व नहीं है, मुसलमानों का मुसलमानों से ही भ्रातृभाव मानवता का भ्रातृत्व नहीं है, मुसलमानों का मुसलमानों से ही भ्रातृत्व है। यह बंधुत्व है, परन्तु इसका लाभ अपने ही निकाय के लोगों तक सीमित है और जो इस निकाय से बाहर हैं, उनके लिए इसमें सिर्फ घृणा ओर शत्रुता ही है। इस्लाम का दूसरा अवगुण यह है कि यह सामाजिक स्वशासन की एक पद्धति है और स्थानीय स्वशासन से मेल नहीं खाता, क्योंकि मुसलमानों की निष्ठा, जिस देश में वे रहते हैं, उसके प्रति नहीं होती, बल्कि वह उस धार्मिक विश्वास पर निर्भर करती है, जिसका कि वे एक हिस्सा है। एक मुसलमान के लिए इसके विपरीत या उल्टे सोचना अत्यन्त दुष्कर है। जहाँ कहीं इस्लाम का शासन हैं, वहीं उसका अपना विश्वासहै। दूसरे शब्दों में, इस्लाम एक सच्चे मुसलमानों को भारत को अपनी मातृभूमि और हिन्दुओं को अपना निकट सम्बन्धी मानने की इज़ाजत नहीं देता। सम्भवतः यही वजह थी कि मौलाना मुहम्मद अली जैसे एक महान भारतीय, परन्तु सच्चे मुसलमान ने, अपने, शरीर को हिन्दुस्तान की बजाए येरूसलम में दफनाया जाना अधिक पसंद किया।”
३. एक साम्प्रदायिक और राष्ट्रीय मुसलमान में अन्तर देख पाना मुश्किल-”लीग को बनाने वाले साम्प्रदायिक मुसलमानों और राष्ट्रवादी मुसलमानों के अन्तर को समझना कठिन है। यह अत्यन्त संदिग्ध है कि राष्ट्रवादी मुसलमान किसी वास्तविक जातीय भावना, लक्ष्य तथा नीति से कांग्रेस के साथ रहते हैं, जिसके फलस्वरूप वे मुस्लिम लीग् से पृथक पहचाने जाते हैं। यह कहा जाता है कि वास्तव में अधिकांश कांग्रेसजनों की धारण है कि इन दोनों में कोई अन्तर नहीं है, और कांग्रेस के अन्दर राष्ट्रवादी मुसलमानों की स्थिति साम्प्रदायिक मुसलमानों की सेना की एक चौकी की तरह है। यह धारणा असत्य प्रतीत नहीं होती। जब कोई व्यक्ति इस बात को याद करता है कि राष्ट्रवादी मुसलमानों के नेता स्वर्गीय डॉ. अंसारी ने साम्प्रदायिक निर्णय का विरोध करने से इंकार किया था, यद्यपिकांग्रेस और राष्ट्रवादी मुसलमानों द्वारा पारित प्रस्ताव का घोर विरोध होने पर भी मुसलमानों को पृथक निर्वाचन उपलब्ध हुआ।” (पृ. ४१४-४१५)
४. भारत में इस्लाम के बीज मुस्लिम आक्रांताओं ने बोए-”मुस्लिम आक्रांता निस्संदेह हिन्दुओं के विरुद्ध घृणा के गीत गाते हुए आए थे। परन्तु वे घृणा का वह गीत गाकर और मार्ग में कुछ मंदिरों को आग लगा कर ही वापस नहीं लौटे। ऐसा होता तो यह वरदान माना जाता। वे ऐसे नकारात्मक परिणाम मात्र से संतुष्ट नहीं थे। उन्होंने इस्लाम का पौधा लगाते हुए एक सकारात्मक कार्य भी किया। इस पौधे का विकास भी उल्लेखनीय है। यह ग्रीष्म में रोपा गया कोई पौधा नहीं है। यह तो ओक (बांज) वृक्ष की तरह विशाल और सुदृढ़ है। उत्तरी भारत में इसका सर्वाधिक सघन विकास हुआ है। एक के बाद हुए दूसरे हमले ने इसे अन्यत्र कहीं को भी अपेक्षा अपनी ‘गाद’ से अधिक भरा है और उन्होंने निष्ठावान मालियों के तुल्य इसमें पानी देने का कार्य किया है। उत्तरी भारत में इसका विकास इतना सघन है कि हिन्दू और बौद्ध अवशेष झाड़ियों के समान होकर रह गए हैं; यहाँ तक कि सिखों की कुल्हाड़ी भी इस ओक (बांज) वृक्ष को काट कर नहीं गिरा सकी।” (पृ. ४९)
५. मुसलमानों की राजनीतिक दाँव-पेंच में गुंडागर्दी-”तीसरी बात, मुसलमानों द्वारा राजनीति में अपराधियों के तौर-तरीके अपनाया जाना है। दंगे इस बात के पर्याप्त संकेत हैं कि गुंडागिर्दी उनकी राजनीति का एक स्थापित तरीका हो गया है।” (पृ. २६७)
दलित मुस्लिम एकता असंभव हैं। हमारे देश का इतिहास, इस्लाम की मान्यताएं, दलित संतों और सबसे बढ़कर डॉ अम्बेडकर के चिंतन, वर्तमान में पाकिस्तान जैसे देश में दलितों की स्थिति देखकर यह स्पष्ट हो जाता हैं। अब भी दलित हिन्दू नहीं सुधरे तो उनका भविष्य घोर अंधकार का शिकार हो जायेगा।

From: Pramod Agrawal < >

 

Maharaja Hari Singh’s Letter to Mountbatten

Text Of Letter Dated October 26, 1947 From Hari Singh, The Maharaja Of Jammu & Kashmir to Lord Mountbatten, Governor General of India.

Dated: 26 October 1947

My dear Lord Mountbatten,

I have to inform your Excellency that a grave emergency has arisen in my State and request immediate assistance of your Government.

As your Excellency is aware the State of Jammu and Kashmir has not acceded to the Dominion of India or to Pakistan. Geographically my State is contiguous to both the Dominions. It has vital economic and cultural links with both of them. Besides my State has a common boundary with the Soviet Republic and China. In their external relations, the Dominions of India and Pakistan cannot ignore this fact.

I wanted to take time to decide to which Dominion I should accede, or whether it is not in the best interests of both the Dominions and my State to stand independent, of course with friendly and cordial relations with both.

I accordingly approached the Dominions of India and Pakistan to enter into Standstill Agreement with my State. The Pakistan Government accepted this Agreement. The Dominion of India desired further discussions with representatives of my Government. I could not arrange this in view of the developments indicated below. In fact, the Pakistan Government are operating Post and Telegraph system inside the State.

Though we have got a Standstill Agreement with the Pakistan Government that Government permitted steady and increasing strangulation of supplies like food, salt and petrol to my State.

Afridis, solidiers in plain clothes, and desperadoes with modern weapons have been allowed to infilter into the State at first in Poonch and then in Sialkot and finally in mass area adjoining Hazara District on the Ramkot side. The result has been that the limited number of troops at the disposal of the State had to be dispersed and thus had to face the enemy at the several points simultaneously, that it has become difficult to stop the wanton destruction of life and property and looting. The Mahora powerhouse which supplies the electric current to the whole of Srinagar has been burnt. The number of women who have been kidnapped and raped makes my heart bleed. The wild forces thus let loose on the State are marching on with the aim of capturing Srinagar, the summer Capital of my Government, as first step to over-running the whole State.

The mass infiltration of tribesmen drawn from distant areas of the North-West Frontier coming regularly in motor trucks using Mansehra-Muzaffarabad Road and fully armed with up-to-date weapons cannot possibly be done without the knowledge of the Provisional Government of the North-West Frontier Province and the Government of Pakistan. In spite of repeated requests made by my Government no attempt has been made to check these raiders or stop them from coming into my State. The Pakistan Radio even put out a story that a Provisional Government had been set up in Kashmir. The people of my State both the Muslims and non-Muslims generally have taken no part at all.

With the conditions obtaining at present in my State and the great emergency of the situation as it exists, I have no option but to ask for help from the Indian Dominion. Naturally they cannot send the help asked for by me without my State acceding to the Dominion of India. I have accordingly decided to do so and I attach the Instrument of Accession for acceptance by your Government. The other alternative is to leave my State and my people to free-booters (looters?). On this basis, no civilized Government can exist or be maintained. This alternative I will never allow to happen as long as I am Ruler of the State and I have life to defend my country.

I am also to inform your Excellency’s Government that it is my intention at once to set up an interim Government and ask Sheikh Abdullah to carry the responsibilities in this emergency with my Prime Minister.

If my State has to be saved, immediate assistance must be available at Srinagar. Mr. Menon is fully aware of the situation and he will explain to you, if further explanation is needed.

In haste and with kind regards,

 

The Palace, Jammu                                 Your sincerely,

26th October, 1947                                   Hari Singh

 

From: Vinay Kapoor < >

Understanding the Value of Money & The Life

 

Someone had been to Ladakh for a week-long family trip. Their local driver was a 28-year old chap named Jigmet. Jigmet’s family consists of his parents, wife & two small girls!

 

This was the conversation with Jigmet, during their journey in deep Himalayan Ranges!

 

Prashant -: At the end of this week tourist season in Ladakh will end. Are you planning to go to Goa, the way Nepali workers from Hotels do?

 

Jigmet -: No, I am local Ladakhi, so I won’t go anywhere in winter!

 

Prashant -: What work will you do in winter?

 

Jigmet -: Nothing, will sit quietly at home (chuckles & winks!)

 

Prashant -: For six months, up to next April?

 

Jigmet -: I have one option for working. It’s to go to Siachen!

 

Prashant: Siachen? What will you do there?

 

Jigmet -: Work as Loader for Indian Army!

 

Prashant -: You mean, you will join Indian Army as Jawan?

 

Jigmet -: No, I have crossed the age limit to join the Army. This is a contract job for Indian Army. With my few friends, also drivers, I will travel 265 kilometers to Siachen Base Camp! My medical examination will be done there to check, if I am fit enough for this job. If I am declared fit, then Army will issue us uniforms, shoes, warm clothing, helmets, etc. We will have to walk up mountains for 15 days to reach Siachen. There is no motorable road to reach Siachen. We will work there for 3 months!

 

Prashant -: What work will you do?

 

Jigmet -: It is of loader. To carry load on our back from one Chowky to other in Siachen. All supplies are airdropped there. We do the job of picking it up & carry it to Chowkies!

 

Prashant -: Why doesn’t the Army use mules or vehicles for shifting of loads?

 

Jigmet -: Siachen is a glacier. Trucks or other vehicles will not work there. Ice scooters make too much sound, which will attract attention from enemy around there. Use of vehicle will result in firing from other side! We go out in the middle of night, generally around 2 am & pick up loads silently & bring back to barracks. We can’t even use a torch. Mules or horses cannot be used because at the altitude of 18,875 feet, in winter temperature of minus 50 degrees no animal will survive!

 

Prashant -: How can you lift load on your back where oxygen levels are low?

 

Jigmet -: We carry maximum 15 kg at a time & we work maximum for 2 hours in a day. Rest of the time is for recouping!

 

Prashant -: That is very risky!

 

Jigmet -: Many of my friends died there. Some of them fell in bottomless crevisses. Some got shot down by enemy bullets. The biggest danger we have in Siachen is of frost bites, but it’s rewarding. We are paid Rs 18,000- per month. Since all expenses are taken care of, we can save around Rs 50,000- in these three months. This money is precious for my family, for my daughter’s education; and finally, I have feeling that I am serving the Indian Army, which means my nation!

 

The value of money & the life we have can be better understood after this exchange!

 

Do not forget to share this with your children.

Let them realize the value of hard earned money!

 

Totally humbling!

 

From: Vinay Kapoor < >

THE METRO MAN – E SREEDHARAN- FINALLY HANGS HIS BOOTS

A legend hangs up his boots On the last day of this month . Finally, Elattuvalapil Sreedharan has been allowed to retire, at the age of 79. A man who built the Calcutta Metro, Konkan Railway and the Delhi Metro. But he is best remembered for re-building in just 46 days the Pamban bridge which in 1963 was blown away by a cyclone into the sea.

Here is a man who is honest to the core, brooked no nonsense and set an example for others. A true leader who walked his talk. He truly deserves the Bharat Ratna. Now he is going to Kerala to fulfill the dreams of Mallus “The Kochin Metro ”

India has much gratitude for this great engineer. He is known as the The “metro man of India”. He is quite a sensational project manager, who almost always gets the project completed on time or before schedule. He fought all the delays caused by bureaucratic red tape, corruption and lack of funds.
Sreedharan’s willpower has moved mountains. He is not just a dreamer but also a builder, but most of all, one who has dedicated his achievements to every Indian. He stands out as a legend in Indian Engineering history. His major projects being the Delhi Metro and the Konkan Railways.

This 75+ year-old Managing Director of the Delhi Metro Rail Corporation only desires the progress of his country. He wanted Delhi to have a world-class metro rail project to change the meaning of urban transport in India. And he did it.

The Konkan Railway project came to him in his retirement. It was a challenging task—-760 km of rail tracks from Mumbai to Kochi through the rugged hills of the Western Ghats. This project was found as not feasible, by the British engineers in pre-independence era. But for Sreedharan nothing was impossible.

Environmentalists protested, politicians said it cannot be done and the project ran short of money.
Sreedharan raised public bonds to finance it, taking everyone ahead.

Kiran Bedi explains why Sreedharan is worthy of the title: “He is not in his 40s or 50s, but he is in his 70s, a time when we normally retire. Sreedharan has given the best metro concept for the railway of the country with integrity, vision, with commitment and with remarkable professional skills. There is no other person better than him in this category.”

Sreedharan insists he does not have any special skills to get the best out of people. “I always found that people cooperate if you work for a good cause,” he says.

Sreedharan studied in an ordinary school & college and later on took his civil engineering degree from a govt engineering college. But he went on to become the boss for hundreds of IIM, IIT graduates!

People still wonder what really makes him tick at 80 while a young man in his 20’s struggles to begin his day at 6 or 7 in the morning. Sreedharan’s day starts at 4 am, meditation and Bhagwad Gita.

He reaches office at 9:30 am and gets straight to work. In the evening, he usually takes a long walk with his wife Radha and allots time to his family of four children. He used to set up reverse clocks to show impending deadlines to his project members during Delhi Metro construction phase.
The message of the Gita: To act, without desire for the fruits of the action gave him the courage to act.

A plate placed in his Kerala office read as: ‘Whatever to be done, I do. But in reality I do not do anything’.

India says thank you sir.
Government of India may or may not award him the Bharat Ratna. But for the countless millions that have travelled on the Pamban bridge, Kolkata Metro, Konkan Railways & Delhi Metro and for the knowledgeable public he is already a Bharat Ratna – a real gem of the rarest variety.

Let’s all recommend his name to Govt for award of Bharat Ratna. Please share this message. Each one to at least one.

 

From: Pramod Agrawal < >

“हिंदुओं के कुछ 24 प्रश्न”

  1. यदि पाकिस्तान और भारत का बँटवारा धर्म के आधार पर हुआ जिसमे पाकिस्तान मुस्लिम राष्ट्र बना तो भारत हिन्दू राष्ट्र क्यूँ घोषित नहीं किया गया? जबकि दुनिया मे एक भी हिन्दू राष्ट्र नहीं है !
  2. तथाकथित राष्ट्र का पिता मोहनदास गांधी ने ऐसा क्यूँ कहा पाकिस्तान से हिन्दू सिखो की लाशे आए तो आए लेकिन यहाँ एक भी मुस्लिम का खून नहीं बहना चाहिए?
  3. मोहनदास करमचंद गांधी चाहते तो भगत सिंह जी को बचा सकते थे पर क्यूँ नहीं बचाया?
  4. भारत मे मुस्लिम के लिए अलग अलग धाराए क्यूँ है?
  5. ऐसा क्यूँ है की भारत से अलग होकर जीतने भी देश बने है सब इस्लामिक देश ही बने । क्यूँ?
  6. केरल मे कोई रिक्शा वाला वाहन चालक हिन्दू श्री कृष्ण जय हनुमान क्यूँ नहीं लिख सकता?
  7. भारत मे मुस्लिम 18% के आस पास है फिर भी अल्पसंख्यक कैसे है? जबकि नियम कहता है की 10% के अंदर की संख्या ही अल्पसंख्यक है

8.कश्मीर से हिन्दुओ को क्यूँ खदेड़ दिया जबकि कश्मीर हिन्दुओ का राज्य था?

  1. ऐसा क्यूँ है की मुस्लिम जहा 30-40% हो जाते है तब अपने लिए अलग इस्लामिक राष्ट्र बनाने की मांग उठाते है विरोध करते है अन्य समुदाय के गले रेतते है क्यूँ?
  2. हिन्दुत्व को सांप्रदायिक क्यूँ ठहराया जाता है जबकि इस्लामिक आतंकवाद को धर्म से नहीं जोड़ने की अपील की जाती है?
  3. हमारा देश ही दुनिया मे एक मात्र देश है जो मुस्लिम को हज सब्सिडी देता है 60 वर्षो मे सरकार ने इसके लिए 10,000 करोड़ रुपये खर्च कर डाले क्यूँ?
  4. भारत मे मुस्लिमो के मदरसो के अनुदान हिन्दू मंदिरो से क्यूँ?
  5. कश्मीर मे गीता उपदेश देने पर संवेधानिक अडचने क्यूँ है?
  6. जामा मस्जिद के इमाम सैयद बुखारी ने एक बार कहा था की वह ओसामा बिन लादेन का समर्थन करता है और आईएसआई का अजेंट है फिर भी भारत सरकार उसे गिरफ्तार क्यूँ नहीं करती?
  7. पाकिस्तान मे 1947 मे 22.45% हिन्दू थे आज मात्र 1.12% शेष है सब कहा गए?
  8. मुगलों द्वारा ध्वस्त किया गया मंदिर सोमनाथ के जीर्णोद्धार की बात आई तो गांधी ने ऐसा क्यूँ कहा की यह सरकारी पैसे का दुरपयोग है जबकि जामा मस्जिद के पुनर्निर्माण के लिए सरकार पर दबाव डाला, अनशन पर बैठे
  9. भारत मे 1947 मे 7.88% मुस्लिम थे आज 18.80% है इतनी आबादी कैसे बढ़ी?
  10. भारत मे मीडिया हिन्दुओ के, संघ के खिलाफ क्यूँ बोलती है?
  11. अकबर के हरम मे 4878 हिन्दू औरते थी, जोधा अकबर फिल्म मे और स्कूली इतिहास मे इसे क्यूँ नहीं छापा गया 20. बाबर ने लाखो हिन्दुओ की हत्या की फिर भी हम उसकी मस्जिद क्यूँ देखना चाहते है?
  12. भारत मे 80% हिन्दू है फिर भी श्री राम मंदिर क्यूँ नहीं बन सकता?
  13. कांग्रेस के शासन मे 645 दंगे हुए है जिसमे 32,427 लोग मारे गए है मीडिया को वो दिखाई नहीं देता है जबकि गुजरात मे प्रतिकृया मे हुए दंगो मे 2000 लोग मारे गए उस पर मीडिया हो इतना हल्ला करती है क्यूँ?
  14. 67 कारसेवकों को गोधरा मे जिंदा जलाया मीडिया उनकी बाते क्यूँ नहीं करती?
  15. जवाहर लाल नेहरू के दादा एक मुस्लिम (गयासुद्दीन गाजी) थे, तो हमें इतिहास मे गलत क्यूँ बताया गया?

 

इसको इतना फैला दो कि हर हिन्दुस्तानी सोचने को मजबूर हो जाय कि आने वाली पीढ़ी को हम क्या दे कर जायेंगे .. और हिंदू देश के हर नागरिक का क्या दायित्व है…

जय हिन्दू , जय भारत